HomeUncategorizedबड़खल झील ही नहीं फरीदाबाद में इन झीलों का भी हुआ शोषण,...

बड़खल झील ही नहीं फरीदाबाद में इन झीलों का भी हुआ शोषण, ऐसा दिखाई देता था नज़ारा

Published on

फरीदाबाद में यूँ तो अनेकों आकर्षण केंद्र हैं, लेकिन बड़खल झील और सूरजकुंड दुनिया में विख्यात हैं। देश के कई हिस्सों में झीलें सूख गई हैं, भूमिगत जल स्रोत खत्म हो चुका है, लाखों लोग पीने के पानी के एक-एक बूंद के लिए तरस रहे हैं। जिले में प्रशासन की अनदेखी के कारण अरावली क्षेत्र में लगातार अवैध निर्माण हो रहे हैं। अवैध निर्माणों के कारण यहां बेहेने वाली प्राक्रृतिक झीलें सूख चुकी हैं।

सूरजकुंड का नाम जितना खूबसूसरत उस से कही अधिक यह जगह खूबसूरत है। 2003 में सूरजकुंड के निकट एक पीकॉक झील हुआ करती थी जिसमें भरपूर पानी रहता था। वे पानी इतना अधिक हुआ करता था कि मानों प्रकृति ने सभी खूबसूर्तियाँ सूरजकुंड में दे दी हैं।

बड़खल झील ही नहीं फरीदाबाद में इन झीलों का भी हुआ शोषण, ऐसा दिखाई देता था नज़ारा
2003 में ऐसा दिखाई देता था सूरजकुंड और पीकॉक झील का नज़ारा दोनों ही पानी से लबालब

अरावली में लगातार हुए अवैध निर्माणों के कारण और प्रशासन की अनदेखी के कारण पीकॉक लेक आज जंगल में बदल गई है। जिस जगह कभी पानी भरा होता था आज इस जगह झाड़ियां उग गई हैं। बड़खल झील समेत सूरजकुंड किसी समय फरीदाबाद का सबसे आकर्षित पर्यटक स्थल हुआ करता था। लेकिन आज स्थिति ऐसी है कि लोग यहां आने में भी डरते हैं।

बड़खल झील ही नहीं फरीदाबाद में इन झीलों का भी हुआ शोषण, ऐसा दिखाई देता था नज़ारा
2008 का नज़ारा हल्का सा पानी नज़रों में है, लेकिन अवैध निर्माण बढ़ गए हैं

हरियाणा सरकार समेत फरीदाबाद प्रशासन ने यहां की प्रकृति की बहुत अनदेखी की है। 2003 में सूरजकुंड में भी लबालब जल भरा रहता था। बड़खल झील के सूखने के बाद बेनूर हुए पर्यटन स्थल की रौनक वापस लौटाने के लिए लाखों रुपये खर्च कर बनाई गई कृत्रिम झील भी पर्यटन निगम के काम नहीं आई है।

बड़खल झील ही नहीं फरीदाबाद में इन झीलों का भी हुआ शोषण, ऐसा दिखाई देता था नज़ारा
2014 का नज़ारा सूरजकुंड में हल्का सा पानी है, पीकॉक झील का पानी सूखा हुआ

फरीदाबाद प्रशासन के अधिकारीयों ने कभी अरावली में अवैध निर्माणों के खिलाफ कोई कार्यवाई नहीं की, इसका नतीजा आज सभी भुगत रहे हैं। पीकॉक झील के साथ – साथ सूरजकुंड वाले स्थान पर 2003 तक एक या दो निर्माण हुआ करते थे। लेकिन आज की तस्वीर एकदम अलग है। एनसीआर के लिए जीवनदायिनी कहे जाने वाली अरावली के सीने पर फॉर्म हाउस पर फॉर्म हाउस बनते चले गए और वन विभाग सोया रहा।

गत वर्षों में देखा जाए तो अरावली में हज़ारों अवैध निर्माण हुए हैं। प्रशासन की तरफ से अदालत के सामने अपना साफ चेहरा दिखाने के लिए कभी-कभी एक-दो फॉर्म हाउस की दीवार पर बुलडोजर चला दिया गया। इससे साफ है कि वन अधिकारियों की उदासीनता या मिलीभगत से ही सैकड़ों फॉर्म हाउस बने लेकिन एक के खिलाफ भी कभी इसे लेकर कार्रवाई नहीं की गई।

बड़खल झील ही नहीं फरीदाबाद में इन झीलों का भी हुआ शोषण, ऐसा दिखाई देता था नज़ारा
2020 का नज़ारा अवैध निर्माणों ने अपना डेरा बना लिया पानी हो गया गायब

फरीदाबाद की खूबसूरती और सासें लूटने वालों के खिलाफ प्रशासन के अधिकारिओं ने कोई सुध नहीं ली। सूखी झील को देखकर आसमान के चेहरे पर गहरी बेचैनी है, सतह का चेहरा भी रूखा है, बिवाई की तरह फटा हुआ। जिस झील का पानी पालता था पूरा शहर वही झील आज अपनी प्यास में छटपटाती है।

Latest articles

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

पुलिस का दुरूपयोग कर रही है भाजपा सरकार-विधायक नीरज शर्मा

आज दिनांक 26 फरवरी को एनआईटी फरीदाबाद से विधायक नीरज शर्मा ने बहादुरगढ में...

More like this

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...