HomeIndiaनई रिसर्चर में खुलासा, पानी के पास वाली जगहों पर टहलने से...

नई रिसर्चर में खुलासा, पानी के पास वाली जगहों पर टहलने से दिमाग पर पॉजिटिव असर पड़ता है

Published on

एक नई स्टडी में बताया गया है कि समुद्र तटों, झीलों, नदियों और यहां तक ​​कि फव्वारे जैसे जल निकायों के पास अक्सर टहलने से लोगों के दिमाग पर पॉजिटिव असर पड़ता है और इससे मानसिक स्वास्थ्य ठीक रहता है बार्सिलोना इंस्टीट्यूट फॉर ग्लोबल हेल्थ (ISGlobal) की स्टडी के अनुसार, नीले या प्राकृतिक स्थान लोगों के मानसिक स्वास्थ्य के लिए बेहद अनुकूल होते हैं |

ISGlobal के रिसर्चर क्रिस्टोफर वर्ट ने कहा की, “हमने खुले आसमान के नीचे चलने वालों पर पड़ने वाले असर का आकलन किया तो हमें पता चला कि शहरी स्थानों की तुलना में ऐसे स्थानों पर लंबे समय तक चलने से हृदय के स्वास्थ्य पर बहुत अच्छा असर पड़ता है.”

नई रिसर्चर में खुलासा, पानी के पास वाली जगहों पर टहलने से दिमाग पर पॉजिटिव असर पड़ता है

59 से ज्यादा लोगों पर की गई स्टडी

इसके लिए 59 वयस्क लोगों के डेटा का इस्तेमाल किया गया था | जिन्होंने एक हफ्ते तक हर दिन 20 मिनट बार्सिलोना के समुद्र तट पर टहलने की सलाह दी है |
इसके बाद एक अलग सप्ताह में, उन्होंने शहरी वातावरण में प्रत्येक दिन 20 मिनट बिताए है फिर तीसरे हफ्ते उन्होंने घर के अंदर भी उतना ही समय बिताया हर एक्टिविटी से पहले और बाद में उन सभी प्रतिभागियों के ब्लड प्रेशर और हृदय गति को मापा गया था इसी के साथ उन लोगों ने तीनों वातावरण में बिताए अपने अनुभवों को भी बताया है |

सभी लोगों के स्वास्थ्य में देखा गया सुधार

नई रिसर्चर में खुलासा, पानी के पास वाली जगहों पर टहलने से दिमाग पर पॉजिटिव असर पड़ता है

शहरी नियोजन पर्यावरण के डायरेक्टर मार्क निवेनहुइजेन ने कहा, “हमने शहरी वातावरण में टहलने या आराम करने की तुलना में नीले आकाश के नीचे पानी के पास टहलने वालों की मनोदशा में महत्वपूर्ण सुधार देखा.” वहीं बार्सिलोना के समुद्र तट के पास टहल रहे प्रतिभागियों ने भी अपना मूड अच्छा होने की बात कही है

समुद्र तटों पर टहलने से मिल सकते हैं ये लाभ

नई रिसर्चर में खुलासा, पानी के पास वाली जगहों पर टहलने से दिमाग पर पॉजिटिव असर पड़ता है

वर्तमान में दुनियाभर में लगभग 55 प्रतिशत आबादी शहरों में रहती है लोगों को ज्यादा समय तक स्वस्थ रहने के लिए ब्लू स्पॉट्स पर ज्यादा से ज्यादा समय बिताना चाहिए ISGlobal की स्टडी में बताया गया है कि, हरे रंग की प्राकृतिक जगहों पर ज्यादा समय तक रहने से कई तरह के स्वास्थ्य लाभ मिल सकते हैं जिनमें मोटापा कम होना, बच्चों की एकाग्र क्षमता बढ़ना और वयस्क लोगों का ज्यादा समय तक स्वस्थ रहना शामिल है I

Written by- Prashant K Sonni

Latest articles

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

पुलिस का दुरूपयोग कर रही है भाजपा सरकार-विधायक नीरज शर्मा

आज दिनांक 26 फरवरी को एनआईटी फरीदाबाद से विधायक नीरज शर्मा ने बहादुरगढ में...

श्री राम नाम से चली सरकार भूले तुलसी का विचार और जनता को मिला केवल अंधकार (#_बजट): भारत अशोक अरोड़ा

खट्टर सरकार ने आज राज्य के लिए आम बजट पेश किया इस दौरान सीएम...

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित हुआ दो दिवसीय बसंतोत्सव

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित दो दिवसीय बसंतोत्सव के शुभ अवसर पर...

More like this

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

पुलिस का दुरूपयोग कर रही है भाजपा सरकार-विधायक नीरज शर्मा

आज दिनांक 26 फरवरी को एनआईटी फरीदाबाद से विधायक नीरज शर्मा ने बहादुरगढ में...

श्री राम नाम से चली सरकार भूले तुलसी का विचार और जनता को मिला केवल अंधकार (#_बजट): भारत अशोक अरोड़ा

खट्टर सरकार ने आज राज्य के लिए आम बजट पेश किया इस दौरान सीएम...