Online se Dil tak

हरियाणा में बना देश का पहला ऐसा स्कूल, जहां विद्यार्थियों के लिए लगाया गया कोरोना वायरस रोधी आधुनिक सैटअप

महामारी कोरोना का प्रहार हर दिन देश सहित दुनिया में भी लगातार बढ़ता जा रहा है। हरियाणा में देश का पहला ऐसा स्कूल देखने में आया है, जहां विद्यार्थियों के लिए कोरोना संक्रमण रोधी आधुनिक सेटअल लगाया गया है। निकट भविष्य में कोरोना महामारी खत्म नहीं होने की आशंका के चलते स्कूलों को वायरस रोधी सैटअप से लैस किया जाने लगा है।

कोरोना वायरस ने दुनिया की कोई भी ऐसी जगह नहीं छोड़ी है, जहाँ इसने अपने पाँव न पसारे हों। प्रदेश का सोनीपत जिला स्कूलों को वायरस रोधी सैटअप बनाने में सबसे आगे निकल गया है।

हरियाणा में बना देश का पहला ऐसा स्कूल, जहां विद्यार्थियों के लिए लगाया गया कोरोना वायरस रोधी आधुनिक सैटअप

कोरोना ने यदि अर्थव्यवस्था के बाद सबसे ज़्यादा किसी चीज़ को प्रभावित किया है, तो वे है शिक्षा। सोनीपत के एक निजी स्कूल में विद्यार्थियों की सुरक्षा के लिए बेहद आधुनिक सैटअप लगाया गया है। खास बात यह है कि इस सैटअप में चाइनीज प्रोडक्ट्स को दरकिनार करते हुए देसी व मित्र देशों के प्रोडक्ट्स इस्तेमाल किए गए हैं।

हरियाणा में बना देश का पहला ऐसा स्कूल, जहां विद्यार्थियों के लिए लगाया गया कोरोना वायरस रोधी आधुनिक सैटअप

शिक्षा के बिना सभी का जीवन असफल सा लगता है। यहां स्कूल के प्रवेश द्वार पर ही डिजिटल टर्न स्टाइल गेट बनाए गए हैं। ये गेट केवल स्वस्थ विद्यार्थी को ही स्कूल में आने देंगे। इस तरह का यह देश में पहला सैटअप है। माना जा रहा है कि इससे सीख लेकर दूसरे स्कूल भी इस प्रणाली को अपना सकते हैं।

हरियाणा में बना देश का पहला ऐसा स्कूल, जहां विद्यार्थियों के लिए लगाया गया कोरोना वायरस रोधी आधुनिक सैटअप

राज्य के साथ – साथ देश के अन्य स्कूलों को भी इस स्कूल से प्रभावित होना चाहिए। यहां स्कूल के प्रवेश द्वार पर भीतर जाने के लिए टर्न स्टाइल डिजिटल गेट लगाए गए हैं, जिनमें प्रवेश करते ही विद्यार्थी का फोटो वहां लगी एलईडी पर आ जाएगा और उसका तापमान प्रदर्शित होने लगेगा। यदि विद्यार्थी का तापमान ज्यादा है तो सायरन बजेगा और गेट नहीं खुलेगा।

महामारी कोरोना को हराया जा सकता है यदि हम सतर्कता दिखाएं। हरियाणा में लगातार बढ़ते मामले कोई सुखद खबर नहीं है। फरीदाबाद में भी कोरोना का हाल सुनाने के लायक नहीं है।

Read More

Recent