Online se Dil tak

हरियाणा में चोरी छुपे इन इन जगहों पर हो रही है अफीम की खेती, जानिए किस गांव से पकड़े गए 150 पौधे

प्रदेश में चोरी-छिपे गेहूं और गन्ने की फसल में अफीम की खेती होने लग गई है। बता दे हरियाणा स्टेट नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो ने पिछले दिनों जींद, हिसार ,करनाल और पानीपत में अफीम की खेती को पकड़ा था और अब कुरुक्षेत्र के गांव कलसा के डेरा निहंग सिंह में 150 पौधे पकड़े गए हैं।जिसमें साफ है कि अफीम का सेवन करने वाले शुद्ध अफीम के लिए इनकी खेती कर रहे हैं। यूनिट की माने तो हालांकि इसका क्षेत्र अधिक नहीं है। मगर फिर भी छोटे स्तर पर खेती हो रही है हरियाणा स्टेट नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो और जिला पुलिस अब इसे लेकर और ज्यादा अधिक सक्रिय हो गई है।

जानकारों की मानें तो मार्च और अप्रैल महीने के दौरान मध्यप्रदेश और राजस्थान से अफीम चुरा डोडो की सप्लाई बंद हो जाती है।‌ ऐसे में अफीम का सेवन करने वालों को अफीम की आपूर्ति नहीं हो पाती। ऐसे में अफीम खाने वाले खुद ही इसकी खेती करने लगते हैं।‌

हरियाणा में चोरी छुपे इन इन जगहों पर हो रही है अफीम की खेती, जानिए किस गांव से पकड़े गए 150 पौधे
हरियाणा में चोरी छुपे इन इन जगहों पर हो रही है अफीम की खेती, जानिए किस गांव से पकड़े गए 150 पौधे

जिससे उन्हें श्रद्धा फीमेल जाती है वहीं हरियाणा स्टेट नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो यूनिट अंबाला की टीम को अगर कुछ दिन और कलसा में अफीम की खेती का पता ना चलता तो शुद्ध टीम तैयार हो सकती थी मगर पुलिस ने रेड कर पौधे बरामद कर लिए हैं। ‌

हरियाणा में चोरी छुपे इन इन जगहों पर हो रही है अफीम की खेती, जानिए किस गांव से पकड़े गए 150 पौधे




हरियाणा नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो अंबाला यूनिट प्रभारी निरीक्षक केवल सिंह ने बताया कि हरियाणा नारकोटिक्स ब्यूरो की ओर से लगातार नशे पर लगाम लगाई जा रही है और हरियाणा नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो नशे के कारोबार से जुड़े लोगों के साथ ऐसे लोगों को भी पकड़ रही है

हरियाणा में चोरी छुपे इन इन जगहों पर हो रही है अफीम की खेती, जानिए किस गांव से पकड़े गए 150 पौधे

जो इसका सेवन करते हैं। वही पुलिस इन मामलों की तह तक जा रही है, ताकि नशे के कारोबार को जड़ से खत्म कर सकें। हरियाणा नारकोटिक्स ब्यूरो लगातार इस प्रकार के लोगों को गिरफ्तार कर रही है। वहीं उन्होंने यह भी कहा कि इस प्रकार के अभियान पिहोवा में निरंतर चलते रहेंगे।

Read More

Recent