Pehchan Faridabad
Know Your City

UPSC में 4 रैंक और अमेरिका तक पहचान बना चुके, हिमांशु जैन का बल्लभगढ़ में हुआ भव्य स्वागत

यूपीएससी की परीक्षा में देशभर में 4 रैंक लेने वाले हिमांशु जैन का बल्लभगढ़ जैन समाज द्वारा जोरदार स्वागत किया गया । हिमांशु जैन बल्लभगढ़ के चावला कॉलोनी स्थित जैन मंदिर पहुंचे उसके बाद मेन बाजार स्थित जैन मंदिर में माथा टेकने के बाद जैन कॉलोनी में रह रहे अपने रिश्तेदारों के घर पहुंचे

जहां हरियाणा के परिवहन मंत्री मूलचंद शर्मा के बड़े भाई टिपर चंद शर्मा ने भी उनका गुलदस्ता देकर परिवहन मंत्री की तरफ से बल्लभगढ़ पहुंचने पर स्वागत किया। स्वागत करते दिखाई दे रहे लोग बल्लभगढ़ के जगदीश कॉलोनी के हैं ।

पलवल जिले के गांव बंचारी के रहने वाले हिमांशु जैन ने देशभर में हरियाणा का नाम रोशन किया है।

उन्होंने यूपीएससी में 4 से लेकर युवाओं को संदेश दिया है कि वह भी मेहनत और लगन के साथ यदि पढ़ाई करें तो कोई भी चीज नामुमकिन नहीं है ।उन्होंने कहा कि उन्हें प्रेरणा समाज के लोगों से ही मिलती है उन्होंने कहा कि उनका उद्देश्य समाज के लिए बेहतर शासन और सुविधाएं देना होगा। इस मौके पर उनके साथ उनके दादा ओमप्रकाश भी मौजूद रहे।

हरियाणा के परिवहन मंत्री मूलचंद शर्मा के बड़े भाई टिपर चंद शर्मा ने भी हिमांशु जैन को बधाई दी ।उनके परिवार को भी शुभकामनाएं दी।उन्होंने कहा कि हिमांशु जैन ने बंचारी गांव में पहले से ही चली आ रही आईएएस बनने की परंपरा को आगे बढ़ाया है। इससे पहले भी बंचारी गांव से आईएएस के पद पर रह चुके हैं। भाजपा नेता ने बताया कि बंचारी गांव पूरे विश्व में सांस्कृतिक मामलों के लिए पहचाना जाता है।

लेकिन इसकी एक पहचान यहां से पढ़ने वाले गांव के बच्चों की भी है जो देश में यूपीएससी जैसी परीक्षाओं में उत्तीर्ण होकर देश में नाम कमा रहे हैं।इस मौके पर हिमांशु जैन के दादा ओमप्रकाश जैन भी मौजूद रहे बता दें कि हिमांशु जैन ने पलवल होडल से ही अपनी मिडिल क्लास तक पढ़ाई करने के बाद दिल्ली में पढ़ाई की और उसके बाद पहले ही चांस में यूपीएससी में 4 रैंक लेकर हरियाणा प्रदेश का नाम रोशन किया है।

स्वागत करने वालों में पारस जैन जगदीश जैन सुमित जैन हरियाणा पंजाब हाई कोर्ट के उप महाधिवक्ता अजय शर्मा ने भी हिमांशु जैन का स्वागत किया जबकि शहर में स्वागत करने वालों में समाजसेवी राकेश गुर्जर ,बिट्टू पंजाबी ,राजू गोयल सहित काफी लोग मौजूद रहे।

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More