Pehchan Faridabad
Know Your City

5 साल बीत गए नहीं बना डिजिटल फरीदाबाद, वाईफाई का “व” भी नहीं लगा अभी तक

स्मार्ट सिटी फरीदाबाद की छवि बारिश के मौसम में जिस प्रकार तलाब में बदल जाती है, उसी प्रकार जिले में कदम रखते ही बीएसएनएल का नेटवर्क ठप पड़ जाता है। राजधानी का पडोसी फरीदाबाद को फाइबर आप्टिकल केबल डालकर डिजिटल शहर बनाने का पायलट प्रोजेक्ट शुरु किया गया था। बीएसएनएल और बीबीएनएल की तरफ से पंचायत भवनों में फ्री कनेक्शन और 100 से 200 रुपए में तेज स्पीड वाईफाई देने का वादा भी किया गया था।

किसी भी क्षेत्र को अवल बन ने में उसके वासियों का पूर्ण सहयोग होना चाहिए। औद्योगिक नगरी फरीदाबाद हरियाणा का पहला वाईफाई युक्त जिला होगा। प्रथम चरण में सोमवार तक दयालपुर, तिगांव और धौज के 11 गांवों को वाईफाई युक्त कर दिया जाएगा।

डिजिटल के इस दौर में सरकारी कंपनी बीएसएनएल के नेटवर्क जिले में नहीं आते। ख़बरों के अनुसार मई के दूसरे सप्ताह तक करीब 67 गांव के लोगों को वाईफाई का लाभ मिलने लगेगा। इसके लिए ग्रामीणों को सौ और दो सौ रुपये का रिचार्ज करना होगा। इन सभी गांवों में बीएसएनएल की ओर से हाई स्पीड इंटरनेट सुविधा मुहैया कराने के लिए ऑप्टिकल फाइवर केवल डाली जी चुकी है।

ऑप्टिकल फाइवर केवल डालने का फायदा तब होना जब नेटवर्क आते हों, लेकिन फरीदाबाद में इसके नेटवर्क नाममात्र आते हैं। सूचना और प्रसारण मंत्रालय ने अप्रैल 2014 में डिजिटल इंडिया के तहत गांव को वाईफाई युक्त करने की घोषणा की गई थी। कुछ साल पहले टेंडर कर गांव में ऑप्टिकल फाइवर केवल डालने का काम शुरू किया गया था।

जिले में कुछ वर्षों पहले के रिकॉर्ड कुछ इस प्रकार हैं – कुल मोबाइल उपभोक्ता : एक लाख 75 हजार
लैड लाइन : 55 हजार
वाई फाई : 23 हजार
वाईफाई करने की घोषणा : अप्रैल 2014
ऑप्टिकल फाइवर के लिए टेंडर : अग्रस्त 2014
पायलेट प्रोजेक्ट के रूप में चुना गया : अप्रैल 2015

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More