HomeEducationJEE और NEET परीक्षाओं के लिए 15 लाख युवाओं की जान खतरे...

JEE और NEET परीक्षाओं के लिए 15 लाख युवाओं की जान खतरे में डालना कहा तक सही । दिग्विजय चौटाला

Published on

छात्र संगठन इंडियन नेशनल स्टूडेंट्स ऑर्गेनाइजेशन (INSO) ने केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक को पत्र लिखकर सितंबर में प्रस्तावित जेईई और नीट की परीक्षा को स्थगित करने की मांग की है। इनसो के राष्ट्रीय अध्यक्ष दिग्विजय सिंह चौटाला ने केंद्रीय शिक्षा मंत्री को पत्र लिखते हुए कहा कि देशभर में कोरोना संक्रमण का प्रकोप दिनों-दिन फैलता जा रहा है

हर रोज 70 हजार के करीब कोरोना के नए मामले सामने आ रहे है। उन्होंने कहा कि कोरोना महामारी ने न सिर्फ छात्रों की शारीरिक सेहत बल्कि उनकी मानसिक सेहत पर भी बड़ा प्रभाव डाला है इसलिए कोरोना महामारी से हालात सामान्य होने तक नीट व जेईई की परीक्षाएं न करवाई जाए।

JEE और NEET परीक्षाओं के लिए 15 लाख युवाओं की जान खतरे में डालना कहा तक सही । दिग्विजय चौटाला

दिग्विजय सिंह चौटाला ने कहा कि जेईई व नीट की परीक्षा के लिए देशभर से लगभग 15 लाख छात्र परीक्षा देने वाले हैं। उन्होंने कहा कि कोरोना महामारी के चलते देशभर में यातायात की सेवाएं पूर्ण रूप से शुरू नहीं हो पाई है और रेलवे ने भी सितंबर अंत तक अपनी सेवाएं बंद रखने का फैसला लिया है। इनसो अध्यक्ष ने कहा कि ऐसे में जहां परीक्षार्थियों के लिए परीक्षा केंद्र तक पहुंचना बहुत मुश्किल होगा तो वहीं इतनी भारी संख्या में जब परीक्षार्थी अपने घर से बाहर निकलेंगे तो उन्हें कोरोना संक्रमण के खतरे का सीधा सामना करना पड़ेगा।

दिग्विजय ने ये भी बताया कि जहां भी अभी तक परीक्षाएं हुई है, वहां सरकार द्वारा जारी एसओपी लागू न हो पाने की वजह से बड़ी संख्या में छात्र कोरोना महामारी से संक्रमित हुए हैं। उन्होंने कहा कि साल के इस समय में सामयिक व रोगजन्य बीमारियों के फैलने का खतरा वैसे भी काफी ज्यादा रहता है।

JEE और NEET परीक्षाओं के लिए 15 लाख युवाओं की जान खतरे में डालना कहा तक सही । दिग्विजय चौटाला

दिग्विजय सिंह चौटाला ने बताया कि जब से सुप्रीम कोर्ट ने नीट व जेईई परीक्षा करवाने की हरी झंडी दी है, तब से देश के अलग-अलग हिस्सों में कई परीक्षार्थियों के आत्महत्या करने के मामले भी सामने आये है। उन्होंने कहा कि इन सभी परिस्थितियों में परीक्षार्थियों में डर का माहौल है और उनकी मानसिक सेहत पर बुरा असर पड़ रहा है। दिग्विजय ने केंद्रीय शिक्षा मंत्री से आग्रह करते हुए कहा कि इन सभी परिस्थितियों को ध्यान में रखते हुए नीट व जेईई की परीक्षाओं को कोरोना महामारी से हालात सामान्य व सुरक्षित होने तक स्थगित की जाए ताकि छात्रों को किसी परेशानी का सामना न करना पड़े।

Latest articles

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

पुलिस का दुरूपयोग कर रही है भाजपा सरकार-विधायक नीरज शर्मा

आज दिनांक 26 फरवरी को एनआईटी फरीदाबाद से विधायक नीरज शर्मा ने बहादुरगढ में...

More like this

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...