HomePublic Issueबिना फेस मास्क लगाए घूम रहे लोग नहीं है कोरोना बम से...

बिना फेस मास्क लगाए घूम रहे लोग नहीं है कोरोना बम से कम, नहीं बदली आदत…..

Published on

कोरोना वायरस का संक्रमण कितना खतरनाक है अब शायद ही उसके बारे में विस्तार से बताने की जरूरत है, क्योंकि 3 महीने से ज्यादा समय बीत चुका है। हर एक व्यक्ति, हर एक बुजुर्ग, हर एक बच्चा कोरोना वायरस के संक्रमण के बारे में भली-भांति परिचित हो चुका है।

ऐसे ही में जरूरत है कि सरकार द्वारा दिए गए दिशा निर्देश को अपने जीवन में लागू करके इस वायरस को हमेशा हमेशा के लिए अपने आप से दूर रखा जा सके।

बिना फेस मास्क लगाए घूम रहे लोग नहीं है कोरोना बम से कम, नहीं बदली आदत.....

इसके लिए न्यूज़ चैनल, सोशल मीडिया, अखबार , सरकार हर एक माध्यम द्वारा कोरोना वायरस से बचने की सलाह देते हुए फेस मास्क को पहनना अनिवार्य कर दिया है, क्योंकि स्वास्थ्य विभाग का भी कहना है

बिना फेस मास्क लगाए घूम रहे लोग नहीं है कोरोना बम से कम, नहीं बदली आदत.....

कि फेस मास्क पहनने से काफी हद तक इस वायरस को आगे बढ़ने और फैलने से रोका जा सकता है। इसके लिए अब सरकार ने नियम भी बनाए हैं कि किसी भी व्यक्ति को बिना फेस मास्क लगाए घर से निकलने की अनुमति नहीं होगी।

यदि ऐसा होता है तो पुलिस विभाग द्वारा उक्त व्यक्ति के खिलाफ कानूनी कार्यवाही की जाएगी और चालान भी काटे जाएंगे। इतनी सख्ती बरतने के बावजूद आम जन बिना फेस मास्क लगाएं घर से बाहर घूम रहा है और कहीं ना कहीं इस वायरस को स्वयं दस्तक दे रहा है।

बिना फेस मास्क लगाए घूम रहे लोग नहीं है कोरोना बम से कम, नहीं बदली आदत.....

लेकिन ऐसे लोगों को समझना होगा कि यह संक्रमण ऐसा नहीं है सिर्फ उस तक सीमित रह जाएगा, बल्कि उस व्यक्ति से लेकर उसके परिवार यहां तक कि उस समाज के लिए घातक हो सकता है।

लेकिन लोगों की जरा सी नासमझी और लापरवाही के कारण आलम यह है कि कोरोना वायरस का संक्रमण थमने का नाम नहीं ले रहा है, और इस तरह की लापरवाही बरतने के कारण इस संक्रमण को बढ़ावा देने का मौका मिलता है।

अब जरूरत है कि हम इस समस्या को और इस वैश्विक महामारी को गंभीरता से समझे और इस से फैलने वाले संक्रमण को रोकने के लिए हर वक्त फेस मास्क लगाए रखिए चाहे वह घर में हो या अपने कार्यस्थल पर हो।

ऐसा करना इसलिए जरूरी है क्योंकि यह संक्रमण कब और किस वक्त किसी भी व्यक्ति को हो सकता है,और इसके लक्षण की पहचान करने में काफी टाइम लग जाता है।

इसलिए जरूरी है कि इस लापरवाही को एक किनारे में रखकर अपने और अपने परिवार और देश हित के बारे में सोचते हुए सरकार द्वारा दिए गए देगा दिशानर्देश को अमल करें।

Latest articles

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है: कशीना

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है, इसका संबंध...

भाजपा के जुमले इस चुनाव में नहीं चल रहे हैं: NIT विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा

एनआईटी विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा ने बताया कि फरीदाबाद लोकसभा सीट से पूर्व...

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

More like this

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है: कशीना

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है, इसका संबंध...

भाजपा के जुमले इस चुनाव में नहीं चल रहे हैं: NIT विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा

एनआईटी विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा ने बताया कि फरीदाबाद लोकसभा सीट से पूर्व...