Pehchan Faridabad
Know Your City

कोरोना पॉजिटिव आने पर घबराए नहीं अपने आप को घर में करे क्वॉरेंटाइन । स्वास्थ विभाग हरियाणा

अतिरिक्त मुख्य सचिव स्वास्थ्य विभाग हरियाणा राजीव अरोड़ा ने कहा कि कोविड-19 के संक्रमण के पॉजिटिव केसों को जरूरत अनुरूप परामर्श करके आईसोलेशन सेंटर या होम क्वॉरेंटाइन करें। किसी भी मरीज की कोरोना पॉजिटिव रिपोर्ट आने पर उसका बाहर घुमना फिरना बंद कर दें तथा उसे होम क्वॉरेंटाइन कर दें।

एसीएस वीरवार को स्थानीय लघु सचिवालय के बैठक कक्ष में फरीदाबाद, पलवल और रेवाड़ी जिलों में कोविड-19 संक्रमण से बचाव के लिए किए जा रहे प्रबंधों की समीक्षा कर तीनों जिलों के अधिकारियों को आवश्यक दिशा-निर्देश दे रहे थे।

उन्होंने कहा कि जब से प्रदेश में कोविड-19 के संक्रमण से बचाव के लिए मरीजों को सर्विलांस पर लेना शुरू किया है, तब से मुख्यालय द्वारा हर जिला की प्रतिदिन रिपोर्ट ली जा रही है। सभी जिलों में जमीनी स्तर पर एसडीएम, बीडीपीओ तथा तहसीलदारो से सर्वे की रिपोर्ट ली जाए।

सर्वे कार्य के लिए एएनएम, जीएनएम, आशा वर्कर, आँगनबाङी वर्कर और आँगनबाड़ी सहायकों की पांच टीमों पर एक सुपरवाइजर है तथा 50 टीमों पर एक मेडिकल ऑफिसर लगाया जाए। इन टीमों के माध्यम से कोविड-19 के संक्रमण से चिन्हित लोगों को मोबाइल टीमों द्वारा आइसोलेट का प्रबंध करवाना सुनिश्चित करें। उन्होंने कहा कि सभी सरकारी तथा प्राइवेट संस्थानों में लोगों की प्रारंभिक स्वास्थ्य जांच अवश्य करवाना सुनिश्चित करें।

उन्होंने फ्लू केसिज के बारे में कहा कि तीनों जिलों में हर रोज दिल्ली तथा पडोसी प्रान्तों और दूसरे जिलों से आने वाले लोगों को चिन्हित करके उन्हें येलो कार्ड दें तथा उन लोगों को केंद्र सरकार की आईसीएमआर की कोविड-19 की हिदायतों के अनुसार उनके घरों में ही रहने के निर्देश दे और उनकी ट्रेवलिंग हिस्ट्री अवश्य रखें। जिन लोगों मे कोरोना वायरस के संक्रमण दिखाई दें। तो उनका टेस्ट करवाना सुनिश्चित करें। आरोग्य सेतु एप सहित स्वास्थ्य विभाग की अन्य एप पर वास्तविक स्थिति बारे भी सभी जिले पूरी रिपोर्ट अपडेट रखें। साथ ही हॉटस्पॉट एरिया पर पहले ही हर रोज नियमित कार्य शुरू कर दें।

स्वास्थ्य विभाग के आईएएस अशोक कुमार मीणा ने कहा कि फरीदाबाद जिला में कोरोना की टेस्टिंग अधिक से अधिक की जाए। किसी भी एरिया में कोरोना पॉजिटिव मरीज मिलने पर वहाँ कंटेनमेंट जोन जल्द बनाए जाएं। कोविड-19 के पॉजिटिव केस जो घरों में आइसोलेटिड है, उनके पास स्वास्थ्य विभाग की टीमें अवश्य जाना सुनिश्चित करें। आरडब्लूए सदस्यों के सहयोग से उनकी पूरी निगरानी रखें।

