Online se Dil tak

फरीदाबाद में सीवर के शोधित पानी से होंगे खेती व अन्य कार्य, जानिए क्या नगर निगम का प्लान

गिरते भूजल के स्तर से फरीदाबाद काफी परेशान नजर आ रहा है इसको लेकर नगर निगम ने एक स्कीम को अमलीजामा पहनाने का करें शुरू कर दिया है फरीदाबाद जिले में नगर निगम सीवर के पानी को शोधित कर कृषि समेत अन्य कार्यों में उपयोग लाने का कार्य करने जा रहा है नगर निगम इस तैयारी में जुटा हुआ है सीवर का पानी बल्लभगढ़ क्षेत्र में किसानों को खेती के लिए उपलब्ध कराया जाएगा सीवर के पानी के प्रयोग की संभावनाओं के लिए नगर निगम एक कंसलटेंट की सहायता लेगा निगम मिर्जापुर और प्रतापगढ़ में सीवर शोधन संयंत्र बनवा रहा है जबकि बादशाहपुर में पहले से ही शोधन यंत्र है

इसके पीछे एक वजह यह भी है कि फरीदाबाद शहर में सीवर ओवरफ्लो की समस्या गंभीर समस्याओं में गिनी जाती है लोगों को इससे खासा परेशानी भी होती है और फिर निगम कार्यालय के लगातार चक्कर काटते रहते हैं सीवर की समस्या का मामला मुख्यमंत्री के सामने भी उठाया गया था इस पर मुख्यमंत्री ने दो एसटीपी बनवाने की घोषणा भी की थी इस पर नगर निगम मिर्जापुर गांव में 80 एम एल ए डी और प्रतापगढ़ गांव में 100 एमएलडी का सेवक शोधन संयंत्र पर काम कर रहा है वहीं पर योजना पर तेजी से कार्य किया जा रहा है

फरीदाबाद में सीवर के शोधित पानी से होंगे खेती व अन्य कार्य, जानिए क्या नगर निगम का प्लान
फरीदाबाद में सीवर के शोधित पानी से होंगे खेती व अन्य कार्य, जानिए क्या नगर निगम का प्लान

साथ ही इस परियोजना को पूरा करने के लिए करोड़ों रुपए की मशीनें भी आ चुकी है इसके बनने से ओल्ड फरीदाबाद ग्रेटर फरीदाबाद में गांव के सीवर का पानी शोधित किया जाएगा निगम की योजना है कि दोनों संशोधन के बड़े-बड़े संयंत्र है इससे इसके आसपास के किसानों को पानी दिया जा सके वही इसका पानी बिल्डरों को बेचने की तैयारी है

फरीदाबाद में सीवर के शोधित पानी से होंगे खेती व अन्य कार्य, जानिए क्या नगर निगम का प्लान

इससे जहां भूजल स्तर का दोहन कम होगा वही पानी का अन्य कार्यों में उपयोग भी किया जा सकेगा इस पानी को कंपनी और बिल्डरों को भेजा जा सकता है इस कार्य योजना को पूरा करने के लिए एक कंसलटेंट की सहायता भी ली जा रही है जो परियोजना को विस्तृत रूप से बनाकर रिपोर्ट तैयार करेंगे नगर निगम के कार्यकारी अभियंता नितिन कादयान ने कहा कि दोनों गांव में एसबीआर टेक्नोलॉजी के जरिए पानी को साफ किया जाएगा

फरीदाबाद में सीवर के शोधित पानी से होंगे खेती व अन्य कार्य, जानिए क्या नगर निगम का प्लान

दोनों प्रोजेक्ट पर 240 करोड रुपए का खर्च होना है सीवर के पानी के बायोलॉजिकल ऑक्सीजन डिमांड 300 तक होती है इस टेक्नोलॉजी की मदद से यह मात्रा 10 बीओडी तक पहुंच जाएगी सिंचाई के लिए इस्तेमाल किए जाने वाले पानी की भी 29 तक होनी चाहिए एसटीपी की एक और खासियत होगी क्या यह कम प्राइस होगा नगर निगम सीवर के पानी का शोधित कर कृषि समेत अन्य कार्यों में प्रयोग लाने की योजना पर कार्य कर रहा है

आर

Read More

Recent