Pehchan Faridabad
Know Your City

हरियाणा के सभी जिलों में होगा सिरों सर्वे : स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज


हरियाणा में 41 हजार से अधिक लोगों को चपेट में ले चुके कोरोना वायरस पर अंकुश लगाने के लिए स्वास्थ्य विभाग अब एक नई पहल करने जा रहा है। हरियाणा के स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने ऐलान किया है हरियाणा के सभी जिलों में सीरो सर्वे (सीरो सर्विलांस) किया जाएगा।

इस सर्वे में प्रदेश के गांवों में 500 और शहर में 350 लोगों को टेस्ट किया जाएगा। विज ने बताया कि पहले भी केन्द्र सरकार ने कुरुक्षेत्र जिले में यह सीरो सर्विलांस करवाया था, लेकिन अब पीजीआई चंडीगढ़ के सहयोग से हरियाणा के सभी जिलों में सीरो सर्वे करवाया जाएगा।

हरियाणा के गृह एवं स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने कहा कि कोविड-19 को लेकर आज से प्रदेश के सभी जिलों में सीरो-सर्वेक्षण शुरू किया जाएगा। यह बात वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से सीरो-सर्वेक्षण की समीक्षा बैठक में सामने आई।


स्वास्थ्य मंत्री ने बताया सीरो-सर्वेक्षण में व्यक्तिगत रूप से समूहों की जांच की जाएगी ताकि महामारी के फैलाव का पता लगाया जा सके। इस जांच से कोविड-19 के संक्रमण की स्थिति को बेहतर समझने में मदद मिलेगी।


स्वास्थ्य मंत्री ने बताया कि पंचकूला और अंबाला में सामुदायिक चिकित्सा विभाग और स्कूल ऑफ पब्लिक हेल्थ, पोस्ट ग्रेजुएट इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल एजुकेशन एंड रिसर्च चण्डीगढ़ के सहयोग से सर्वेक्षण शुरू हो चुका है

और स्वास्थ्य विभाग ने अगस्त, 2020 के अंत तक पूरा करने का लक्ष्य रखा है।
श्री विज ने बताया कि यह एक एंटी बॉडी टैस्ट है। प्रदेश के हर जिले से 850 लोगों का रेंडमली 60-40 प्रतिशत के अनुपात ग्रामीण क्षेत्र में 500 व शहरी क्षेत्र से 350 लोगों का टैस्ट किया जाएगा।

इस प्लॉन को लेकर हर जिले में एक नोडल अधिकारी लगाया गया है।
उन्होंने स्वास्थ्य विभाग के प्रयासों की सराहना करते हुए कहा कि राज्य मुख्यालय और जिला स्तर पर इतने कम समय में सीरो-सर्वेक्षण का खाका तैयार करना वास्तव में सराहनीय काम है।


सर्वेक्षण के उद्देश्य की जानकारी सांझा करते हुए, स्वास्थ्य विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव, श्री राजीव अरोड़ा ने कहा कि हरियाणा में कन्टेनमेंट उपायों को लागू करने के लिए बनाए जाने वाले डिजाइन और क्रियान्वयन हेतू मार्ग-दर्शन करने में उपयोगी साबित होगा।

उन्होंने बताया कि सर्वेक्षण करने वाली टीम में तीन सदस्य, एक चिकित्सा अधिकारी (एम.ओ), एक सहायक नर्स (एएनएम) और एक प्रयोगशाला तकनीशियन शामिल होंगे।


पी.जी.आई.एम.ई.आर, चंडीगढ़ के स्कूल ऑफ पब्लिक हेल्थ के निदेशक आई.डी.एस.पी डॉ. ऊषा गुप्ता ने सीरो-सर्वेक्षण अध्ययन के लिए पूरे राज्य में तैयार भविष्य के रोडमैप के बारे में विस्तृत जानकारी दी।


इस अवसर पर वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग में स्वास्थ्य विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव श्री राजीव अरोड़ा, एच.एम.एस.सी.एल के निदेशक श्री साकेत कुमार, खाद्य एवं ड्रग प्रशासन के आयुक्त अशोक कुमार मीणा, राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के निदेशक श्री प्रभजोत सिंह, डी.जी.एच.एस के निदेशक डॉ. एस.बी.कम्बोज और सभी सिविल सर्जन व स्वास्थ्य विभाग के अन्य वरिष्ठ अधिकारी शामिल थे

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More