Pehchan Faridabad
Know Your City

1971 युद्ध में आखिर क्यों ताज महल को काले कपड़े से ढक दिया गया था, वजह जान कर हैरान हो जाएंगे आप

भारत से बना पाकिस्तान हमेशा से भारत को आँखें दिखाता रहा है | जितनी भी नापाक कोशिशे उसने हमला करने कि की हैं, सभी में उसको मुँह की खानी पड़ी है |

भारत-पाक 1971 के युद्ध में पाकिस्‍तानी लड़ाकू विमानों ने अपना दूसरा हमला आगरा पर किया था | इस हमले में पाक वायु सेना ने भारतीय एयरबेस के साथ विश्‍व के सातवें अजूबे ताजमहल को भी ध्‍वस्‍त करने की साजिश रची थी |

भारतीय सेना ने दुनिया में अपनी जो पहचान बनाई है उसको बयान करना थोड़ा कठिन है | पाकिस्तान ने साजिश के तहत उसकी वायु सेना ने 3-4 दिसंबर की रात आगरा में बमबारी शुरू की थी |

पाकिस्‍तानी वायु सेना ने 500 पाउंड वजन के 16 बम आगरा में गिराए थे | इसमें 3 बम एयरफोर्स परिसर में गिरे, जबकि बाकी बम एयरबेस के समीप स्थित खेतों में गिरे | पाकिस्‍तानी एयरफोर्स अपने मंसूबे में सफल हो पाती, इससे पहले भारतीय वायु सेना ने पाकिस्तान के बी-57 विमान को मार गिराया था |

1971 का युद्ध हो या कारगिल का पाकिस्तान को जिस तरह से भारतीय सेना ने चित किया था वह आज तक नहीं भूल सका है | पाकिस्तान के खिलाफ हर जंग में आगरा का महत्वपूर्ण रोल रहा है। 1948 हो या 1965 या फिर 1971 का युद्ध, हर बार आगरा स्टेशन के पैराकमांडो, एयरफोर्स स्क्वाड्रन ने बढ़ चढ़कर हिस्सा लिया है।

वरिष्‍ठ अधिकारीयों के अनुसार, पाकिस्‍तान द्वारा गिराए गए बमों में तीन बम एयरपोर्ट परिसर में आकर फटे. इसकी वजह से आगरा एयरबेस के रन-वे को मामूली नुकसान पहुंचा | वहीं, कुछ बम समीप के खेतों में जाकर फटे | वहीं, कुछ बमों को समीपवर्ती इलाकों से जिंदा बरामद किया गया था |

पाकिस्तान हमेशा से आतंकी भारत में भेजता रहा है | आतंकी देश पाकिस्तान हर बार मुँह की खाता है, लेकिन अपनी हरकतों से बाज नहीं आता है | पाकिस्‍तानी एयरफोर्स का मंसूबा था कि वह आगरा एयरबेस को पूरी तरह से नष्‍ट कर दें, जिससे भारतीय सेना को आगरा से एयरफोर्स की मदद न पहुंच सके | हालांकि, भारतीय वायु सेना की दृढ़ इच्‍छाशक्ति के सामने पाकिस्‍तान के सभी मंसूबे विफल हो गए | भारतीय वायुसेना ने रातोंरात रन-वे को दुरुस्‍त कर दिया था |

पैसों की तंगी वाला देश पाकिस्तान अपने मंसूबों में कभी सफल नहीं हो सका है न ही भारतीय सेना उसको सफल होने देगी | आपको बता दें कि पाक वायु सेना के हवाई हमलों के चलते पूरे देश में ब्‍लैक आउट घोषित कर दिया गया था | बावजूद इसके संगमरमर से बना ताजमहल अभी भी रात में दमक रहा था | ऐसे में यह खतरा बना हुआ था कि पाक वायु सेना के लड़ाकू विमान ताजमहल को अपना निशाना ना बना लें | किसी भी देश में बनी ऐतिहासिक इमारतें उस देश की पहचान होती हैं |

आतंकी देश पाकिस्तान विश्वभर में अगर जाना जाता है तो बस आतंकवाद के लिए | उस समय ताजमहल की सुरक्षा के लिए आनन-फानन में कवायद शुरू की गई | ताजमहज की मुख्‍य गुंबद और चारों मीनारों को काले रंग के कपड़े से ढक दिया गया | इसके अलावा, मुख्‍य गुंबद के चारों तरफ लड़की की बल्लियों को बांधकर काले रंग के कपड़ों को नीचे लटकाया गया | गुंबद और नीचे की फर्श को पेड़ों की पत्तियों और घास से ढक दिया गया, जिससे दुश्‍मन को ताजमहल का कोई भी हिस्‍सा न दिख सके |

Written By – Om Sethi

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More