Online se Dil tak

हरियाणा के यह 80000 बच्चे बोर्ड परीक्षाओं में नहीं हो सकेंगे शामिल, यह है बड़ी वजह

हरियाणा में 80 हजार बच्चो का भविष्य खतरे में दिखाई दे रहा है इसका कारण है अस्थायी स्कूलों को एक्सटेंशन न मिलना जिससे यंहा पढ़ने वाले बच्चे बोर्ड फॉर्म भरने से वंचित रहे गए हैं । इस कारण यह बच्चे अब दशमी और बारहवीं की परीक्षा नही दे पाएंगे।

इस बाबत हरियाणा प्राइवेट स्कूल संघ ने हरियाणा मुख्यमंत्री और शिक्षा मंत्री से हस्तक्षेप करने की मांग की है कहां है कि बच्चों के भविष्य को देखते हुए इन स्कूलों के एक्सटेंशन 1 वर्ष के लिए बढ़ा दी जाए ताकि इन बच्चों का भविष्य खराब ना हो और यह बच्चे अपना फार्म भर सके ।

हरियाणा के यह 80000 बच्चे बोर्ड परीक्षाओं में नहीं हो सकेंगे शामिल, यह है बड़ी वजह
हरियाणा के यह 80000 बच्चे बोर्ड परीक्षाओं में नहीं हो सकेंगे शामिल, यह है बड़ी वजह

हरियाणा प्राइवेट स्कूल संघ ने बच्चों के भविष्य पर चिंता जताते हुए कहा है कि यदि इन स्कूलों को एक्सटेंशन नहीं दी गई तो इन बच्चों का भविष्य खतरे में पड़ जाएगा। संघ के प्रदेश अध्यक्ष सत्यवान कुंडू ने कहा कि प्रदेश के करीब 1338 अस्थाई स्कूलों में पहली से 12वीं तक की कक्षाएं लगती है जिनमें करीब 6 लाख बच्चे पढ़ाई करते हैं इनमें से 10वीं और 12वीं में लगभग 80 हजार बच्चे हैं जिन्हें अभी 10वीं और 12वीं के बोर्ड एग्जाम देने हैं।

हरियाणा के यह 80000 बच्चे बोर्ड परीक्षाओं में नहीं हो सकेंगे शामिल, यह है बड़ी वजह

एक्सटेंशन ना होने के कारण यह बच्चे अपने बोर्ड एग्जाम फॉर्म नहीं भर पाए हैं । वही इसके विपरीत सभी सरकारी व स्थाई मान्यता प्राप्त स्कूलों में पढ़ने वाले बच्चे बोर्ड फॉर्म भर चुके हैं एक्सटेंशन लेटर जारी होने से करीब 1338 स्कूलों को बोर्ड संबद्धता नहीं मिल पाई है इस कारण इनकी पोर्टल आईडी बंद है एक्सटेंशन लेटर मिलने के बाद ही यह स्कूल बोर्ड संबंध का फॉर्म भर कर बच्चों के ऑनलाइन फॉर्म जमा कर पाएंगे

हरियाणा के यह 80000 बच्चे बोर्ड परीक्षाओं में नहीं हो सकेंगे शामिल, यह है बड़ी वजह

हरियाणा में अभी 12 जनवरी तक स्कूल बंद किए गए हैं गत वर्ष भी बच्चों को ज्यादातर ऑनलाइन परीक्षा देनी पड़ी थी जिसके कारण बच्चों के भविष्य पर एक सवालिया निशान खड़ा हो रहा था वही आज के दौर में भी लग रहा है कि यदि यही हालात रहे तो इस साल भी बच्चों को ऑनलाइन परीक्षाएं ना देनी पड़ जाए

Read More

Recent