मंडल आयुक्त संजय जून ने कहा कि तीनों जिलों में प्रशासन, पुलिस व स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी बेहतर तालमेल के साथ कोविड-19 के संक्रमण से बचाव के लिए कार्य कर रहे हैं। फरीदाबाद जिला में सरकार द्वारा जारी हिदायतों के अनुसार दो हजार बेडों की व्यवस्था अलग से की गई है। इनमें एक हजार बेड बच्चों के लिए अलग से बनाए गए हैं। जिला में जिस भी एरिया में कोरोना पॉजिटिव मरीज मिलते हैं वहां पर तुरंत कंटेनमेंट जोन बना दिए जाते हैं। प्रशासन की ओर से विभिन्न माध्यमों से लोगों को जागरूक किया जा रहा है तथा जरूरी सावधानी बरतने बारे अपील की जा रही है।

पुलिस आयुक्त ओपी सिंह ने कहा कि फरीदाबाद में प्रशासनिक अधिकारियों द्वारा कोविड-19 के बचाव बारे काबिल-ए-तारिफ कार्य किया जा रहा है। अच्छा कार्य करने पर परिणाम भी सकारात्मक आएंगे। उन्होंने कहा कि जिस घर में किसी सदस्य को सर्दी, खांसी, जुकाम, बुखार आदि के लक्षण दिखाई दे तो तुरंत उनकी पहचान करना सुनिश्चित किया जाता है। लोगों को मानसिक रूप से तैयार करने के लिए उन्हें जरूरी सावधानियों के बारे में जागरूक किया जा रहा है।

कोविड-19 के संक्रमण के बचाव बारे बेहतर कार्य करने वाले लोगों को राष्ट्रीय पर्व और सार्वजनिक स्थानों पर सम्मानित किया जाएगा। हॉटस्पॉट एरिया पर पूरी निगरानी रखी जा रही है।

उपायुक्त यशपाल ने फरीदाबाद जिला में कोविड-19 के संक्रमण के बचाव के लिए प्रशासन द्वारा किए गए प्रबंधों बारे विस्तार पूर्वक जानकारी दी। उन्होंने बताया कि फ्लू चैलेंज पर प्रशासन गम्भीरता के साथ कार्य कर रहा है। लोगों की गत मई माह से ही क्लीनिक ओपीडी शुरू कर दी गई थी। जरूरत के अनुसार जिला कोविड-19 के संक्रमण के टेस्ट करवाए जा रहे हैं। कोरोना वायरस के पॉजिटिव केसों के उपचार के लिए जरूरत मंद लोगो को कोविड सेन्टरो में रखा जा रहा है और सरकार की हिदायतों के अनुसार घरों में भी आइसोलेट किया जा रहा है। लोगों हाऊस हेल्थ सर्वे किया जा रहा है। इसके लिए गत 9 व 10 जुलाई को मानीटरिंग अधिकारियों, सैक्टर अधिकारियों, एरिया कमाण्डर तथा इन्सीडेटं कमाण्डर को अलग-अलग आठ बैच बनाकर प्रशिक्षण दिया गया है। सर्वे टीमों से जिला के सभी सीएचसी लेवल पर सप्ताहिक बैठक करके फीड बैक लिया जा रहा है।

बैठक में नगर निगम के आयुक्त यश गर्ग, सीईओ स्मार्ट सीटी डॉ. गरिमा मित्तल, एसीईओ कुमारी मोनिका ने जिला में कोविड-19 के संक्रमण के बचाव बारे किए प्रबंधों की जानकारी दी।

डीजी हेल्थ डॉक्टर एस.बी. कम्बोज ने भी समीक्षा कर अधिकारियों को निर्देश दिये।

बैठक में उपायुक्त पलवल नरेश कुमार, उपायुक्त रेवाड़ी यशेन्द्र सिंह, डीसीपी हैडक्वाटर राजेश दुग्गल, एडीसी रेवाड़ी राहुल हुड्डा, सीटीएम श्रीमती बैलीना, पलवल शुगर मिल के निदेशक डॉ. नरेश कुमार, मेडिकल कालेज ईएसआईसी के डीन डॉ. असीम दास सहित तीनों जिलों के जिला चिकित्सा अधिकारी तथा कोविड-19 के नोडल अधिकारी उपस्थित थे।

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More