Pehchan Faridabad
Know Your City

हरियाणा की इस खिलाड़ी का नाम सुनकर रह जाएंगे आप दंग, जिन्हें गोल्डन गर्ल के नाम से भी जाना जाता है

भारतीय हॉकी के सबसे बड़े नायक मेजर ध्यानचंद का नाम पूरी दुनिया में हॉकी के जादूगर के नाम से मशहूर है। हॉकी स्टीक और मेजर के बीच कुछ ऐसा रिश्ता था जिसने उनके खेल देखने वालों के दीवाना बना दिया। जिस किसी ने भी इस भारतीय धुरंधर का खेल एक बार देखा वो उनके खेल का कायल हो गया। जर्मनी के तानाशाह हिटलर हो या फिर ऑस्ट्रेलियन दिग्गज डॉन ब्रैडमैन। 29 अगस्त को भारत में हॉकी के इस महानायक के जन्मदिन को राष्ट्रीय खेल दिवस के तौर पर मनाया जाता है।
आज खेल दिवस पर हम बतायेगे हरियाणा के ऐसे स्पोर्ट्स पर्सन जिन्होंने स्पोर्ट्स में नाम कमाकर ना सिर्फ अपना बल्कि पुरे हरियाणा का नाम भी रोशन किया है।

2.ममता खरब-ममता खरब भारतीय महिला हॉकी टीम की पूर्व कप्तान हैं। 2002 के कॉमनवेल्थ गेम्स के दौरान, उन्होंने विजयी गोल किया जिसने भारत को गोल्ड दिलाया। उन्होंने 2007 की बॉलीवुड हिट, चक दे इंडिया में कोमल चौटाला के चरित्र के लिए मॉडल के रूप में भी काम किया। अब वह हरियाणा पुलिस में पुलिस उपाधीक्षक के रूप में काम कर रही हैं।
अंतरराष्ट्रीय स्तर पर देश को कई यादगार कामयाबी दिलाने के बाद गोल्डन गर्ल के उपनाम से मशहूर हुई ममता खरब आज अपने गृह जिले रोहतक में ही पहचान की मोहताज हो गईं हैं। हालत यह है कि खेल विभाग रोहतक के अधिकारी उन्हें जानते ही नहीं। … रांची में राष्ट्रीय खेलों में हरियाणा ने स्वर्ण पदक जीता था।

