HomeEducationबच्चो पर लिखी कविता "हिय के झरोखे में" सभी लोगो को बच्चो...

बच्चो पर लिखी कविता “हिय के झरोखे में” सभी लोगो को बच्चो के प्रति करती जागरूक – डॉ संगीता वर्मा

Published on

मैं डॉ. संगीता वमऻ मेरा जन्म 8 अक्टूबर 1978 को हरियाणा राज्य के रोहतक शहर में हुआ! मैंने अपनी शिक्षा ‘महर्षि दयानंद विश्वविद्यालय’ रोहतक से की तथा ‘ डॉक्टरेट’ की उपाधि ‘चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय’ मेरठ से की तथा मैंने अपना शोध विषय नारियों के प्रति हो रहें अत्याचारों पर चुना।

मैं एक साहित्यक परिवार से हूँ तथा इस परिवेश में ही मेरा विकास हुआ! मेरे पिताजी और मेरे बडे़ भाई भी हिन्दी साहित्य से ही सम्बन्ध रखते हैं और वो भी प्रसिद्ध साहित्यकार हैं! मुझे साहित्यकार बनने की प्रेरणा पारिवारिक वातावरण से मिली है घर में हमेशा प्रसिद्ध साहित्यकारों का आगमन रहा!

बच्चो पर लिखी कविता "हिय के झरोखे में" सभी लोगो को बच्चो के प्रति करती जागरूक - डॉ संगीता वर्मा

जिसके कारण मेरे विचारों पर साहित्य के प्रति रूचि बढती चली गई!अपनी कविता ‘ हिय के झरोखे में’ के माध्यम से मैंने सभी अभिभावकों को समझाने का प्रयास किया कि हम मासूम बच्चों पर ज्यादा अपनी मनमानी न थोपे ज्यादा जोर जबरदस्ती कही उनके अन्त का कारण न बन जाऐ उन्हें एक स्वछन्द पंछी की तरह विचरण करने दें ताकि वह अपने प्रयास से अपनी ऊचांई तक खुदबखुद पहुँच सके!

आज पूरा विश्व ‘कोरोना महामारी’ से घिरा हुआ है तथा इसका अभी तक कोई समाधान नजर नहीं आ रहा इस महामारी की चपेट में आए काफी लोगों की मृत्यु हो चुकी हैं, काफी लोगों की नौकरियां जा चुकी हैं, काफी लोगों के घर बाद हो चुके हैं इस पर आधारित मेरी यह कविता शायद आप सभी को पसंद आऐगी मैं सभी से यही आशा करती हूँ!
धन्यवाद

Latest articles

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

More like this

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...