HomeGovernmentदिल्ली एनसीआर का हरियाणा की पराली से नही घुटेगा दम, इस नए...

दिल्ली एनसीआर का हरियाणा की पराली से नही घुटेगा दम, इस नए अविष्कार से किसानो को हो रहा है फायदा

Published on

पराली का नाम सुनते ही हमारे मन में एक दृश्य दिखाई देता है जिसमें बड़े-बड़े खेतों में आग लगी हुई है उस आग से निकलता हुआ धुंआ दिल्ली एनसीआर की ओर बढ़ रहा है और उस आग के धुए से प्रदूषण उत्पन्न हो रहा है और उस प्रदूषण से लोगों को परेशानी हो रही है आज भी कई राज्यों में पराली की समस्या ज्यों की त्यों बनी हुई है हर साल किसान फसलों को काटकर पराली जला देते हैं जिससे प्रदूषण में बढ़ोतरी होती है वही किसान भी इस पराली का क्या करें उनके लिए भी यह एक चिंता का विषय है

लेकिन 2 युवाओं में पराली के लिए सही विकल्प ढूंढा है यह दोनों युवा आईटी हैदराबाद में डिजाइनिंग विभाग में है जिन्होंने पराली से ईट बनाने का अविष्कार किया है पराली से ही थे बनाने का विस्तार करने वाले युवाओं के नाम है प्रियव्रत रावत राय और अब एक राय यह दोनों युवा मिलकर पराली से ही तैयार कर रहे हैं

दिल्ली एनसीआर का हरियाणा की पराली से नही घुटेगा दम, इस नए अविष्कार से किसानो को हो रहा है फायदा

अविक बताते हैं, “डिज़ाइन में मास्टर्स की डिग्री करने के बाद, हम दोनों ही दिल्ली में अलग-अलग इंडस्ट्रीज में काम कर रहे थे। साल 2011 में, हमने साथ में मिलकर अपना Design firm, “R Square Dezign” शुरू किया। हमने कई डिजाइनिंग प्रोजेक्ट्स किए। लेकिन पिछले कुछ सालों में, जब दिल्ली से बढ़ रहे प्रदूषण पर चर्चा बढ़ी तो हमारा ध्यान इस ओर गया। एक तरफ पराली की समस्या थी और दूसरी तरफ कंस्ट्रक्शन इंडस्ट्री में बढ़ती ईंट की मांग। काफी समय तक विचार-विमर्श करके हमने इन दोनों परेशानियों का एक हल ढूंढ़ा और वही हल है Bio Brick।”

दिल्ली एनसीआर का हरियाणा की पराली से नही घुटेगा दम, इस नए अविष्कार से किसानो को हो रहा है फायदा

प्रियब्रत बताते हैं कि एक तरफ पराली जलाने के कारण बढ़ रहे पराली जलाने की समस्या थी, तो दूसरी तरफ किसान, जिनके पास पराली के प्रबंधन का कोई ठोस समाधान नहीं। वहीं, कंस्ट्रक्शन इंडस्ट्री की बात करें, तो यह सच है कि पर्यावरण को हानि पहुंचाने के लिए यह इंडस्ट्री भी जिम्मेदार है। देश में लगभग 140000 ईंटों की भट्ठियां हैं, लेकिन फिर भी निर्माण कार्यों के लिए ईंटों की आपूर्ति नहीं हो पाती है। साथ ही, ईंट बनाने के लिए मिट्टी की सबसे ऊपर परत का इस्तेमाल किया जा रहा है, जिसके कारण मिट्टी की गुणवत्ता घट रही है। 

दिल्ली एनसीआर का हरियाणा की पराली से नही घुटेगा दम, इस नए अविष्कार से किसानो को हो रहा है फायदा

ईंट की ये भट्ठियां न सिर्फ बहुत ज्यादा ऊर्जा लेती हैं, बल्कि इनसे होने वाला प्रदूषण भी काफी ज्यादा है। इस कारण अविक और प्रियब्रत ने सोचा कि कृषि अपशिष्ट यानी farm waste को कंस्ट्रक्शन इंडस्ट्री के लिए  क्यों  इस्तेमाल नहीं किया जा सकता? उन्होंने साल 2015 से इस पर काम करना शुरू कर दिया था। सबसे पहले उन्होंने अलग-अलग फसलों जैसे गन्ना, गेहूं और चावल आदि के अपशिष्ट पर रिसर्च करना शुरू किया।

Latest articles

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

पुलिस का दुरूपयोग कर रही है भाजपा सरकार-विधायक नीरज शर्मा

आज दिनांक 26 फरवरी को एनआईटी फरीदाबाद से विधायक नीरज शर्मा ने बहादुरगढ में...

More like this

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...