HomeGovernmentहरियाणा मंत्रिमंडल बैठक में लिए गए अहम फैसले, जानिए क्या हुआ इस...

हरियाणा मंत्रिमंडल बैठक में लिए गए अहम फैसले, जानिए क्या हुआ इस मीटिंग में खास

Published on

हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल की अध्यक्षता में आज यहां हुई मंत्रिमण्डल की बैठक में ऐसी जन सुविधाएं, जो 20 वर्षों से अस्तित्व में हैं, के लिए बिल की प्रयोज्यता को सीमित करने के लिए एक खंड शामिल करने के उपरांत ‘हरियाणा जनसुविधापरिवर्तन निषेध बिल,2022 तैयार करने के संबंध में प्रशासनिक विभाग के प्रस्ताव को मंजूरी दी गई।

कई दशकों से, निजी व्यक्तियों/संस्थाओं की भूमि पर जन सुविधाएं जैसे सडक़ें, सरकारी भवन जैसे कि कार्यालय, शैक्षणिक संस्थान, सिंचाई/जल चैनल आदि का निर्माण हुआ है। यह बिना किसी मुआवजे या किसी भी रूप में प्रतिफल के दावे के बिना मौखिक समझौते या मौखिक उपहार आदि के रूप में निजी व्यक्तियों की उदारता के कारण हो सका।

हरियाणा मंत्रिमंडल बैठक में लिए गए अहम फैसले, जानिए क्या हुआ इस मीटिंग में खास

अंतत: इससे आम तौर पर राज्य के सामंजस्यपूर्ण विकास को सुनिश्चित करने के अलावा, विशेष रूप से व्यक्तियों और बड़े पैमाने पर जनता को लाभ हुआ है। हालाँकि, समय बीतने और भूमि के मूल्य में वृद्धि के कारण कुछ व्यक्तियों या निजी संस्थाओं ने इन मौखिक समझौतों या उपहारों आदि को चुनौती देकर अदालतों की शरण लेना शुरू कर दिया। इसके परिणामस्वरूप, राज्य सरकार को सडक़ संपर्क, जलापूर्ति में व्यवधान, प्रशासनिक समस्याओं और भारी वित्तीय प्रभावों के बोझ के संदर्भ में भारी कठिनाईयों का सामना करना पड़ रहा है। चूंकि सरकार के राजस्व संसाधन सीमित हैं इसलिए अतिरिक्त करों, उपकरों आदि के रूप में बोझ अंतत: आम जनता पर ही पड़ जाता है।

जल शक्ति मंत्रालय, भारत सरकार ने हरियाणा जल संसाधन प्राधिकरण द्वारा जल सरंक्षण के क्षेत्र में किये गए कार्य की सराहना की है। हरियाणा जल संसाधन प्राधिकरण के प्रवक्ता ने इस संबंध में जानकारी देते हुए बताया कि हाल ही में केंद्रीय भूजल प्राधिकरण ने सभी राज्यों की ऐसी ही प्राधिकरण के साथ वर्चुअल माध्यम से एक मीटिंग की थी।

हरियाणा मंत्रिमंडल बैठक में लिए गए अहम फैसले, जानिए क्या हुआ इस मीटिंग में खास

इस मीटिंग में हरियाणा जल संसाधन प्राधिकरण के मुख्य कार्यकारी अधिकारी डॉ. सतबीर सिंह कादियान ने केंद्रीय भूजल प्राधिकरण को अवगत कराया कि हरियाणा जल संसाधन प्राधिकरण ने केंद्रीय भूजल प्राधिकरण के दिशानिर्देशों को लागू किया है और मुख्यमंत्री के निर्देशानुसार प्रदेश में भू-जल के विनियमन तथा संरक्षण से जुड़े अभूतपूर्व निर्णय लिए हैं।

इनमें सूक्ष्म सिंचाई, अपशिष्ट जल का सिंचाई व अन्य के लिए प्रयोग और जलभराव वाले क्षेत्रों पर विशेष ध्यान केंद्रित करना शामिल है। इस संदर्भ में, केंद्रीय भूजल प्राधिकरण ने पत्र जारी करते हुए हरियाणा जल संसाधन प्राधिकरण की प्रशंसा की है।
उल्लेखनीय है कि हरियाणा सरकार ने राज्य में पानी के सरंक्षण प्रबंधन तथा विनियमन के लिए इस प्राधिकरण का गठन 2020 में किया गया था।

Latest articles

पिता का सपना टूटा तो बेटी ने नौकरी छोड़ आईएएस बनकर 35 वी रैंक पाई।

वैसे तो तमाम कहानियां सुनी होंगी जिसमें बेटे ने बाप का सपना पूरा किया...

फरीदाबाद के स्कूलों में अब हर घंटे पानी पीने के लिए बजे की घंटी।

उत्तर भारत में हरियाणा में भी भीषण गर्मी का प्रकोप पिछले कुछ दिनों से...

मई के महीने में दिल्ली एनसीआर में हुई तेज बारिश, IMD ने जारी किया अलर्ट!

दिल्ली एनसीआर में हुई तेज बारिश के कारण मौसम बड़ा सुहाना है और साथ...

बैंक से निजात पाने के लिए लोगों ने 2000 के नोटों को बदलने के लिए निकाला यह देसी जुगाड़।

₹2000 के नोटों का चलन बाहर होने के बाद ज्वेलरी मार्केट कारोबारियों का कहना...

More like this

पिता का सपना टूटा तो बेटी ने नौकरी छोड़ आईएएस बनकर 35 वी रैंक पाई।

वैसे तो तमाम कहानियां सुनी होंगी जिसमें बेटे ने बाप का सपना पूरा किया...

फरीदाबाद के स्कूलों में अब हर घंटे पानी पीने के लिए बजे की घंटी।

उत्तर भारत में हरियाणा में भी भीषण गर्मी का प्रकोप पिछले कुछ दिनों से...

मई के महीने में दिल्ली एनसीआर में हुई तेज बारिश, IMD ने जारी किया अलर्ट!

दिल्ली एनसीआर में हुई तेज बारिश के कारण मौसम बड़ा सुहाना है और साथ...