Pehchan Faridabad
Know Your City

हरियाणा वन मंत्री कवर पाल का बयान, आगामी 3 वर्षों में वन और वर्षों की संख्या में 13% इजाफा होगा ।

हरियाणा के वन मंत्री श्री कंवर पाल ने कहा कि राज्य में आगामी तीन वर्षों में कुल वन एवं वृक्षों के तहत क्षेत्र को 7 प्रतिशत से बढ़ाकर 20 प्रतिशत तक करने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। पायलट प्रोजेक्ट के आधार पर राज्य के 1100 गांवों में ‘कोविड वाटिका’ स्थापित की जाएंगी तथा लगातर हर वर्ष इतने ही गांवों को पौधारोपण के तहत लिया जाएगा।

इस वर्ष के वन महोत्सव के दौरान एक करोड़ 30 लाख पौधे लगाने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है और लगभग 80 प्रतिशत लक्ष्य को पूरा कर लिया है।श्री कंवर पाल आज केन्द्रीय पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्री श्री प्रकाश जावड़ेकर द्वारा वीडियो कान्फ्रेंसिंग के माध्यम से बुलाई गई सभी राज्यों व केन्द्र शासित प्रदेशों के वन मंत्रियों की बैठक में हरियाणा का प्रतिनिधित्व कर रहे थे।

बैठक में श्री जावड़ेकर ने अपने मंत्रालय की छ: नई परियोजनाओं को लक्षित करते हुए देश में वनों के अधीन क्षेत्र बढ़ाने के लिए राज्यों को वर्ष 2024-25 तक का विजन दिया। जिसमें मुख्य रूप से शहरों में नगर वन स्थापित करना, स्कूल नर्सरी स्कीम, 20-सूत्रीय कार्यक्रम के तहत पौधारोपण, देश की 13 प्रमुख नदियों का वनों के माध्यम से संरक्षण, मृदा नमी संरक्षण के लिए लिडार टैक्नोलोजी का उपयोग तथा किसानों को लकड़ी बचने के लिए राष्ट्रीय ट्रांजिट परमिट शामिल हैं।

श्री जावड़ेकर की राज्यों के वन मंत्रियों के साथ बातचीत के लिए की गई इस पहल का स्वागत करते हुए वन मंत्री श्री कंवरपाल ने कहा कि हरियाणा इन सभी योजनाओं पर प्राथमिकता के आधार पर कार्य करेगा तथा दिए गए लक्ष्य को समय से पहले पूरा करेगा। उन्होंने इस बात की भी जानकारी दी कि पंचायतों की भूमि पर बाड़ लगाने का कार्य विभाग द्वारा आरम्भ किया गया है और वर्ष 2020-21 के दौरान 272.5 हैक्टेयर क्षेत्र में 1,34,600 पौधे लगाए गये हैं तथा आने वाले वर्षों में इस क्षेत्र को बढ़ाकर 1000 हैक्टेयर क्षेत्र किया जाएगा।

वन मंत्री ने इस बात से भी अवगत करवाया कि नदी संरक्षण के तहत राज्य में यमुना व घग्गर दो प्रमुख नदियां हैं और इनके किनारों पर 7.40 लाख पौधे लगाए जाएंगे, जिनमें मुख्य रूप से यमुनानगर, करनाल,पानीपत, सोनीपत, फरीदाबाद व पलवल जिले यमुना नदी में तथा मोरनी हिल्स, पंचकूला, अम्बाला, कैथल, फतेहाबाद व सिरसा जिलों को घग्गर नदी में कवर किया जाएगा। इसी प्रकार, स्कूल नर्सरी के तहत मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने पहले ही स्कूली बच्चों को पौधारोपण कर उनकी देखभाल करने के लिए प्रेरित करने की योजना वर्ष 2016 से ही आरम्भ की थी और अब एक ऐप लॉच किया गया है,

जिस पर विद्यार्थी पौधे के साथ अपनी फोटो अपलोड कर सकता है और हर छ: महीने के बाद उसको प्रोत्साहन राशि भी दी जाती है। उन्होंने बताया कि नगर वन योजना के तहत यमुनानगर जिले के सढौरा तथा सोनीपत जिले के मुरथल में एक-एक नगर वन विकसित किए गये हैं। अब केन्द्र सरकार की योजना के तहत गुरुग्राम, फरीदाबाद, सोनीपत, पलवल, यमुनानगर के शहरों में लगभग 397 हैक्टेयर क्षेत्र में नगर वन विकसित करने की विस्तृत परियोजना रिपोर्ट तैयार की गई है।

इसी प्रकार, जैव विविधिकरण के तहत कासन, बडख़ल तथा मुरथल में योजनाओं पर कार्य चल रहा है। उन्होंने इस बात की जानकारी दी कि इस बार वन महोत्सव के दौरान ड्रोन के माध्यम से भी बीजारोपण किया।श्री कंवरपाल ने बताया कि वन विभाग द्वारा लोगों को वनों के महत्व के प्रति जागरूक करने के लिए हर वर्ष वन महोत्सव एवं वन्य प्राणी सुरक्षा सप्ताह का आयोजन किया जाता है। दिन-प्रतिदिन बढ़ रहे प्रदूषण के चलते वन क्षेत्र को बढ़ाना तथा प्राकृतिक संतुलन को बनाए रखने के लिए वन्य प्राणियों का संरक्षण व संवद्र्धन अत्यंत जरूरी है।

हर वर्ष मानसून के दौरान मनाए जाने वाले वन महोत्सव पर लोगों को कम से कम दो-दो पौधे लगाने का संकल्प लेना चाहिए। उन्होंने कहा कि 20-सूत्रीय कार्यक्रम के तहत 7246 हैक्टेयर क्षेत्र में पौधारोपण किया जाएगा। मृदा नमी संरक्षण के तहत शिवालिक वन क्षेत्र में 125 चैकडैम्स बनाए गये तथा 8 चैकडैम्स का काम प्रगति पर है। समय-समय पर चैक डैम की गाद निकालने का कार्य भी किया जाता है। वन मंत्री ने बताया कि राज्य के यमुनानगर, जगाधरी क्षेत्र में कृषि-वानिकी भी लोगों में काफी लोकप्रिय है तथा कृषि के साथ-साथ पापलर व सफेदा के पौधे लगाए जाते हैं। उन्होंने बताया कि सरकार द्वारा विलुप्त होती वन्य प्राणियों की प्रजातियों के संरक्षण तथा संवर्धन की दिशा में भी ठोस कदम उठाये गये हैं।

जिला रेवाड़ी में स्थित झाबुआ आरक्षित वन क्षेत्र में ‘मोर एवं चिंकारा प्रजनन केन्द्र’ की स्थापना की गई है। इसी तरह गिद्धों की घटती संख्या को रोकने के लिए तथा उनकी जनसंख्या को बढ़ाने के लिए भारत का पहला ‘गिद्ध संरक्षण एवं प्रजनन केन्द्र’ पिंजौर में स्थापित किया गया है। मोरनी स्थित ‘फिजैंट प्रजनन केन्द्र’ में लाल जंगली मुर्गा प्रजाति का सफलापूर्वक प्रजनन करवाया जा रहा है। भिवानी जिले के कैरू गांव में ‘चिंकारा प्रजनन केन्द्र’ तथा भौर सैयदां में ‘मगरमच्छ प्रजनन केन्द्र’ स्थापित किया गया है।बैठक में प्रधान प्रमुख वन संरक्षक डा0 अमरिंदर कौर, प्रमुख वन संरक्षक श्री बी एस तंवर व अन्य अधिकारी उपस्थित थे

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More