Pehchan Faridabad
Know Your City

फरीदाबाद एसओएएस के बच्चो ने रक्षा बंधन, पर मैक्स हेल्थकेयर के कोरोना-योद्धाओं को भेजी राखियां

रक्षा बंधन के शुभ अवसर पर, फरीदाबाद के एसओएस चिल्ड्रेन्स विलेजेज के 80 से अधिक बच्चों ने दिल्ली स्थित मैक्स स्मार्ट सुपर स्पेशियलिटी हॉस्पिटल में कोरोना-योद्धाओं को भेजी राखियां

साकेत और दिल्ली में पूसा रोड स्थित बीएलके सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल सहित मैक्स हेल्थकेयर अस्पतालों के डॉक्टरों के लिए राखियां और खुद से बनाए कार्ड भेजे।

बच्चों द्वारा हाथ से तैयार किए गए रंगीन, जीवंत कार्डों में दोनों अस्पतालों में कोरोना योद्धाओं को संदेश दिया गया है और महामारी के समय में लोगों की सुरक्षा में उनके सभी प्रयासों और बलिदानों के लिए उन्हें धन्यवाद दिया गया है।

अपने हाथ से कार्ड बनाने वाले एक एसओएस बच्चे ने कहा, ʺहमारी ओर से कोरोना वायरस से लड़ने के लिए धन्यवाद। आप कोरोना वायरस से हमारी रक्षा करने और जीवन बचाने के लिए दुनिया के वास्तविक नायक हैं।”

कार्ड बनाने वाले एक अन्य बच्चे ने कहा, “आप सभी असली हीरो हैं। किसी आदमी का उद्देश्य यह नहीं होना चाहिए कि वह आराम और सुविधाजनक स्थितियों में काम करे, बल्कि वह चुनौती और संकट के समय में काम करे।ʺ
बच्चों से मिले इस तरह के प्यार और स्नेह पर डॉक्टर अभिभूत थे।

मैक्स स्मार्ट सुपर स्पेशियलिटी हॉस्पिटल, साकेत, नई दिल्ली के वीपी और यूनिट हेड डॉ गुरप्रीत सिंह ने कहा, “इस साल फरीदाबाद के एसओएस चिल्ड्रेन्स विलेज के बच्चों के द्वारा भेजी गई राखी के कारण हमारे लिए हमारा रक्षा बंधन बहुत खास हो गया है। जिन जटिल और सुंदर कार्डों को बच्चों ने अपने हाथों से तैयार किया है, उनमें इन कार्डों को बनाने के लिए उनके द्वारा प्यार पूर्वक की गई मेहनत झलकती है और इनमें से हर कार्ड को बनाने में कई घंटे लग गए होंगे।

कार्ड में हमारे डॉक्टरों और नर्सों के लिए दिल से महसूस किए जाने वाले संदेश हैं। हमारे कोरोना योद्धा मानव जाति के सबसे बड़े महामारी का सामना करने के दौरान इन बच्चों का प्यार भरे इन संदेशों से अति-उत्साहित हैं। हम सभी एसओएस बच्चों को इन प्यार भरे संदेशों के लिए धन्यवाद देते हैं। ”

बीएलके सुपर स्पेशियलिटी हॉस्पिटल, नई दिल्ली के यूनिट हेड और वाइस प्रेसीडेंट डॉ संजय मेहता ने कहा, “हम सभी एसओएस बच्चों से राखी और कार्ड प्राप्त कर गहराई से उनसे जुड गये हैं। पिछले कुछ महीनों में कोरोना योद्धाओं के जाने के बाद यह हमारे लिए एक गहरा भावनात्मक क्षण है। हम आने वाले कई वर्षों तक इनके प्यार और स्नेह के इन प्रतीकों को संजो कर रखेंगे। और यह बंधन आजीवन रहेगा।”

एसओएस चिल्ड्रेन्स विलेजेज ऑफ इंडिया के महासचिव श्री सुदर्शन सुचि ने कहा, “इस रक्षा बंधन, हम और हमारे बच्चे महामारी से मानवता को बचाने के लिए डॉक्टरों, नर्सों और अन्य सभी कोविड योद्धाओं के उल्लेखनीय योगदान की सराहना करते हैं। उन्हें सम्मानित करने करते हुए, हम भक्ति, देखभाल और प्रतिबद्धता के स्थायी बंधन बनाने के लिए अपनी एसओएस माताओं के निस्वार्थ प्रयासों की सराहना करते हैं।”

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More