Online se Dil tak

IAS बनने आया था दिल्ली, लेकिन कर रहा था यह काम, राज खुला तो पुलिस के भी पैरों तले खिसकी जमीन

सबके माता पिता चाहते हैं कि उनका बच्चा अपनी ज़िंदगी में कामयाब हो उनका नाम रोशन करे। इसी उम्मीद से वह अपने बच्चे की हर जरूरत को पूरा करते हैं। उन्हें किसी भी चीज की कमी नहीं होने देते। ऐसे ही एक माता-पिता अपने बेटे को IAS अफसर बनाना चाहते थे। इसके लिए उन्होंने सिविल सेवा की परीक्षा की तैयारी करने के लिए बेटे को दिल्ली भेजा। उसकी पढ़ाई-लिखाई से लेकर हर चीज का खर्चा वे ही उठाते थे। लेकिन बेटे ने पढ़ाई की आड़ में कुछ ऐसा कर दिया जिससे माता-पिता के पैरों तले जमीन खिसक गई। उन्हें बिल्कुल भी यकीन नहीं हो रहा था कि यह उन्हीं का बेटा है।

बता दें कि आनलाइन सट्टा हारने के कारण छात्र पर बहुत सारा कर्ज हो गया था तो उसने अपने परिजनों से ही वसूली की साजिश रच डाली। अपहरण का नाटक रचकर उसने परिजनों से 20 लाख रुपये की फिरौती की मांग की।

IAS बनने आया था दिल्ली, लेकिन कर रहा था यह काम, राज खुला तो पुलिस के भी पैरों तले खिसकी जमीन
IAS बनने आया था दिल्ली, लेकिन कर रहा था यह काम, राज खुला तो पुलिस के भी पैरों तले खिसकी जमीन

परिवार को यकीन दिलाने के लिए उसने वाट्सएप पर अपने रोने का एक वीडियो भी भेजा। जब इसकी शिकायत पुलिस के पास पहुंची तो इस पूरे षड्यंत्र का पर्दाफाश हो गया।

थाने पहुंचे युवक के पिता

IAS बनने आया था दिल्ली, लेकिन कर रहा था यह काम, राज खुला तो पुलिस के भी पैरों तले खिसकी जमीन

बता दें कि 8 जनवरी को बिहार के चंपारण के रहने वाले मुहम्मद अजीजुल हक राजेंद्र नगर थाने में अपने बेटे के गायब होने की शिकायत दर्ज कराने पहुंचे। उन्होंने बताया कि उनका 20 वर्षीय बेटा मेहताब हाशमी तीन दिन से लापता है। वह दिल्ली के राजेंद्र नगर स्थित कोचिंग सेंटर में सिविल सेवा परीक्षा की तैयारी कर रहा है और वजीराबाद इलाके में रहता है।

IAS बनने आया था दिल्ली, लेकिन कर रहा था यह काम, राज खुला तो पुलिस के भी पैरों तले खिसकी जमीन

उन्होंने यह भी बताया कि बीते साल सितंबर में उन्होंने पढ़ाई के लिए बेटे को दो बार में पांच लाख रुपये भेजे थे। हालांकि, उनके पास बेटे के वजीराबाद स्थित घर और कोचिंग सेंटर का पता नहीं है। उन्होंने पुलिस का बताया कि छह जनवरी को उनकी पत्नी के मोबाइल पर एक रिकार्डिग वाला मैसेज उनके बेटे के मोबाइल से आया।

IAS बनने आया था दिल्ली, लेकिन कर रहा था यह काम, राज खुला तो पुलिस के भी पैरों तले खिसकी जमीन
IAS बनने आया था दिल्ली, लेकिन कर रहा था यह काम, राज खुला तो पुलिस के भी पैरों तले खिसकी जमीन

उन्होंने पुलिस को बताया कि मेहताब को अगवा कर लिया गया है और उसे छुड़ाने के लिए 20 लाख रुपये मांगे गए हैं। बातचीत के बाद अपहरणकर्ता 10 लाख रुपये में मेहताब को छोड़ने के लिए तैयार हो गए। उनके पास एक वीडियो क्लिप भी भेजी गई जिसमें उनका बेटा रो रहा था।

ऐसे खुला राज

IAS बनने आया था दिल्ली, लेकिन कर रहा था यह काम, राज खुला तो पुलिस के भी पैरों तले खिसकी जमीन

इस संबंध में नौ जनवरी को मध्य जिले के राजेंद्र नगर थाने में अपहरण का मामला दर्ज किया गया। पुलिस टीम ने टेक्निकल सर्विलांस की मदद ली तो पता चला कि मेहताब का मोबाइल वजीराबाद इलाके में सक्रिय है। इस पर पुलिस टीम ने छापा मारकर उसे पकड़ लिया।

मां को भेजा रोने वाला वीडियो

IAS बनने आया था दिल्ली, लेकिन कर रहा था यह काम, राज खुला तो पुलिस के भी पैरों तले खिसकी जमीन
IAS बनने आया था दिल्ली, लेकिन कर रहा था यह काम, राज खुला तो पुलिस के भी पैरों तले खिसकी जमीन

मेहताब ने पुलिस को बताया कि वह आनलाइन सट्टा खेलता है जिसमें उसे काफी नुकसान हुआ था। उसके ऊपर काफी कर्ज हो गया था जिसे चुकाने के लिए काफी दबाव था। इसलिए वह अपने अपहरण का नाटक रच स्वजन से उगाही की कोशिश कर रहा था। इसके लिए उसने अपहरण का विश्वास दिलाने के लिए अपना रोते हुए वीडियो भी मां को वाट्सएप पर भेजा था। फिलहाल पुलिस मामले की जांच कर रही है।

Read More

Recent