Pehchan Faridabad
Know Your City

जेसी बोस वाईएमसीए यूनिवर्सिटी ने विद्यार्थियों को दी बड़ी राहत,फीस हो सकती है माफ

जेसी बोस वाईएमसीए यूनिवर्सिटी ने विद्यार्थियों को दी बड़ी राहत : विद्या ऐसा धन है जो आपसे कोई चुरा नहीं सकता | बहुत से लोग विद्या ग्रहण तो करना चाहते हैं, लेकिन आर्थिक कमजोरी के कारण उनके सपने पूरे नहीं हो पाते | महामारी कोरोना ने बहुत से लोगों की नौकरी छुड़वा दी है | इसको देखते हुए जेसी बोस वाईएमसीए ने अपने विद्यार्थियों के लिए एक सहारनीय कदम उठाया है | वाईएमसीए ने आर्थिक रूप से कमजोर और जरूरतमंद विद्यार्थियों की सहायता के लिए जल्द ही एक नीति लाने की घोषणा की है | वहीं वर्तमान सेमेस्टर की फीस का भुगतान दो किस्तों में करने की अनुमति देकर बड़ी राहत दी है |

वाईएमसीए शुरू से ही सामाजिक कार्यों में जुटा रहा है | कोरोना काल में यूनिवर्सिटी का हॉस्टल परिसर क्वारंटाइन सेंटर बनाया गया था | कुलपति प्रो. दिनेश कुमार ने कहा कि विश्वविद्यालय कोरोना महामारी के बीच विद्यार्थियों और उनके परिजनों को हो रही कठिनाइयों को समझता है | ऐसे में उन्हें राहत देने के लिए हरसंभव उपाय करने के लिए प्रतिबद्ध है |

बीमारी और समस्या किसी को बता कर नहीं आती | यूनिवर्सिटी की इस पहल को सभी कॉलेजों को भी अपनाना चाहिए | सेमेस्टर फीस का भुगतान दो किस्तों में करने के प्रावधान से विद्यार्थियों को हो रही वित्तीय कठिनाइयों से बड़ी राहत मिलेगी | अब विद्यार्थियों को 17 अगस्त, 2020 तक पूरी फीस की जगह केवल 50 प्रतिशत सेमेस्टर फीस का भुगतान करना होगा। हालांकि, एक ही किस्त में पूरी सेमेस्टर फीस देने के इच्छुक विद्यार्थियों के लिए भी अलग से विकल्प होगा |

यूनिवर्सिटी विद्यार्थियों को प्रोत्साहित करने के लिए हर संभव कदम उठा रही है | विश्वविद्यालय द्वारा बिना विलंब सेमेस्टर फीस के भुगतान की अंतिम तिथि 17 अगस्त, 2020 निर्धारित की गई है | कुलपति ने विद्यार्थियों को ऑनलाइन कक्षाओं में भाग लेने के लिए प्रोत्साहित करने के उद्देश्य से इंटरनेट सुविधा के लिए सेमेस्टर फीस से 447 रुपये माफ करने की भी घोषणा की है, और यह लागू हो चुकी है |

माहमारी का यह दौर सभी के लिए सबब बना हुआ है | लेकिन जनता को महामारी का डर अब दिखाई नहीं देता | कुलपति ने कहा कि जरूरतमंद विद्यार्थियों के लिए उनकी वित्तीय आर्थिक स्थिति एवं परिस्थितियों के अनुसार 20 से 100 प्रतिशत ट्यूशन फीस में राहत देने का प्रावधान किया जाएगा |

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More