HomeReligionजन्माष्टमी तिथि पर सस्पेंस खत्म, जानें कब मनाएं श्रीकृष्ण का जन्मोत्सव

जन्माष्टमी तिथि पर सस्पेंस खत्म, जानें कब मनाएं श्रीकृष्ण का जन्मोत्सव

Published on

श्री कृष्ण का जन्मोत्सव के लिए तैयारियां तेज हो गई हैं। हालांकि इस बार कोरोना वायरस महामारी के कारण मंदिरों में बड़े आयोजन नहीं होगे।11 अगस्त और 12 अगस्त दोनों दिन जन्माष्टमी मनाई जा रही है।

हिंदू धर्म मान्यताओं के अनुसार, भाद्रपद के कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को ही श्रीकृष्ण का जन्म हुआ था। जन्माष्टमी के दिन लोग भगवान श्रीकृष्ण का आशीर्वाद प्राप्त करने के लिए उपवास रखने के साथ ही भजन-कीर्तन और विधि-विधान से पूजा करते हैं।

जन्माष्टमी तिथि पर सस्पेंस खत्म, जानें कब मनाएं श्रीकृष्ण का जन्मोत्सव

  ज्योतिषियों के अनुसार भगवान श्री कृष्ण के जन्म के समय  रात 12 बजे अष्टमी तिथि और रोहिणी नक्षत्र था।

इसलिए इसी नक्षत्र और तिथि में जन्माष्टमी मनाई जाती है। इस बार 11 अगस्त को जन्माष्टमी तिथि सुबह लग जाएगी, जो 12 अगस्त को सुबह 11 बजे रहेगी, वहीं रोहिणी नक्षत्र 13 अगस्त को लग रहा है। ऐसे में सभी कंफ्यूज हैं कि 11 को पूजा औऱ व्रत करें या फिर 12 को। 

जन्माष्टमी तिथि पर सस्पेंस खत्म, जानें कब मनाएं श्रीकृष्ण का जन्मोत्सव

कई ज्योतिषियों का कहना है की 11 और 12 अगस्त, दोनों ही दिन जन्माष्टमी मनाई जाएगी. हालांकि जन्माष्टमी का व्रत रखने वाले लोगों को एक खास बात का ध्यान रखना होगा. ज्योतिषविद का कहना है कि वैष्णव और स्मार्त दो अलग-अलग दिन जन्माष्टमी मनाते हैं.

मंगलवार, 11 अगस्त को स्मार्त समुदाय के लोग जन्माष्टमी मनाएंगे. यानी जो शादी-शुदा लोग, पारिवारिक या गृहस्थ लोग जन्माष्टमी का व्रत रखेंगे. जबकि बुधवार, 12 अगस्त को उदया तिथि में वैष्णव जन के लोग जन्माष्टमी मनाएंगे. मथुरा और काशी में जितने भी मंदिर है, वहां 12 तारीख को ही जन्माष्टमी होगी.

जन्माष्टमी तिथि पर सस्पेंस खत्म, जानें कब मनाएं श्रीकृष्ण का जन्मोत्सव

पूजन का सही समय


11 अगस्त को सूर्योदय के बाद ही अष्टमी तिथि शुरू होगी. अष्टमी तिथि मंगलवार, 11 अगस्त सुबह 9:06 बजे से शुरू हो जाएगी. यह तिथि बुधवार, 12 अगस्त सुबह 11:16 मिनट तक रहेगी. वैष्णव जन्माष्टमी के लिए 12 अगस्त का शुभ मुहूर्त बताया गया है. बुधवार रात 12.05 बजे से 12.47 बजे तक बाल-गोपाल की पूजा-अर्चना की जा सकती है.

श्रीकृष्ण जन्माष्टमी में अष्टमी तिथि और रोहिणी नक्षत्र का खास ध्यान रखा जाता है. जब ये दोनों योग आपस में मिलते हैं तो जयंती योग बनता है. दूसरे शब्दों में कहें तो सामान्य वर्ग के लोग 11 अगस्त को ही जन्माष्टमी मनाएंगे. जबकि वैष्णव, संन्यासी या बैरीगी 12 अगस्त को जन्माष्टमी मनाएंगे.

जन्माष्टमी तिथि पर सस्पेंस खत्म, जानें कब मनाएं श्रीकृष्ण का जन्मोत्सव

बता दे की जन्माष्टमी पर इस बार वृद्धि संयोग बन रहा है, जो अति उत्तम हैं। भगवान कृष्ण के जन्मोत्सव के त्योहार के बाद भगवना का छठी पूजन कार्यक्रम भी धूमधाम से होता है। इस दिन कान्हा जी की छठी मनाई जाती हैऔर मंदिरों में प्रसाद वितरण किया जाता है।  

कैसे मनाएं जन्माष्टमी?


प्रातः काल स्नान करें और व्रत या पूजा का संकल्प लें. दिन भर जलाहार या फलाहार ग्रहण करें, सात्विक रहें. मध्यरात्रि को भगवान कृष्ण की धातु की प्रतिमा को किसी पात्र में रखें. उस प्रतिमा को पहले दूध, दही, शहद, शर्करा और फिर अंत में घी से स्नान कराएं इसी को पंचामृत स्नान कहते हैं

.इसके बाद जल से स्नान कराएं. तत्पश्चात पीताम्बर, पुष्प और प्रसाद अर्पित करें. पूजा करने वाले व्यक्ति काले या सफेद वस्त्र धारण न करें. इसके बाद अपनी मनोकामना के अनुसार मंत्र का जाप करें. अंत में प्रसाद ग्रहण करें और वितरण करें.

Latest articles

NIT क्षेत्र में पानी की किल्लत के समाधान को लेकर FMDA के CEO से मिले विधायक नीरज शर्मा

आज दिनांक 29 मई 2024 को एनआईटी फरीदाबाद से विधायक नीरज शर्मा ने फरीदाबाद...

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है: कशीना

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है, इसका संबंध...

भाजपा के जुमले इस चुनाव में नहीं चल रहे हैं: NIT विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा

एनआईटी विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा ने बताया कि फरीदाबाद लोकसभा सीट से पूर्व...

More like this

NIT क्षेत्र में पानी की किल्लत के समाधान को लेकर FMDA के CEO से मिले विधायक नीरज शर्मा

आज दिनांक 29 मई 2024 को एनआईटी फरीदाबाद से विधायक नीरज शर्मा ने फरीदाबाद...

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है: कशीना

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है, इसका संबंध...

भाजपा के जुमले इस चुनाव में नहीं चल रहे हैं: NIT विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा

एनआईटी विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा ने बताया कि फरीदाबाद लोकसभा सीट से पूर्व...