Pehchan Faridabad
Know Your City

हरियाणा अनलॉक-3 का 13वां दिन में 92% कोविडी मरीजों के संपर्क में आने वाले लोगों की पहचान हुई है

हरियाणा में अनलॉक-3 का 13वां दिन है। कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या 44 हजार के पार पहुंच चुकी है। अभी तक 503 मरीजों की कोरोना से मौत हो चुकी है। वहीं प्रदेश में रेवाड़ी जिले के अंदर 91 फीसदी मरीज होम आइसोलेशन में ठीक हुए हैं।

वहीं सबसे ज्यादा मरीजों वाले जिले गुड़गांव की बात करें तो यहां 79 फीसदी मरीज होम आइसोलेशन में ठीक हुए हैं। रेवाड़ी जिले में 2115 कुल केस आए थे, इनमें से 1923 यानि 91 फीसदी घर पर ही ठीक हो गए। वहीं गुड़गांव में 9648 केस में से 7580 मरीज होम आइसोलेशन में ठीक हुए।

फरीदाबाद में 9979 मरीजों में से 7236 मरीज होम आइसोलेट हुए। जींद में 339 में से 227, महेंद्रगढ़ में 927 में से 557, पलवल में 1084 में से 359, सिरसा में 505 में से 125, सोनीपत में 3156 में से 425 मरीज होम आइसोलेशन में ठीक हो गए।

प्रदेश में ये है कोरोना की मौजूदा स्थिति
बुधवार को 797 नए संक्रमित मिल तो 612 मरीज ठीक होकर घर लौटे। वहीं की सांसें थम थी, जबकि 156 मरीजों की हालत चिंताजनक बनी हुई है।

इनमें 132 मरीजों की सांसें ऑक्सीजन के सहारे चल रही हैं तो 24 वेंटीलेटर पर जिंदगी जंग लड़ रहे हैं। बुधवार को प्रदेश में कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा 44024 पर पहुंच गया। इसमें से 36694 मरीज ठीक हो चुके हैं और 6827 मरीजों का इलाज चल रहा है।

अब तक 503 मरीजों की कोरोना से मौत
प्रदेश में अभी तक 503 मरीजों की मौत हुई है, इनमें 359 पुरूष और 144 महिला शामिल हैं। अभी तक फरीदाबाद में 142, गुड़गांव में 127, सोनीपत में 35, रोहतक में 24, पानीपत में 27, अंबाला में 20, रेवाड़ी में 14,

करनाल में 13, कुरुक्षेत्र, नूंह व झज्जर में 12-12,, हिसार व पलवल में 10-10, सिरसा में 7, भिवानी व यमुनानगर में 8-8, जींद में 6, फतेहाबाद में 4, पंचकूला में 3, कैथल में 2 तथा नारनौल व चरखी-दादरी में 1-1 मरीज की मौत हो चुकी है।

हालाँकि, सिर्फ़ 68 प्रतिशत संपर्क अनुरेखण के साथ सिरसा इस मामले में सबसे खराब प्रदर्शन करने वाला जिला है और तालिका में सबसे नीचे है। पानीपत (78 प्रतिशत) और कुरुक्षेत्र (75 प्रतिशत) भी वांछनीय मापदंडों से नीचे हैं।

वास्तव में, संपर्क ट्रेसिंग वायरस के प्रसार को रोकने के लिए सबसे मूल्यवान तरीकों में से एक है क्योंकि यह कोविड सकारात्मक मामलों के सभी संपर्कों को अलग करने में मदद करता है और इसलिए आगे प्रसार को रोकता है।

हरियाणा के स्वास्थ्य और परिवार कल्याण विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव राजीव अरोड़ा ने कहा कि कोविड के प्रकोप के बाद से, समय पर संपर्क ट्रेसिंग महामारी के प्रसार को रोकने के सबसे प्रभावी तरीकों में से एक रहा है।

“पांच महीनों के बाद भी, प्रधान मंत्री द्वारा 72 घंटों के भीतर गहन परीक्षण और संपर्क ट्रेसिंग के महत्व को कल दोहराया गया था। उच्च संपर्क ट्रेसिंग से पता चलता है कि हमें परीक्षण, अनुरेखण, ट्रैकिंग, आइसोलेशन और उपचार की मूल बातों पर ध्यान केंद्रित रखना है, ”अरोड़ा ने कहा।

राज्य के स्वास्थ्य विभाग ने रविवार तक 7,44,080 लोगों का परीक्षण किया था। इनमें से 5,62,010 आरटी-पीसीआर पद्धति के माध्यम से थे, जबकि 1,82,070 नमूनों का परीक्षण तेजी से एंटीजन परीक्षणों द्वारा किया गया था।

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More