HomeFaridabadजोखिम भरे काम की नही मिल रही प्रोत्साहन राशि कर्मचारी परेशान हैं

जोखिम भरे काम की नही मिल रही प्रोत्साहन राशि कर्मचारी परेशान हैं

Published on


कोरोना काल मे एक महकमा ऐसा है जिसने तनदेही से अपनी ड्यूटी निभा कर खुद को कोरोना योद्धा की लिस्ट में शामिल किया ,,,जी हाँ हम बात कर रहे है फरीदाबाद के कर्मयोद्धा सफाईकर्मीओ की जो अपनी जान पर खेल कर अपनी डयूटी को अंजाम दे रहे हैं

लेकिन कभी सोचा हैं जो कर्मचारी काम करता है और उस काम के लिए दी जाने वाली राशि ना मिले तो उस व्यक्ति पर क्या गुजरेगी ।

जोखिम भरे काम की नही मिल रही प्रोत्साहन राशि कर्मचारी परेशान हैं


पूरे फरीदाबाद को साफ सुथरा रखने की जिम्मेदारी इन सफाई कर्मचारियों की होती है, लेकिन इस समय यह लोग एक और काम भी कर रहे है जो कि किसी भी कोरोनावायरस संक्रमित की मौत होने पर श्मशान घाट में शवों का दाह संस्कार करते हैं या तो कब्रिस्तान में सुपुर्द-ए-खाक करने का कार्य भी कर रहे है

यह महकमा औलाद बनकर कर्तव्य निभा रहा है मगर अपने ही घर में अपने करीबियों से दूर रहता है जिनके साथ जीवन जिया उन्हीं माता-पिता से दूरी बना कर रहता है ताकि उसके अपने करीबी सुरक्षित रह सकें

जोखिम भरे काम की नही मिल रही प्रोत्साहन राशि कर्मचारी परेशान हैं

ड्यूटी के बाद शाम को घर जाने से पहले मोबाइल फोन पर पत्नी को कह देते हैं कि पानी गर्म करके रखना हमें कपड़े धोने हैं कि नहाना है नहाते ही सीधे छत पर चले जाते हैं वहीं खाने की थाली आती है

यह हकीकत है उन कोरोना योद्धा की जो बतौर सफाई कर्मी तैनात है जिले में 20 सफाई कर्मियों को दाह संस्कार की सेवा में लगाया गया है । प्रत्येक संस्कार कराने पर 10 हजार रुपये प्रोत्साहन राशि देने की बात कही गई थी

जोखिम भरे काम की नही मिल रही प्रोत्साहन राशि कर्मचारी परेशान हैं

मगर तीन महीने से अधिक समय बिताने के बाद भी अब तक किसी भी सफाईकर्मी को कोई प्रोत्साहन राशि नही मिली हैंएक संस्कार करने में चार कर्मचारी पीपीई किट पहनकर शव को कंधे पर उठाते हैं साथ मे एक सहयोगी होता हैं

मृतक का चेहरा दिखाने को उलझते हैं स्वजन

कभी कभी श्मशान घाट में स्वजन सफाई कर्मियों से कहते हैं कि उन्हें मृतक का चेहरा दिखाया जाए स्वास्थ्य अधिकारी के आदेश के अनुसार कोरोना से हुई मौत के मामले में मृतक का चेहरा नहीं दिखाया जाएगा सफाई कर्मचारी जब मना करते हैं

जोखिम भरे काम की नही मिल रही प्रोत्साहन राशि कर्मचारी परेशान हैं

किसी स्वजन को मृतक का चेहरा नहीं दिखा सकते तो कई बार स्वजन आदि रूप से उलझने लगते हैं निगम की ओर से श्मशान घाट में पुलिस को बुलाना पड़ता हैसभी सफाई कर्मचारी अपनी जान पर खेल कर इस समय अपनी ड्यूटी निभा रहे है

Latest articles

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

पुलिस का दुरूपयोग कर रही है भाजपा सरकार-विधायक नीरज शर्मा

आज दिनांक 26 फरवरी को एनआईटी फरीदाबाद से विधायक नीरज शर्मा ने बहादुरगढ में...

श्री राम नाम से चली सरकार भूले तुलसी का विचार और जनता को मिला केवल अंधकार (#_बजट): भारत अशोक अरोड़ा

खट्टर सरकार ने आज राज्य के लिए आम बजट पेश किया इस दौरान सीएम...

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित हुआ दो दिवसीय बसंतोत्सव

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित दो दिवसीय बसंतोत्सव के शुभ अवसर पर...

More like this

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

पुलिस का दुरूपयोग कर रही है भाजपा सरकार-विधायक नीरज शर्मा

आज दिनांक 26 फरवरी को एनआईटी फरीदाबाद से विधायक नीरज शर्मा ने बहादुरगढ में...

श्री राम नाम से चली सरकार भूले तुलसी का विचार और जनता को मिला केवल अंधकार (#_बजट): भारत अशोक अरोड़ा

खट्टर सरकार ने आज राज्य के लिए आम बजट पेश किया इस दौरान सीएम...