Online se Dil tak

₹ 1500 के सेकेंड हैंड सोफे से चमका गई इन दोस्तों की किस्मत, जानिए कैसे

ऐसा कहा जाता है कि जब भी देने वाला देता है तो छप्पर फाड़ के देता है, जिसको किसी की किस्मत खुल जाना भी कहा जाता है। कब किसकी किस्मत खुल जाए कुछ नहीं पता है। दुनिया में हर कोई रुपया कमाने के लिए आया है। लेकिन जब किसी को एक साथ बिना कुछ मेहनत करे लाखो रुपए का फायदा होता है, तो उसको खुद को यकीन नहीं होता। जिसको किस्मत का खुलना कहा जाता है।

ऐसा ही कुछ अमेरिका के तीन दोस्तों के साथ हुआ है। जो उन्होंने कभी सोचा भी नहीं था। पढ़ाई करने के दिनों में उन्हें वह खजाना मिल गया, जिसके बारे में वह सपने में भी कल्पना नहीं कर सकते। आइए जानते हैं कैसा होगा उनका रिएक्शन।

₹ 1500 के सेकेंड हैंड सोफे से चमका गई इन दोस्तों की किस्मत, जानिए कैसे
₹ 1500 के सेकेंड हैंड सोफे से चमका गई इन दोस्तों की किस्मत, जानिए कैसे

आपको बता दे, अमेरिका के पाल्ट्स में स्थित स्टेट यूनिवर्सिटी में पढ़ने वाले तीन कॉलेज स्टूडेंट्स रीसे वेरखोवे कॉली गास्टी और लारा रुस्सो ने रहने के लिए एक कमरा किराए पर लिया। इस कमरे में उन्होंने मात्र ₹1500 का सोफा खरीद कर रखा।

₹ 1500 के सेकेंड हैंड सोफे से चमका गई इन दोस्तों की किस्मत, जानिए कैसे
₹ 1500 के सेकेंड हैंड सोफे से चमका गई इन दोस्तों की किस्मत, जानिए कैसे

लेकिन एक दिन ऐसा हुआ, जिसके बारे में कोई सोच भी नहीं सकता। एक दिन तीनों बैठकर उस पर टीवी देख रहे थे। तभी उन्हें सोफे में कुछ महसूस हुआ, उसके बाद जब तीनों ने सोफे के उस हिस्से वाले गद्दे को हटाया तो उसमें एक लिफाफा मिला। जिसमें करीब $1000 थे।

₹ 1500 के सेकेंड हैंड सोफे से चमका गई इन दोस्तों की किस्मत, जानिए कैसे
₹ 1500 के सेकेंड हैंड सोफे से चमका गई इन दोस्तों की किस्मत, जानिए कैसे

उसके बाद उन्होंने सोफे के बाकी हिस्सों में भी खोजना शुरू किया। जिसमें उन्हें एक के बाद एक लिफाफे मिलते रहे और उन लिफाफा में ढेर सारे नोट भरे हुए थे। लेकिन आखिर में उन तीनों को एक बॉक्स मिला जिसके अंदर देखकर वह चौक गए।

₹ 1500 के सेकेंड हैंड सोफे से चमका गई इन दोस्तों की किस्मत, जानिए कैसे
₹ 1500 के सेकेंड हैंड सोफे से चमका गई इन दोस्तों की किस्मत, जानिए कैसे

आपको बता दें उस डब्बे में बहुत सारे नोट थे। जिसे देखकर वह हैरान रह गए। लेकिन उन दोस्तों ने उन रुपयों को अपने पास नहीं रखा बल्कि उन रुपयों के असली मालिक तो दे दिया। उन रुपयों की मालिक 70 साल की बूढ़ी औरत थी। जिसने बहुत मेहनत से वह रुपए जमा किए थे।

Read More

Recent