Pehchan Faridabad
Know Your City

जाने फरीदाबाद में कोरोना काल के दौरान कैसे लें नेहरू कॉलेज में एडमिशन

फरीदाबाद :बच्चो की सुरक्षा को देखते हुए कोरोना काल के कारण काफी महीनो से स्कूल और कॉलेज बंद पड़े है और आगे भी स्कूल और कॉलेजो को खोलने की सरकार की ओर से अभी कोई गाइडलाइन जारी नहीं की गई है। तीसरे चरण के lockdown के बाद चौथे चरण में अनलॉक की प्रक्रिया शुरू हो चुकी है और बच्चो के रिजल्ट भी घोषित किये जा चुके है । परिणाम आने के बाद सभी बच्चे अच्छे कॉलेजो में एडमिशन ढूंढ़ने की प्रक्रिया शुरू कर देते है, लेकिन इस बार सरकार की ओर से एडमिशन को लेकर अभी कोई गाइड लाइन जारी नहीं की गई है जिसकी वजह से बच्चो को एडमिशन में काफी परेशानिओ का सामना करना पड़ रहा है।

इस परेशानी को देखते हुए पहचान फरीदाबाद की टीम सेक्टर 16 A में इसस्थित नेहरू कॉलेज पहुंची और वहा के प्राचार्य डॉक्टर ओपी रावत से बच्चो के एडमिशन को लेकर बातचीत की बाते दे की डॉक्टर ओपी रावत को अनलॉक 2 की प्रक्रिया के दौरान पंडित जवाहर लाल नेहरू राजकीय स्नातकोत्तर कॉलेज के प्राचार्य के रूप में नियुक्त किया गया है।

उन्होंने पहले दिन से ही कॉलेज की गतिविधियों और कोविड-19 के कारण के ऑनलाइन शिक्षण द्वारा विद्यार्थियों को मार्ग दर्शन देने के निर्देश दिए और साथ ही कोविड19 के बाद कॉलेज के खोलने से लेकर बच्चो की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए सुरक्षा कमिटी गठित कर दी गयी है।

बच्चो के एडमिशन को लेकर ओपी रावत ने बताया की उन्होंने कॉलेज की वेबसाइट पर सारे दिशा निर्देश जारी कर दिए है और साथ ही जिन बच्चो को ऑनलाइन एडमिशन में परेशानी हो सकती है उनके लिए कॉलेज की वेबसाइट पर कॉलेज के एडमिशन के लिए हेल्पलाइन नंबर जारी क्र दिए गए है।

कॉलेज की एडमिशन की गाइड लाइन के साथ साथ उन्होंने बताया की नेहरू कॉलेज में काफी दिनों से lockdown के कारण बंद पड़े भवन निर्माण की प्रक्रिया भी सुरु कर दी गयी है और अगर सब सही रहा तो जनबरी 2022 तक भवन बनाने का काम सम्पूर्ण किया जाएगा

इसके साथ साथ कॉलेज में गर्ल्स की सेफ्टी को लेकर भी युथ रेड क्रॉस कमिटी भी गठित की गयी है ताकि कभी भी किसी महिला विद्यार्थी को किसी भी परेशानी का सामना न करना पड़े।

प्राचार्य डॉक्टर ओपी रावत कहना है की पढ़ाई के साथ साथ बच्चो को अपनी तर्क और रीजनिंग पार्ट पर भी ध्यान देने की अवसक्ता है इस चीज़ को ध्यान मैं रखते हुए कॉलेज मैं स्टार्टअप इनक्यूबेटर का निर्माण किया गया है ताकि इसके द्वारा पढाई के अलावा भी बच्चे अपने हुनर को निखार सके।

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More