Pehchan Faridabad
Know Your City

फरीदाबाद के गांवों में जियो टैगिंग से पता चलेगा स्वच्छता का हाल

स्वच्छता सभी को प्यारी होती है, लेकिन यह सिर्फ अपने घर तक ही सिमित रह रही है। फरीदाबाद के ग्रामीण इलाकों में स्वच्छता का हाल जान ने के लिए आगमी 1 सितम्बर से जियो टैगिंग के जरिये सर्वे किया जाएगा। इस से एक स्थल की मॉनीटिरिंग की जा सकेगी। गत दिनों पहले सरकार ने साफ़ सफाई की रैंकिंग भी निकाली थी। जनता ने अपने अथक प्रयास से फरीदाबाद की स्वच्छता रैंकिंग सुधारने में सफलता हासिल की थी।

साफ़ – सफाई हम सभी चाहते हैं, लेकिन उसके लिए जनता कार्य नहीं करती है। स्वच्छ सर्वेक्षण 2020 के परिणामों में 100 से कम शहरी स्थानीय निकाय वाले राज्यों की श्रेणी में हरियाणा ने सबसे अच्छा प्रदर्शन करने वाले राज्यों में दूसरा स्थान प्राप्त किया था।

जो प्रयास होने चाहिए वे अभी दूर हैं, लेकिन स्वच्छ सर्वेक्षण 2019 में हरियाणा 9वें स्थान पर था। इसके अतिरिक्त इस साल कचरामुक्त शहरों की श्रेणी में करनाल को तीन स्टार तथा रोहतक को एक स्टार प्राप्त हुआ है। मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने इस उपलब्धि के लिए प्रदेशवासियों को बधाई देते हुए कहा था कि स्वच्छ भारत मिशन का मुख्य उद्देश्य सभी क्षेत्रों में ओडीएफ स्थिति को बनाए रखना और स्वच्छता के स्तर में सुधार करना है।

फरीदाबाद के कोने – कोने में कचरा पड़ा मिल जाएगा। जिले वासी साफ़ सफाई को लेकर जागरूक नहीं हो रहे हैं। सीएम ने कहा कि हरियाणा के सभी शहरी स्थानीय निकायों को एकीकृत ठोस अपशिष्ट प्रबंधन (डोर टू डोर कलेक्शन, परिवहन, प्रसंस्करण और निपटान) के लिए विभिन्न कलस्टरों में विभाजित किया गया है ताकि इस अभियान को सफलतापूर्वक क्रियान्वित किया जा सके। 

प्रदेश में कोरोना का केहर थमने को तैयार नहीं है। हर जगह महामारी अपना प्रकोप दिखा रही है। स्वच्छ सर्वेक्षण गत वर्ष प्रदेश में चरखी दादरी ने 850वां, गोहाना ने 216वां, खरखौदा ने 121वां, नरवाना ने 674वां, टोहाना ने 329वां, फतेहाबाद ने 177वां, लाडवा ने 528वां, घरौंडा ने 81वां, शाहबाद ने 112वां, हांसी ने 504वां, चीका ने 337वां, मंडी डबवाली ने 737वां, नारनौल ने 583वां और होडल ने 626वां स्थान प्राप्त किया था।

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More