Pehchan Faridabad
Know Your City

2035 करोड़ से बने देश के सबसे बड़े कैंसर संस्थान में मात्र 10 रुपए में होगा कैंसर मरीजों का इलाज

कैंसर जैसी खतरनाक बीमारी को जड़ से खत्म करने के लिए अब वैज्ञानिकों ने नए-नए तकनीक खोज निकाले हैं। ऐसे में आधुनिक टेक्नोलॉजी से परिपूर्ण हरियाणा के झज्जर में देश का सबसे बड़ा राष्ट्रीय कैंसर संस्थान शुरू किया जाएगा। इस कैंसर संस्थान की लागत 2035 करोड रुपए हैं। इस अस्पताल का उद्घाटन स्वयं पीएम नरेंद्र मोदी कुरुक्षेत्र से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए करेंगे।

वही जानकारी के मुताबिक आज ट्रायल के तौर पर अस्पताल में ओपीडी की शुरुआत भी हो चुकी हैं। ऐसा कहा गया है कि अभी राष्ट्रीय कैंसर संस्थान में सिर्फ 50 बेड की सुविधा शुरू की गई है। इस साल के आखिरी तक यहां पर करीब 400 बेडों की सुविधा और कर दी जाएगी। इस संस्थान की ओपीडी में फिलहाल 80 से 100 मरीजों को देखा जा रहा है .

राष्ट्रीय कैंसर संस्थान को चलाने की जिम्मेदारी एम्स के निदेशक डॉ. रणदीप गुलेरिया को दी गई है। पहले चरण के तहत इसमें मार्च 2019 तक डॉक्टर, नर्स, तकनीकी विशेषज्ञों एवं कर्मचारियों की नियुक्ति की जानी है। फिलहाल ओपीडी और 710 बेड्स तैयार हैं। पहले चरण में 250 बेड उपलब्ध रहेंगे। आगे जाकर इन्हें बढ़ा दिया जाएगा।

करीब एक साल में यह पूरी तरह से संचालित हो जाएगा। जानकारी के मुताबिक, एनसीआई बनने से एम्स का काम बंट जाएगा। एनसीआई एम्स से करीब 50 किमी दूर है, लेकिन इस दूरी को पाटने में मरीज को आसानी हो, इसके लिए दोनों संस्थानों में सेवाओं का समन्वय जरूरी है। इसके लिए प्लान बनाया जा रहा है।

राष्ट्रीय कैंसर संस्थान के निदेशक डॉक्टर जीके रथ ने बताया कि दिल्ली के एम्स से भी यहां पर पेशेंट्स लाए जा रहे हैं। साल 2020 तक यहां पर 500 बेड की सुविधा करने की पूरी कोशिश की जा रही है। वहीं अगले साल यानी 2020 मार्च से यहां ऑपरेशन थियेटर और रेडियोथेरेपी की सुविधा भी शुरू कर दी जाएगी।

ख़ास बात ये है की देश के सबसे बड़े कैंसर संस्थान में प्रोटोन थैरेपी की भी सुविधा की गई है। ये एक ऐसी थैरेपी होगी जिसमें प्रोटोन बीम से मरीजों के कैंसर के ट्यूमर को खत्म कर दिया जाता है। इसके लिए एम्स ने अत्याधुनिक मशीन का ऑर्डर भी दे दिया है।

प्रोटोन थैरेपी सिर्फ और सिर्फ कैंसर कोशिकाओं को ही निशाना बनाती है। जबकि आसपास की स्वस्थ कोशिकाओं से इससे कोई नुक्सान नहीं होगा। इस थैरेपी से शरीर के अन्य हिस्सों पर रेडिएशन का दुष्प्रभाव नहीं होता।

सबसे अहम बात यह है कि इतने बड़े संस्थान का उद्घाटन जहां एक और स्वयं पीएम नरेंद्र मोदी कर रहे हैं। वही गौरवपूर्ण बात यह है कि इस अस्पताल के निर्माण का सौभाग्य हरियाणा राज्य को प्राप्त हुआ है। इसका अर्थ यह है कि देश के सबसे बड़े कैंसर संस्थान के बाबत अगर बात की जाएगी तो उसमें हरियाणा राज्य को सर्वोपरि रखा जाएगा।

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More