HomeUncategorizedआइए मिलते हैं कलयुग की द्रोपती से, जिसने अपने ही सगे...

आइए मिलते हैं कलयुग की द्रोपती से, जिसने अपने ही सगे पांच भाइयों से रचाई शादी

Published on

आप सभी ने महाभारत तो जरूर देखी होगी। अगर देखी नहीं होगी तो इसके बारे में सुना तो जरूर ही होगा। महाभारत के बहुत से किरदारों के बारे में आप जानते भी होंगे। महाभारत में जिस ने बहुत ही अहम किरदार निभाया था, वह द्रोपती थी। जो पांच पतियों की एक इकलौती पत्नी थी। यह तो हुई पुराने समय की बात। लेकिन अगर बात करी जाए वर्तमान की तो आज भी द्रोपती मौजूद है। लेकिन इस बात पर कोई यकीन नहीं करेगा।

आज हम आपको इस जमाने की द्रोपती के बारे में बताने वाले हैं, जिसने अपने पांच सगे भाइयों से शादी कर कर अपना जीवन खुशहाल बिता रही है। यदि आप भी इस द्रोपती के बारे में पूरी जानकारी लेना चाहते हैं, तो खबर को अंत तक पढ़े।

आइए मिलते हैं कलयुग की द्रोपती से, जिसने अपने ही सगे पांच भाइयों से रचाई शादी

महाभारत के सबसे बड़ी घटना द्रोपती का चीर हरण था। इस वजह से सबसे ज्यादा द्रोपती सुर्खियों में रहती है और सबकी जुबान पर द्रोपदी का नाम ही होता है। द्रौपदी के पांच पति थे। इस कारण वह अक्सर सुर्खियों में रहती थी। आज के समय में भी द्रोपती का किरदार निभाया जाए।

आइए मिलते हैं कलयुग की द्रोपती से, जिसने अपने ही सगे पांच भाइयों से रचाई शादी

ऐसी कल्पना करना ही मुश्किल है कि एक लड़की के पांच पति कैसे हो सकते हैं?  आखिरकार एक लड़के से पांच व्यक्ति कैसे विवाह कर सकते हैं? पांच पांडवों ने अपनी मां की कही बात को आदेश मानकर द्रोपती से विवाह किया था।

आइए मिलते हैं कलयुग की द्रोपती से, जिसने अपने ही सगे पांच भाइयों से रचाई शादी

आज के समय में भी एक द्रोपति है। जिसने अपने पांच सगे भाइयों से शादी कर ली। यह खबर उत्तराखंड से सामने आई है। यहां के निवासी रज्जो नाम की लड़की ने अपने खास पांच भाइयों से शादी कर ली।

आइए मिलते हैं कलयुग की द्रोपती से, जिसने अपने ही सगे पांच भाइयों से रचाई शादी

उत्तराखंड के देहरादून के पास एक गांव है और इस गांव की एक परंपरा है जो कि सदियों से चलती आ रही है। जिसमें लड़की एक ही परिवार के सभी भाइयों से शादी करेगी। रज्जो के साथ सभी अलग-अलग दिन में संबंध बनाते हैं। उसके शादीशुदा जिंदगी बहुत ही मजेदार चल रही है। वह बहुत खुशहाल जीवन व्यतीत रही है।

Latest articles

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

More like this

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...