Pehchan Faridabad
Know Your City

महामारी के प्रति लापरवाही बरतने पर जिला उपायुक्त ने फरीदाबाद वासियो की अपील


फरीदाबाद के जिला उपायुक्त यशपाल यादव ने कोरोना काल के समय में जिला प्रशासन द्वारा किये गए 4 महीने में किये गए कार्यो की समीक्षा को लेकर मीडिया से बात की ।उनके मुताबिक फरीदाबाद में हालात सुधार रहे हैं।

यशपाल यादव ने आज प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान जिले के कोरोना के आंकड़े जारी करते हुए कहा कि फरीदाबाद में लगातार हालात बेहतर होते जा रहे हैं।


मीडिया से बात करने के दौरान उन्होंने दावा किया कि फरीदाबाद में रिकवरी रेट 78% तक पहुंच गया है तो वहीं डबलिंग जो मार्च में 7 दिन का था अब वह 25 दिन पर पहुंच चुका है।

प्रदेश का सबसे ज्यादा पापुलेटेड शहर फरीदाबाद अब सामान्य होता जा रहा है। प्लाज्मा थेरेपी को लेकर भी उन्होंने जानकारी है।

इस प्रेस कॉन्फ्रेंस में उन्होंने लोगों को इस महामारी के प्रति लापरवाही न बरतने पर अपील की सावधानी ही हमें इस बीमारी से बचा सकती है इसलिए लोग हर समय इस बीमारी के प्रति सचेत रहें

ताकि हम जहां खुद इस बीमारी से सुरक्षित रह पाए वही हम अपने परिवार को भी सुरक्षित रख सकें. डिप्टी कमिश्नर ने कहा कि इस समय जिले में रिकवरी रेट बढ़ रहा है ऐसे में हमें लापरवाह नहीं होना है


प्रेस वार्ता के दौरान पत्रकारों से बातचीत करते हुए डिप्टी कमिश्नर यशपाल यादव ने कहा की आज इस प्रेस कॉन्फ्रेंस का मुख्य मकसद लोगों को लापरवाही ना करने के बारे में सचेत करना था. डिप्टी कमिश्नर ने कहा कि इस समय जिले में रिकवरी रेट बढ़ रहा है

ऐसे में हमें लापरवाह नहीं होना है क्यों उनकी जरा सी लापरवाही हमें और हमारे परिवार को खतरे में डाल सकती है.


उन्होंने कहा कि दिल्ली से सटे होने के कारण फरीदाबाद में दिल्ली से आने वाले लोगों का आना-जाना लगातार बना हुआ है जिसके चलते हमेशा खतरा बना रहता है इसलिए लोग मास्क लगाकर रखें और एक दूसरे से दूरी बनाकर रखें

तभी हम खुद सुरक्षित रह कर अपने परिवार को भी सुरक्षित रख सकते हैं ! उन्होंने उम्मीद जताई की आने वाले अगले महीने में रिकवरी रेट और भी अच्छा होगा और जल्दी ही हम इस बीमारी पर विजय हासिल कर पाएंगे।

ईएसआई अस्पताल में प्लाज्मा बैंक बनाया गया है। इस अस्पताल के अलावा अन्य किसी भी अस्पताल में प्लाज्मा डोनेट नहीं किया जा सकता है। प्लाज्मा डोनेट करने के कार्य में जिला रैडक्रास सोसायटी की ओर से प्लाज्मा बैंक टीम का सहयोग किया जाएगा।

उन्होंने बताया कि कोरोना से ठीक होने वाला मरीज नेगेटिव रिपोर्ट आने के 14 दिन बाद प्लाज्मा डोनेट कर सकता है। अब कोरोना से ठीक होने के बाद उन लोगों को प्लाज्मा डोनेट करने के लिए मोटिवेट किया जा रहा है। अब तक करीब 80 से अधिक लोगों ने प्लाज्मा डोनेट किया है।

सरकारी अस्पतालों में दाखिल मरीजों को प्लाज्मा निशुल्क दिया जाता है तथा प्राइवेट में दाखिल मरीजों के लिए सरकार ने रेट निर्धारित किए हुए हैं। इसके अलावा जिला में सेरोप्रवलेंस सर्वे किया गया, जिसमें 249 लोगों पर किए सर्वें में 41 लोग पाॅजीटिव मिले हैं।

उन्होंने कहा कि अब आगामी दिनों में बड़े स्तर पर सेरोप्रवलेंस सर्वे यानी एंटी बाॅडी सर्वे किया जाएगा। शहर की बड़ी कालोनियों में पहले तथा बाद में सभी एरिया में लोगों को स्क्रीन किया जाएगा। उन्होंने बताया कि कोविड मरीजों के लिए जिला प्रशासन ने सभी तैयारियां व जरूरी प्रबंध पूरे कर लिए है।

इसके तहत 10 हजार बेड की क्षमता की पूरी तैयारी है। इसके साथ ही आक्सीजन सिलेंडर व आक्सी मीटर की भी खरीद की गई है तथा खाने-पीने संबंधी इंतजाम पूरे किए गए हैं। जिला में विभिन्न स्थानों पर कोविड केयर सेंटर बनाए गए हैं,

जिसमें उन लोगों को शिफ्ट किया जाता है, जिनके पास होम क्वारेंटाइन की सुविधा नहीं है। उन्होंने कहा कि कोरोना इस जंग में जिला प्रशासन सही दिशा के कारण स्थिति बेहतर के साथ और बेहतर हो रही है।

उपायुक्त ने पत्रकारों के सवाल पर बताया कि पहले कोरोना टेस्ट की रिपोर्ट आने में समय लगता था, लेकिन अब एंटीजन टेस्ट के माध्मय से 15 मिनट के दौरान परिणाम का पता चल जाता है। उन्होंने बताया कि कोई भी अस्पताल या व्यक्ति सीधे रूप से प्लाज्मा डोनर को प्लाज्मा डोनेट करने के लिए संपर्क नहीं कर सकता,

अगर कोई ऐसा करता है तो उसके खिलाफ कानूनी कार्यवाही अमल में लाई जाएगी। उन्होंने बताया कि पुलिस द्वारा मास्क न पहनने पर चालान किया जा रहा है तथा साथ ही पांच मास्क भी उसे दिए जा रहे हैं।

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More