HomeFaridabadअद्भुत! वर-वधु ने लिए गौमाता के साथ फेरे, दोनों के परिवारवालों के...

अद्भुत! वर-वधु ने लिए गौमाता के साथ फेरे, दोनों के परिवारवालों के साथ गो-पालक बने बराती

Published on

स्मार्ट सिटी फरीदाबाद के बल्लभगढ़ के उछा गांव स्थित गौ मानव सेवा में शुभ विवाह गौशाला के पावन परिसर में गौ माता को साक्षी मानकर दूल्हा-दुल्हन के द्वारा फेरे लिए गए। इस शुभ विवाह में दूल्हा-दुल्हन पक्ष के सैकड़ों लोग, गौशाला प्रबंधन टीम के सदस्य और चरवाहे शामिल हुए।

अद्भुत! वर-वधु ने लिए गौमाता के साथ फेरे, दोनों के परिवारवालों के साथ गो-पालक बने बराती

निर्मोही अखाड़े के राष्ट्रीय प्रवक्ता बुंदेलखंड पीठाधीश्वर संत सीताराम दास के अनुसार सनातनी विवाह के लिए गौशाला से पवित्र विवाह स्थल कोई नहीं हो सकता है। मधु गुप्ता और चमन प्रकाश गुप्ता अपने बेटों अमित गुप्ता और निधि गुप्ता को गुरुवार को गौ माता के दर्शन के लिए साक्षी के तौर पर ले गए। ट्रस्ट के निदेशक रूपेश यादव ने बताया कि शादी में शामिल हुए अतिथियों ने दूल्हा-दुल्हन को गाय-घास और गुड़ खिलाकर उनके सुखी और सफल वैवाहिक जीवन की कामना की। इस दौरान जिस किसी की भी नजर उन पर पड़ी वह इस शादी को संपन्न होते देखने से खुद को नहीं रोक पाया।

 

गौ माता का महत्व

अद्भुत! वर-वधु ने लिए गौमाता के साथ फेरे, दोनों के परिवारवालों के साथ गो-पालक बने बराती

 

गाय को हिंदू धर्म में माता कहा गया है। पुराणों में धर्म को गाय के रूप में भी दर्शाया गया है। भगवान कृष्ण अपने हाथों से गाय की सेवा करते थे और उनका निवास स्थान गोलोक भी बताया गया है। इतना ही नहीं गाय को कामधेनु के रूप में सभी मनोकामनाओं को पूर्ण करने वाला भी बताया गया है। हिंदू धर्म में गाय के इस महत्व के पीछे कई कारण हैं जिनका धार्मिक के साथ-साथ वैज्ञानिक महत्व भी है। भारतीय समाज में आज भी गाय को गौ माता कहा जाता है। शास्त्रों के अनुसार जब भगवान ब्रह्मा ने सृष्टि की रचना की तो सबसे पहले उन्होंने गाय को पृथ्वी पर भेजा। गाय ही एकमात्र ऐसा पशु है जो ‘माता’ शब्द का उच्चारण करता है, इसलिए माना जाता है कि ‘माता’ शब्द की उत्पत्ति भी गौवंश से हुई है। गाय एक मां की तरह अपने दूध से हम सबका पालन-पोषण करती है। आयुर्वेद के अनुसार मां के दूध के बाद गाय का दूध बच्चे के लिए सबसे ज्यादा फायदेमंद होता है।

 

Latest articles

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

पुलिस का दुरूपयोग कर रही है भाजपा सरकार-विधायक नीरज शर्मा

आज दिनांक 26 फरवरी को एनआईटी फरीदाबाद से विधायक नीरज शर्मा ने बहादुरगढ में...

More like this

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...