Pehchan Faridabad
Know Your City

लॉक डाउन के समय फरीदाबाद के इस संगठन ने लगाए सैकड़ों पौधे

फरीदाबाद मानवीय जीवन में पेड़ पौधों बेहद जरूरी है । पेड़ पौधों की वजह से एक से बढ़कर एक समस्या का हल किया जा सकता है अब चाहे वह दवाइयां हो या चाहे वह मौसम में परिवर्तन लाना हो हर प्रकार से पेड़ पौधे हमारे जीवन में एक अहम हिस्सा है इसके अलावा आपको बताना चाहेंगे कि यदि इस धरती पर पेड़ पौधे नहीं होंगे तो मानव जीवन असंभव है।

पेड़ पौधों का मुख्य कार्य जिस वजह से इंसान इस धरती पर जी रहे हैं वह है कार्बन डाइऑक्साइड को ऑक्सीजन में बदलना आपको बता दें कि ऑक्सीजन गैस से ही एक व्यक्ति सांस ले पाता है।

लेकिन आजकल की भागदौड़ भरी जिंदगी में और आधुनिक युग में लोग इस बात से बिल्कुल अछूते हो गए हैं कि आखिर उनके जीवन में पेड़ कितने हैं और अपने चंद रुपयों के फायदे के लिए पेड़ों को काट दिया जाता है मगर वृक्षों की घटती संख्या को देख कई संगठन आगे आकर पेड़ पौधे लगाने का महान कार्य करते हैं आज हम आपको एक ऐसे ही संगठन के बारे में बताने जा रहे हैं जिन्होंने लॉकडाउन के दौरान अपना संगठन बनाया और सैकड़ों की तादाद में पेड़ पौधे लगाएं।

हम बात कर रहे हैं फरीदाबाद शहर के ट्री फॉर ईच संगठन (Tree For Each Foundation) की जिसने कार्बन फुटप्रिंट को कम करने के लिए ज्यादा से ज्यादा पेड़ पौधे लगाएं आपको बता दें कि संगठन की तैयारियां शुरू होने से पहले लोगों में वृक्षारोपण को लेकर काफी उत्सुकता थी लेकिन आखिरकार इसी वर्ष अप्रैल 2020 में यह संगठन तैयार हुआ और बाधाओं का सामना करते हुए 12 जुलाई 2020 को काम करने की शक्ति और दृढ़ संकल्प हासिल करने के लिए सफलता पूर्वक अपना पहला वृक्षारोपण अभियान चलाने में सक्षम हुए।

इस संगठन के बारे में यदि बात करें तो आपको बताना चाहेंगे कि संगठन के सदस्य है अब तक 1050 पौधे लगा चुके हैं । जिसकी समय समय से देखभाल भी की जा रही है ।

जब इस संगठन के संचालक पीयूष कुंदरा से बातचीत की तो उन्होंने बताया कि इस संगठन को खोलने का मुख्य उद्देश्य पर्यावरण को स्वच्छ बनाना था और इसके पीछे उन्होंने एक कहानी भी बताइए जिसमें उन्होंने बताया डेढ़ साल पहले उस व्यक्ति को उन्हें अलविदा कहना पड़ा जिसे उन्होंने सबसे अधिक प्रिय माना उन्हें इस चीज से उनकी जिंदगी को काफी नुकसान हुआ लेकिन आपको बता दें कि इस दुर्घटना का कारण आसपास का प्रदूषित वातावरण था ।

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More