Online se Dil tak

हरियाणा के नन्हे कलाकार ने मुंबई में दिखाया अपना हुनर, मिथुन दा ने दिया एक खास तोहफा


हुनर किसी पहचान के मोहताज नहीं होती केवल एक मौके की तलाश होती है। और जैसे ही मौका मिलता है, हुनर निखार कर सामने आता है। कुछ ऐसे ही अंबाला शहर की सब्जी मंडी में रहने वाले 10 वर्षीय ने अपने हुनर के दम पर न केवल कलर्स टीवी के प्रसारित हो रहे रियालिटी शो पुनर्वास देश की शान कार्यक्रम में भागीदारी करने केवल पहुंचा ही नहीं। बल्कि कार्यक्रम में मिथुन दादा के हाथ से शील्ड लेकर यह साबित कर दिया कि उम्र बेशक उसकी कम है, लेकिन तबला बजाने का हुनर किसी से कम नहीं है।

आपको यह बात हैरान कर जाएगी की वह नन्हे कलाकार ने तबला बजाना किसी से नहीं सीखा है। बल्कि शीशगंज गुरुद्वारे में जाकर सेवा के दौरान वहां पर रखे तबले को बजा कर उसने यह हुनर हासिल किया है। और नन्हे कलाकार का परिवार भी काफी उत्साहित है। आसपास के लोग हमेशा उस नन्हे कलाकार का हौसला बढ़ाते रहते हैं।

हरियाणा के नन्हे कलाकार ने मुंबई में दिखाया अपना हुनर, मिथुन दा ने दिया एक खास तोहफा
हरियाणा के नन्हे कलाकार ने मुंबई में दिखाया अपना हुनर, मिथुन दा ने दिया एक खास तोहफा




10 वर्षीय अहम की मा का कहना है, कि उसको बचपन से ही तबला बजाने का शौक था। वह 3 साल की उम्र में घर में रखे चीनी पत्ती के डब्बे को बताया करती थी और इस इसका कोई गुरु नहीं है और किसी से उसने कभी नहीं सीखा वह गुरुद्वारे में सेवा करने के लिए जाता था। वहीं पर तबला बजाने लगा और वहीं से सीखी मुझे पता चला कि कलर्स चैनल पर रियालिटी शो आ रहा है और वहां अपने बेटे को भेजना भी चाहती थी।

हरियाणा के नन्हे कलाकार ने मुंबई में दिखाया अपना हुनर, मिथुन दा ने दिया एक खास तोहफा

लेकिन सारी जगह फिरने के बाद भी किसी ने उसे तबला नहीं दिया। उसे केवल अपने बच्चे के लिए तबला चाहिए था कि वह अपने बच्चे का 1 मिनट का वीडियो बनाकर कलर्स टीवी ओनर बाद में भेज सके फिर गुरुद्वारे के लोगों ने उसे आगे बढ़ाया और उन्होंने तबला दे दिया साथ ही वीडियो बनाकर भी भेज दिया। जिसके बाद उसका बेटा इस शो में सेलेक्ट हो गया।

हरियाणा के नन्हे कलाकार ने मुंबई में दिखाया अपना हुनर, मिथुन दा ने दिया एक खास तोहफा



कलाकार अहम का कहना है कि टीवी पर ऐड देखने के बाद उसकी मम्मी ने प्रसार किए और टीवी शो के लिए पहुंच गया। साथ ही मुझे बचपन से ही तबला बजाने का शौक था और गुरुद्वारे में जब मैं जाता था। तो वहां पर भाई जी मुझे तो ला दे देते थे। जिस कारण मैं सीख गया उन्होंने मेरी यूट्यूब पर भेज वीडियो जारी करें जिसे लोगों ने काफी पसंद किया है और मुंबई जाने के लिए भी टिकट उन्होंने ही बुक कराई। जिसके बाद मैं मुंबई पहुंच गया वहीं से अब तक मेरा सफर शुरू हो गया है और मैं हमेशा अपने मां-बाप का नाम रोशन करुंगा।

Read More

Recent