HomeEducationसुशांत की आखिरी फिल्म की रही अभिनेत्री ने, युवाओं को ईमानदारी और...

सुशांत की आखिरी फिल्म की रही अभिनेत्री ने, युवाओं को ईमानदारी और उज्वल भविष्य के दिए टिप्स ।

Published on

कड़ी मेहनत और ईमानदारी से प्रयास युवाओं को उनके भविष्य के लिए एक बड़ी उम्मीद पैदा करेंगे। लेकिन एक बार जब वे अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करते हैं, तो उन्हें बाकी को प्रकृति पर छोड़ना और आराम करना सीखना चाहिए। यह मेरी पढ़ाई और करियर के लिए एक दृष्टिकोण रहा है। प्रतिभावान युवा हिंदी फिल्म नायिका और दिल्ली विश्वविद्यालय की स्वर्ण पदक विजेता संजना सांघी ने एक इंटरैक्शन में अपने मन की यह बात प्रकट की।

अपनी पहली और हाल ही में सुपर-हिट फिल्म ‘दिल बेचारा’ में प्रमुख नायिका के रूप में अपने संवेदनशील और कुशल प्रदर्शन से ख्याति अर्जित करने वाली संजना सांघी कल (26 अगस्त, 2020) देश के सैकड़ों बच्चों और युवाओं के साथ एक घंटे की फेसबुक लाइव इंटरैक्शन में भाग ले रही थीं। इस इंटरैक्शन का शीर्षक था ʺ लाइफ इन मेकिंग: ए टॉक विद एक्टर संजना सांघीʺ। यह आयोजन एसओएस चिल्ड्रेन्स विलेजेज द्वारा आयोजित किया गया था, जो एक गैर-सरकारी संगठन है और माता-पिता की देखभाल से वंचित बच्चों या परित्यक्त होने के जोखिम वाले बच्चों के समग्र विकास के लिए काम कर रहा है।

सुशांत की आखिरी फिल्म की रही अभिनेत्री ने, युवाओं को ईमानदारी और उज्वल भविष्य के दिए टिप्स ।



इंटरएक्टिव सेशन में एसओएस चिल्ड्रेन्स विलेजेज इंडिया द्वारा तैयार की गई कई होनहार प्रतिभाओं में से एक एमएससी खाद्य प्रौद्योगिकी की छात्रा सुश्री ग्रेस वैलेंटिना और बीबीए करने को इच्छुक छात्रा सुश्री नीलिमा ने अपने अनुभवों को साझा किया। एसओएस चिल्ड्रेन्स विलेजेज के राष्ट्रीय निदेशक श्री सुदर्शन सुचि द्वारा संचालित, इंटरैक्शन ने भारत में विभिन्न क्षेत्रों के युवाओं की चिंताओं, आकांक्षाओं और आशा की समानता को उजागर किया।

करियर के चयन और सफलता के बारे में किये गये एक सवाल के जवाब में, संजना ने कहा, “मेरे पास हिंदी फिल्म नायिका बनने की कोई भव्य दृष्टि नहीं थी। इस मामले में, जब मैं बडी हो रही थी, तो मैंने कभी भी यह तय नहीं किया कि मैं क्या बनना चाहती थी या बड़ा होने पर मैं क्या करना चाहती थी। लेकिन, डर मेरी मूल भावना और एक प्रेरक कारक रहा है। मुझे हमेशा इस बात का डर रहा है कि क्या मैं अपनी पूरी क्षमता का इस्तेमाल कर पाऊंगी या अपनी सीमाओं को पार कर सकूंगी। मैं इस बात के डर के साथ बडी हुई हूं कि क्या मुझे बड़ा होने पर खुद पर गर्व होगा और मैं खुद के कंधे को थपथपाने में सक्षम हो सकती हूं और संतुष्ट हो सकती हूं।

सुशांत की आखिरी फिल्म की रही अभिनेत्री ने, युवाओं को ईमानदारी और उज्वल भविष्य के दिए टिप्स ।


