HomeGovernmentछोटी मछलियों पर शराब घोटाले की गाज गिराकर बढ़े मगरमच्छो को बचा...

छोटी मछलियों पर शराब घोटाले की गाज गिराकर बढ़े मगरमच्छो को बचा रही है एसईटी जांच : विद्रोही

Published on

हरियाणा में शराब घोटाले की जांच के लिए बनी विशेष जांच टीम (Special Enquiry Team) ने अपनी रिपोर्ट ने सौंप दी है। गृह सचिव विजयवर्धन और मुख्यमंत्री कार्यालय को सौंपी गई इस जांच रिपोर्ट का वजन करीब 15 से 20 किलो है। गृह मंत्री अनिल विज ने जांच रिपोर्ट मिलने की पुष्टि की है,

इस पर स्वयंसेवी संस्था ग्रामीण भारत के अध्यक्ष एवं हरियाणा प्रदेश कांग्रेस कमेटी के प्रवक्ता वेदप्रकाश विद्रोही ने आरोप लगाया लॉकडाउन में करोड़ों रुपए के शराब घोटाले हुए है जिसपर पर्दा डालने के लिए जांच के लिए बनी एसईटी ने बिल्कुल वैसी ही जांच रिपोर्ट दी है जैसी सरकार बनवाया चाहती थी

छोटी मछलियों पर शराब घोटाले की गाज गिराकर बढ़े मगरमच्छो को बचा रही है एसईटी जांच : विद्रोही

विद्रोही ने कहा वे पहले दिन से कह रहे हैं कि कथित एसईटी जांच पूरे मामले में पर पर्दा डालने व शराब घोटाले में करोड़ों रुपए की चांदी कूटने वाले सत्तारूढ़ नेताओं, उच्च आबकारी व पुलिस अधिकारियों और शराब माफिया को बेनकाब होने से बचाने का सुनियोजित षड्यंत्र था

अब एसइईटी ने 80 दिन की कथित जांच के बाद 20 किलो वजन की 1400 पेज की जो जांच रिपोर्ट हरियाणा के गृह मंत्री को सौंपी है उसमें वास्तव में न कोई वजन है, ना कोई गंभीरता, न हीं ईमानदारी और न ही कोई दोषी जांच के नाम पर एसईटी ने छोटी-मोटी मछलियों पर शराब घोटाले की गाज गिराकर घोटाले के सरगना बड़े मगरमच्छों को बचाकर सत्य को दबा दिया गया है

छोटी मछलियों पर शराब घोटाले की गाज गिराकर बढ़े मगरमच्छो को बचा रही है एसईटी जांच : विद्रोही

विद्रोही ने कहा कि जिस कथित एसईटी को न छापा मारने का अधिकार था, न ही किसी को सम्मान करने का अधिकार था ऐसी अधिकार विहीन, दंतहीन जांच कमेटी क्या जांच करती और क्या शराब घोटाला के सरगनाओ को बेनकाब करती । घोटाले पर पर्दा डालने के लिए बनी एसईटी ने जांच के नाम पर वही किया जो भाजपा-संघी सरकार चाहती थी लोकडाउन में शराब घोटाला करके सत्तारूढ़ नेताओं, की उच्च आबकारी-पुलिस अधिकारियों व शराब माफिया ने करोड़ों रुपए के वारे-न्यारे कर लिए और 80 दिन की जांच के नाम पर यही कहावत चरितार्थ हुई, खोदा पहाड़ निकली चुहिया वह भी मरी हुई, बड़ी हुई

विद्रोही ने मांग कि यदि मनोहर लाल खट्टर में जरा सी भी ईमानदारी, नैतिकता, भ्रष्टाचार के विरुद्ध लडऩे का जज्बा बचा है तो शराब घोटाले के सरगनाओ को बेनकाब करके उन्हें दंडित करवाने के लिए पूरे घोटाले की जांच पंजाब-हरियाणा हाईकोर्ट के सिटिंग जज से करवाने की हिम्मत दिखाएं1 वरना यही माना जाएगा ईमानदारी का ढोल पीटने वाले मनोहर लाल खट्टर स्वयं भ्रष्टाचारियों के संरक्षक व सरगना है1

Latest articles

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

More like this

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...