2.वीरेंद्र सहवाग- वीरेंद्र सहवाग एक भारतीय क्रिकेट खिलाड़ी है. कुछ लोग सहवाग ‘वीरू’ भी कहते हैं. वे बाएं हाथ के आकर्मक सलामी बल्लेबाज तो है ही, किंतु आवश्यकता के समय दाएं हाथ से आफ स्पिन गेंदबाजी भी कर लेते हैं. उन्होंने भारत की ओर से पहला एकदिवसीय मैच 1999 और पहला टेस्ट मैच 2001 में खेला था.
वीरेंद्र सहवाग का जन्म 20 अक्टूबर 1978 को हरियाणा के एक जाट परिवार में हुआ. उनके पिता का नाम कृष्ण(किशन) सहवाग है और उनकी माता का नाम कृष्णा है. सहवाग अपने माता-पिता की वीरेंद्र के अलावा तीन संतान और है, सहवाग से बड़ी दो बहने मंजू और अंजू है जबकि उनसे छोटे एक भाई है जिनका नाम विनोद है. सहवाग के पिता कृष्ण सहवाग बताते हैं कि उनमें क्रिकेट के लिए प्यार 7 साल की उम्र से ही जाग गया था, और उनके पिता ने पहली बार उन्हें खिलौने के रूप में बल्ला लाकर दिया था. इसके बाद 12 साल की उम्र में वे क्रिकेट के दौरान अपना दांत तुड़वा कर घर पहुंचे तो पिता ने क्रिकेट खेलने पर बैन लगा दिया था. जिस के बाद में यह बैन उनकी मां के हस्तक्षेप के बाद में टूटा था. 2004 में सहवाग ने आरती सहवाग से शादी की और इनसे सहवाग को दो बेटे है-आर्यवीर और वेदांत सहवाग है।सुमन कुंडू-अंग्रेज़ी से अनुवाद किया गया कॉन्टेंट-सुमन कुंडू भारत की एक पहलवान हैं जिन्होंने 2010 राष्ट्रमंडल खेलों में 63 किलोग्राम फ्रीस्टाइल वर्ग में महिलाओं की कुश्ती में कांस्य पदक जीता था। कुंडू हरियाणा के जींद जिले के कलवा का निवासी है।सुमन कुंडू 16 बार भारत केसरी और वर्ष 2010 में कॉमनवेल्थ गेम्स में कांस्य पदक जीत चुकी हैं। इसके अलावा वे सात बार नेशनल में स्वर्ण पदक और पुलिस गेम्स में भी पदक जीत चुकी हैं। उन्होंने तीन साल बाद कुश्ती में वापसी की और राष्ट्रीय प्रतियोगिता में कांस्य पदक जीता। सुमन रोहतक में ईश्वर अखाड़ा में अभ्यास करती हैं।उन्होंने राष्ट्रीय व अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पूरे देश का नाम रोशन किया है। सुमन को हरियाणा पुलिस में एसआई के पद पर नियुक्त किया जा रहा है। वर्ल्ड चैंपियनशिप में स्वर्ण पदक की चाहत भीम अवार्डी रह चुकीं सुमन को बधाइयां मिलने का सिलसिला जारी है। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार ने एसआई के पद पर नौकरी दी, यह खुशी की बात है। पिछले साल चोट के चलते ओलंपिक क्वालीफायर के लिए ट्रेनिंग कैंप में हिस्सा न ले पाने का उन्हें मलाल है। उनका अगला लक्ष्य ओलंपिक में देश के लिए स्वर्ण पदक पर कब्जा करना है।

4.ऋतु फोगाट-ऋतु फोगाट (जन्म 2 मई 1993 ) एक भारतीय महिला पहलवान है जिन्होंने राष्ट्रमंडल कुश्ती चैम्पियनशिप 2016 में एक स्वर्ण पदक जीता। फोगाट पूर्व पहलवान महावीर सिंह फोगाट की तीसरी पुत्री हैं और उन्होंने आठ वर्ष की आयु में अपने पिता से प्रशिक्षण लेना शुरू कर दिया था। उन्होंने कुश्ती के कैरियर पर ध्यान केंद्रित करने के लिए दसवीं कक्षा करने के बाद स्कूल छोड़ दिया था।

उनकी बहनें गीता फोगाट और बबिता कुमारी एवंम चचेरा भाई विनेश फोगाट सभी राष्ट्रमंडल खेलों में कुश्ती के स्वर्ण पदक विजेता हैं। उनकी एक और चचेरी बहन, प्रियंका फोगाट भी अंतरराष्ट्रीय स्तर की पहलवान हैं।अक्टूबर २०१६ में, फोगाट ने लगातार दूसरी बार वार्षिक राष्ट्रीय कुश्ती चैंपियनशिप के खिताब पर कब्ज़ा किया। नवम्बर २०१६ में, उन्होंने सिंगापुर में आयोजित 48 किलो वर्ग की राष्ट्रमंडल कुश्ती चैम्पियनशिप में स्वर्ण पदक जीता।

दिसंबर 2016 में, वह प्रो कुश्ती लीग नीलामी में सबसे महंगी महिला पहलवान बनी जिसने जयपुर निन्जास मताधिकार के साथ ३६ लाख का अनुबंध करार किया है।

5.मनोज कुमार (मुक्केबाज़)-मनोज कुमार भारत के हरियाणा प्रांत के एक मुक्केबाज हैं। 2007 व 2013 के एशियाई खेलों में उन्होंने काँस्य पदक प्राप्त किया था।इन्होंने नई दिल्ली में हुए 2010 राष्ट्रमण्डल खेलों में मुक्केबाज़ी में स्वर्ण पदक प्राप्त किया।इन्होने 10 अगस्त 2016 के पहला मुकाबला किया।

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More