लेकिन मेरा दृष्टिकोण हमेशा कड़ी मेहनत और ईमानदारी से प्रयास करना, और बाकी को प्रकृति पर छोड़ देना रहा है। मेरे बडे होने के दौरान या तो मेरी पुस्तकें हमेशा मेरे साथ रहीं या मैं चर्चा में हिस्सा लेती रही या मंच पर अपना नृत्य प्रदर्शन करती रही हूँ। मैंने 12 वीं सीबीएसई बोर्ड परीक्षा में 96.5 प्रतिशत अंक अर्जित किए और दिल्ली विश्वविद्यालय के लेडी श्रीराम कॉलेज ऑफ वूमेन में प्रवेश लिया, जो हमेशा से मेरे सपनों का कॉलेज था। मैंने वहां जर्नलिज्म और मास कम्युनिकेशन का अध्ययन किया और स्नातक होने के साथ-साथ मुझे दिल्ली विश्वविद्यालय के गोल्ड मेडलिस्ट के रूप में सम्मानित किया गया, साथ ही कॉलेज से एक अर्ध-पेशेवर अभिनेत्री होने का भी खिताब मिला। इसके अलावा, मैं राष्ट्रीय सामाजिक सेवा योजना की प्रोजेक्ट हेड थी और विभिन्न अन्य पाठ्येतर क्रियाकलापों में भी हिस्सा लेती रही।

नृत्य के साथ, मैंने छह साल की उम्र में जैज़ में प्रशिक्षण लेना शुरू किया। मैंने बाद में कथक सीखा। जब मैं 13 साल की थी, तब मैंने ʺरॉकस्टारʺ से अपने डेब्यु अभिनय की शुरुआत की। मैंने बाल कलाकार के रूप में फिल्मों में कई सहायक भूमिकाएँ निभाई हैं, और एक अभिनेत्री के रूप में, ‘दिल बेचारा’ के रूप में मेरी शुरुआत हुई, जिसे हमारे दर्शकों द्वारा काफी अधिक सराहना मिली। ये सभी घटनाक्रम केवल उन मूल्यों की याद दिलाते हैं जो मैं अपने साथ लायी थी कि बस कड़ी मेहनत करें, और सभी नकारात्मक चीजों से छुटकारा पाने के लिए यह पर्याप्त है।ʺ

अपनी बातचीत के दौरान, संजना ने निरंतर सीखने के महत्व पर जोर दिया। संजना ने कहा, “स्कूल में आप सबसे अच्छे हो सकते हैं, लेकिन जब आप कॉलेज जाते हैं तो आप भारत से सबसे अच्छी चीजों को अपने साथ लाते हैं, और बस आप कई में से एक बन जाते हैं। मेरे कॉलेज के साथी अपने-अपने क्षेत्र में सर्वश्रेष्ठ थे और वे अलग-अलग सामाजिक, आर्थिक और सांस्कृतिक पृष्ठभूमि से आए थे। मैंने दूसरों के विचारों और संस्कृतियों का सम्मान करना सीखा। ये मेरी सबसे बड़ी सीख थीं।ʺ

सुशांत की आखिरी फिल्म की रही अभिनेत्री ने, युवाओं को ईमानदारी और उज्वल भविष्य के दिए टिप्स ।

“हमें नम्रता के महत्व को महत्व देना चाहिए। हमें विनम्र रहना होगा क्योंकि हम सब कुछ नहीं जानते हैं। हमें यह समझना होगा कि दुनिया में सबसे अच्छा काम किसी के पास नहीं है। किसी से भी पूछें तो वे दस बातें कहेंगे जिन्हें लेकर वे तनाव में हैं और बदलना चाहते हैं। अभिनेता होना कोई अलग बात नहीं है। यह बहुत मुश्किल है। लेकिन जब आप कड़ी मेहनत में विश्वास करते हैं, तो आप हमेशा आगे बढ़ेंगे।”

कोविड -19 महामारी के कारण बच्चों को होने वाली कठिनाइयों पर संजना ने कहा कि 15 करोड से अधिक छात्र करीब छह महीने से स्कूल नहीं गए हैं, इसे लेकर वह चिंतित हैं। उन्होंने कहा, “यह मुझे चिंतित करता है कि वे अपने दोस्तों से मिल नहीं पा रहे हैं। वे सवाल पूछने और सीखने में सक्षम नहीं हैं। लेकिन इन कठिन समय में स्वयंसेवक बच्चों और महामारी के शिकार अन्य लोगों के लिए एक बड़ा अंतर पैदा कर सकते हैं। यदि हम एक-दूसरे तक पहुंच सकते हैं और मदद कर सकते हैं, तो हम दुनिया को छोटा और करीब बना सकते हैं।ʺ

