HomeFaridabadसाल 2024 का सूरजकुंड मेला होगा बेहद ही ज्यादा ख़ास, यहां जानें...

साल 2024 का सूरजकुंड मेला होगा बेहद ही ज्यादा ख़ास, यहां जानें कैसे

Published on

साल 2024 का अंतराष्ट्रीय सूरजकुंड हस्तशिल्प मेला Faridabad वासियों के लिए बेहद ही ख़ास होने वाला है। क्योंकि अब की बार शहरवासियो को मेले की झलक शहर के चौराहों पर भी देखने को मिलेगी। दरअसल मेला प्राधिकरण अबकी बार शहर के प्रमुख चौराहों पर बड़ी स्क्रीन लगाने वाला है, ताकि मेले में न जाने वाला व्यक्ति भी मेले का दीदार कर सके।

साल 2024 का सूरजकुंड मेला होगा बेहद ही ज्यादा ख़ास, यहां जानें कैसे

स्क्रीन शहर के किस किस चौराहे पर लगेंगी इसके लिए 12 जनवरी को मेला प्राधिकरण जिला प्रशासन के साथ बैठक करेगा। वैसे स्क्रीन के साथ साथ मेले का लाइव प्रसारण सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर भी किया जाएगा। जानकारी के लिए बता दें कि इस बार मेले की थीम स्टेट गुजरात और भागीदार देश तंजानिया बनेगा। यानि की अबकी बार मेले में गुजरात और तंजानिया की कला संस्कृति देखने को मिलेगी। साथ ही गुजरात का प्रसिद्ध सोमनाथ मंदिर और तंजानिया का चिड़िया घर भी मेले में आकर्षक का केंद्र होगा।

बता दें कि इस से पहले भी साल 1997 में गुजरात मेले की थीम स्टेट बन चुका है। उस समय मेले में 249 स्टॉल लगाई गई थी, जिसे देखने के लिए करीब 2.96 लाख लोग आए थे। क्योंकि उस साल गुजरात ने काफ़ी अच्छा प्रदर्शन किया था और इस बार भी गुजरात ने मेला प्राधिकरण के सामने काफ़ी अच्छा प्रदर्शन किया है, जिस वज़ह से उसे थीम स्टेट बनाया गया है।

साल 2024 का सूरजकुंड मेला होगा बेहद ही ज्यादा ख़ास, यहां जानें कैसे

इसके साथ ही बता दें कि पूर्वोत्तर राज्यों को सांस्कृतिक थीम स्टेट चुन गया है, ऐसे में इसके लिए मेला परिसर में एक अलग चौपाल बनाई जाएगी। इसकी और जानकारी देते हुए हरियाणा पर्यटन निगम के प्रबंध निदेशक नीरज कुमार ने बताया कि,”तंजानियां को मेले का भागीदार देश और पूर्वोत्तर राज्यों को सांस्कृतिक थीम स्टेट चुन लिया गया है, जबकि गुजरात मेले का थीम स्टेट बनने की प्रक्रिया में हैं।”

जानकारी के लिए बता दें कि 2023- शंघाई सहयोग संगठन के सदस्य देश, 2022-2020 उजबेकिस्तान, 2019 – थाइलैंड, 2018- किर्गिस्तान, 2017 – मिश्र देश, 2016 – जापान व चीन, लेबनान – 2015 में, श्रीलंका – 2014 में, अफ्रीकन देश-2013 में, थाईलैंड-2012 में मेले के भागीदार देश बने थे।

Latest articles

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

पुलिस का दुरूपयोग कर रही है भाजपा सरकार-विधायक नीरज शर्मा

आज दिनांक 26 फरवरी को एनआईटी फरीदाबाद से विधायक नीरज शर्मा ने बहादुरगढ में...

श्री राम नाम से चली सरकार भूले तुलसी का विचार और जनता को मिला केवल अंधकार (#_बजट): भारत अशोक अरोड़ा

खट्टर सरकार ने आज राज्य के लिए आम बजट पेश किया इस दौरान सीएम...

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित हुआ दो दिवसीय बसंतोत्सव

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित दो दिवसीय बसंतोत्सव के शुभ अवसर पर...

More like this

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

पुलिस का दुरूपयोग कर रही है भाजपा सरकार-विधायक नीरज शर्मा

आज दिनांक 26 फरवरी को एनआईटी फरीदाबाद से विधायक नीरज शर्मा ने बहादुरगढ में...

श्री राम नाम से चली सरकार भूले तुलसी का विचार और जनता को मिला केवल अंधकार (#_बजट): भारत अशोक अरोड़ा

खट्टर सरकार ने आज राज्य के लिए आम बजट पेश किया इस दौरान सीएम...