HomeLife StyleHealthक्यों जरुरी है प्रकृति का संरक्षण, जानें इस खास दिन का महत्व

क्यों जरुरी है प्रकृति का संरक्षण, जानें इस खास दिन का महत्व

Published on

हर साल 28 जुलाई को विश्व प्रकृति संरक्षण दिवस मनाया जाता है। इसके माध्यम से प्राकृतिक संसाधनों की सुरक्षा को लेकर जागरूकता पैदा की जाती है।

एक स्वास्थ्य माहौल स्थिर और उत्पादक समाज की बुनियाद है। इस विचार पर ही विश्व प्रकृति संरक्षण दिवस आधारित है। इसके माध्यम से हमारी मौजूदा और भावी पीढ़ियों का कल्याण भी सुनिश्चित किया जाता है।

क्यों जरुरी है प्रकृति का संरक्षण, जानें इस खास दिन का महत्व

दरअसल असंतुलन के कारण आज के समय में हम ढेरों समस्याओं का सामना कर रहे हैं। उनमें ग्लोबल वार्मिंग, विभिन्न बीमारी, प्राकृतिक आपदा, बढ़ा हुआ तापमान शामिल है। अगर प्रकृति की सुरक्षा नहीं की गई तो धरती को तबाह होने से कोई भी नहीं बचा सकता।

अभी ही इसके दुश परिणाम सामने आने लगे हैं। देश और दुनिया के किसी इलाके में सूखा पड़ रहा है, तो वहां के लोग सूखे के कारण मौत की चपेट में आ रहे हैं, तो दूसरी तरफ कहीं बारिश ने तांडव मचा रखा है। यह सब प्राकृतिक असंतुलन के कारण हो रहा है।

क्यों जरुरी है प्रकृति का संरक्षण, जानें इस खास दिन का महत्व

गौरतलब है कि तीन प्रमुख तत्त्व जल, जंगल और जमीन इनके बिना प्रकृति अधूरी है। जिस देश में भी यह तीनों मौजूद हैं, वहां समृद्धि को देखा जाता है और सौभग्य से भारत में यह तीनों प्रचूर मात्रा उपलब्ध हैं। लेकिन दुर्भाग्य से इन चीज़ों का दोहन बहुत ही बेदर्दी से हो रहा है,

जिससे भारत में भी पर्यावरण असंतुलन का खतरा गहराता जा रहा है। इसलिए जरूरत है कि हम समय रहते सतर्क हो जाएं और देश को संभावित प्राकृतिक खतरे से बचाएं।

क्यों जरुरी है प्रकृति का संरक्षण, जानें इस खास दिन का महत्व

इसके लिए हमें कम से कम जिन चीज़ों पर ध्यान देने की आवश्यकता है, वो हैं जंगलों को ना काटें, ज्यादा से ज्यादा पोधे लगाएं, ज़मीन में उपलब्ध पानी का प्रयोग तभी करें जब आपको जरूरत हो, कार्बन जैसी नशीली गैसों का उत्पाद बन्द करें, उपयोग किए गए पानी का चक्रीकरण करें, ज़मीन के पानी को फिर से स्तर पर लाने के लिए वर्षा के पानी को सहेजने की व्यवस्था भी करें।

Written by – Ansh Sharma

Latest articles

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है: कशीना

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है, इसका संबंध...

भाजपा के जुमले इस चुनाव में नहीं चल रहे हैं: NIT विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा

एनआईटी विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा ने बताया कि फरीदाबाद लोकसभा सीट से पूर्व...

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

More like this

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है: कशीना

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है, इसका संबंध...

भाजपा के जुमले इस चुनाव में नहीं चल रहे हैं: NIT विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा

एनआईटी विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा ने बताया कि फरीदाबाद लोकसभा सीट से पूर्व...