संजना एसओएस चिल्ड्रेन्स विलेजेज ऑफ इंडिया के यूथ चैंपियन के रूप में कार्य करती हैं। अपने स्वयंसेवकों के दिनों को याद करते हुए उन्होंने कहा, “मैं छह साल से अधिक समय से वंचित छात्रों और प्रशिक्षक को स्वैच्छिक रूप से शिक्षण प्रदान कर रही हूं और अन्य स्वयंसेवकों का प्रबंधन कर रही हूं। मैं बच्चों के साथ समय बिताते हुए जितना आनंद लेती हूं, उतना ही आनंद कैमरे के सामने होने या मंच पर नृत्य करने के दौरान लेती हूं। जब मुझे छात्रों के शैक्षणिक प्रदर्शन के लिए मेरे शिक्षण के महत्व का एहसास हुआ, और उन्होंने मेरे शिक्षण को कितना महत्व दिया इसका एहसास हुआ, तो मैंने फैसला किया कि मैं अपने शेष जीवन में भी वांलेटियर के रूप में काम करते रहूंगी। यहां तक कि मैं अपने व्यस्त कॉलेज शेड्यूल के बीच भी स्वयं सेवा करने से नहीं चूकी।”

सुशांत की आखिरी फिल्म की रही अभिनेत्री ने, युवाओं को ईमानदारी और उज्वल भविष्य के दिए टिप्स ।

सुश्री वेलेंटीना ने भी अपने अनुभव साझा करते हुए कहा कि उनकी मुख्य चुनौतियों में से एक चुनौती सार्वजनिक भाषण था। उन्हें पब्लिक में बोलने में कठिनाई होती थी और डर लगता था लेकिन उन्होंने इस पर काबू पा लिया। उन्होंने कहा, “मुझे लगता है कि समय प्रबंधन किसी भी क्षेत्र में उत्कृष्टता लाने और किसी के आत्मविश्वास को बढ़ाने में महत्वपूर्ण है।” सुश्री नीलिमा ने अपनी बातचीत को जारी रखते हुए कहा, “मेरे जीवन में, कई यादगार अनुभव थे – जिनमें मेरे स्कूल और एनजीओ में होने वाली घटनाएं भी शामिल हैं जिनसे मुझे समझने का अवसर मिला। मुझे लगता है कि सकारात्मक अनुभव हमें अपने व्यक्तित्व का निर्माण करने में मदद करते हैं, और विश्वास की भावना पैदा करते हैं और हमारे भविष्य के लिए आशा की किरण पैदा करते हैं।”

श्री सुचि ने अपने उद्बोधन में कहा कि प्यार, स्नेह और रिश्ते उन्हें आगे बढ़ने के लिए प्रेरित करते हैं। उन्होंने कहा, “दूसरों के लिए कुछ करने से मुझे अपने काम से प्यार होता है और मुझे एसओएस चिल्ड्रेन्स विलेजेज में अपनी भूमिका जारी रखने के लिए प्रेरित करता है। मैं हमेशा सोचता हूं कि मुझे मेरे हिस्से से बहुत कुछ मिला है, बहुत आसानी से। इसलिए, मैं जीवन के लिए आभारी हूं, और आगे बढने की इच्छा मेरे आभार से प्रकट होती है।”

Latest articles

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है: कशीना

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है, इसका संबंध...

भाजपा के जुमले इस चुनाव में नहीं चल रहे हैं: NIT विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा

एनआईटी विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा ने बताया कि फरीदाबाद लोकसभा सीट से पूर्व...

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

More like this

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है: कशीना

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है, इसका संबंध...

भाजपा के जुमले इस चुनाव में नहीं चल रहे हैं: NIT विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा

एनआईटी विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा ने बताया कि फरीदाबाद लोकसभा सीट से पूर्व...