HomeLife StyleHealthबड़ा अध्यन : रंग देखकर अपना शिकार बना रहा है कोरोना वायरस,...

बड़ा अध्यन : रंग देखकर अपना शिकार बना रहा है कोरोना वायरस, पढ़ें कौनसे रंग को अधिक खतरा

Published on

कोरोना वायरस जिस प्रकार अपनी जड़ें मजबूत कर चुका है, उस से निजात पाना इतना असान नहीं लग रहा है। हर दिन दुनिया में लाखों कोरोना संक्रमण मिल रहे हैं। ऐसा अध्यन आया है सामने कि कोरोना संक्रमण बच्चों का ‘रंग’ देखकर निशाना बना रहा है। सिलसिलेवार हुए अध्ययनों से पता चला है कि इस महामारी ने अश्वेत व हिस्पैनिक बच्चों को ज्यादा प्रभावित किया है। 

कोरोना महामारी के ऊपर अनेकों अध्यन हो गए हैं। लेकिन अध्यन में श्वेतों की तुलना में अश्वेत बच्चों की अस्पताल में भर्ती होने की दर पांच से आठ गुना ज्यादा रही तो उनकी मौत भी कहीं अधिक हुई है।

बड़ा अध्यन : रंग देखकर अपना शिकार बना रहा है कोरोना वायरस, पढ़ें कौनसे रंग को अधिक खतरा

भारत हो या अमेरिका सभी जगह इसकी जड़ें बहुत मजबूत हो गई हैं। इस अध्यन में पता लगा है कि जिन बच्चों में जानलेवा मल्टी सिस्टम इन्फ्लेमेटरी सिंड्रोम पाया गया, उनमें भी अश्वेत बहुतायत में मिले। सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशऩ के अनुसार, अमेरिका में अब तक करीब 100 बच्चों ने कोरोना से जान गंवाई है, जिनमें ज्यादातर अल्पसंख्यक समुदाय के ही हैं।

बड़ा अध्यन : रंग देखकर अपना शिकार बना रहा है कोरोना वायरस, पढ़ें कौनसे रंग को अधिक खतरा

यह अध्यन अभी अमेरिका में और कुछ और देशों में हुआ है। भारत में अभी इसकी कोई जानकारी नहीं मिली है। जर्नल बीएमजे में छपी रिपोर्ट के मुताबिक, अमेरिका में ही नहीं, ब्रिटेन में भी अश्वेत बच्चों को कोरोना अधिक प्रभावित कर रहा है। ब्रिटेन के अस्पतालों में आईसीयू में जाने वाले संक्रमित बच्चों में अश्वेतों की तादाद तुलनात्मक रूप से ज्यादा रही है।साथ ही एमआईएस -सी ने उन्हें ज्यादा शिकार बनाया है। 

बड़ा अध्यन : रंग देखकर अपना शिकार बना रहा है कोरोना वायरस, पढ़ें कौनसे रंग को अधिक खतरा

कोरोना वायरस से हम सभी जीत सकते हैं, यदि थोड़ी सतर्कता दिखाएँ। अमेरिका में चिल्ड्रंस नेशनल हॉस्पिटल की डॉ का कहना है, मार्च -अप्रैल के दौरान वाशिंगटन के एक क्षेत्र में जो एक हजार बच्चे संक्रमित मिले थे, उनमें  से आधे हिस्पैनिक और एक तिहाई अश्वेत थे। डॉक्टर के अध्ययन के मुताबिक, वाशिंगटन में श्वेतों की तुलना हिस्पैनिक बच्चों के कोरोना पॉजिटिव पाए जाने की संभावना छह गुना रही। वहीं अश्वेतों में यह दोगुनी दिखाई दी।

Latest articles

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित हुआ दो दिवसीय बसंतोत्सव

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित दो दिवसीय बसंतोत्सव के शुभ अवसर पर...

आखिर क्यों बना Haryana के टीचर का फॉर्म हाउस पूरे प्रदेश में चर्चा का विषय, यहां पढ़ें पूरी ख़बर

आज के समय में फॉर्म हाउस बनाना कोई बड़ी बात नहीं है, लेकिन हरियाणा...

Faridabad का ये किसान थोड़ी सी समझदारी से आज कमा रहा लाखों, यहां जानें कैसे

आज के समय में देश के युवा शिक्षा, स्वास्थ आदि क्षेत्रों के साथ साथ...

Haryana के इस शख्स ने किया Bollywood के सुपरस्टार ऋतिक रोशन के साथ काम, इससे पहले भी कर चुके है कई फिल्मों में काम

प्रदेश के युवा या बुजुर्ग सिर्फ़ खेल या शिक्षा के मैदान में ही तरक्की...

More like this

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित हुआ दो दिवसीय बसंतोत्सव

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित दो दिवसीय बसंतोत्सव के शुभ अवसर पर...

आखिर क्यों बना Haryana के टीचर का फॉर्म हाउस पूरे प्रदेश में चर्चा का विषय, यहां पढ़ें पूरी ख़बर

आज के समय में फॉर्म हाउस बनाना कोई बड़ी बात नहीं है, लेकिन हरियाणा...

Faridabad का ये किसान थोड़ी सी समझदारी से आज कमा रहा लाखों, यहां जानें कैसे

आज के समय में देश के युवा शिक्षा, स्वास्थ आदि क्षेत्रों के साथ साथ...