HomeGovernmentऔद्योगिक नगरी का बिगुल बजाने वाला हरियाणा राज्य बेरोजगारी के मामले में...

औद्योगिक नगरी का बिगुल बजाने वाला हरियाणा राज्य बेरोजगारी के मामले में साबित हुआ नंबर वन फ्लॉप

Published on

कोरोना वायरस के कारण लागू हुए लॉकडाउन के बाद अनलॉक प्रक्रिया शुरू होने के बावजूद भी हरियाणा राज्य में बेरोजगारी की दर दिन प्रतिदिन बढ़ ही रही है। बढ़ते बढ़ते यह दर अब प्रथम चरण पर पहुंच चुकी हैं।इसका अर्थ है यह कि बेरोजगारी के मामले में ओद्यौगिक नगरी का खिताब अपने नाम करने वाला राज्य प्रथम स्थान पर काबिज हो चुका है।

जहां इस राज्य ने हर क्षेत्र में अपना दमखम दिखाया था वही बेरोजगारी के मामले में भी इसमें कोई चूक नहीं की और बेरोजगारी का खिताब लेने के लिए भी हरियाणा राज्य का नाम टॉप पर रखा गया है।

औद्योगिक नगरी का बिगुल बजाने वाला हरियाणा राज्य बेरोजगारी के मामले में साबित हुआ नंबर वन फ्लॉप

ऐसा हम नहीं बल्कि सेंटर फोर मॉनिटरिंग इंडियन इकोनॉमी (एमआइइ) के आंकड़े बताते हैं। एम आई आई के अनुसार फिलवक्त में हर 10 में से एक शख्स बेरोजगार है। देखा जाए तो कोरोना वायरस के कारण लागू हुए लॉकडाउन में सारा काम ठप पड़ा था

ऐसे में बेरोजगारी का बढ़ना लाजमी था, परंतु जब लॉकडाउन में छूट देने के बाद रोजगार के अवसरों को नया आयाम देने की शुरुआत की गई तो रोजगार मिलने की उम्मीद जागी थी। परंतु इतने महीने बीतने के बाद भी आज समस्या ज्यों की त्यों बनी हुई है।

औद्योगिक नगरी का बिगुल बजाने वाला हरियाणा राज्य बेरोजगारी के मामले में साबित हुआ नंबर वन फ्लॉप

अगस्त में बढ़ी सबसे अधिक बेरोजगारी
एमआइइ के आंकड़ों पर गौर करें तो जुलाई के मुकाबले अगस्त में बेरोजगारी की दर और बढ़ी है। और ये लगातार बढ़ कर करीब 10 फीसद हो गयी है, यानी हर 10 में एक व्यक्ति आज की तारीख में बेरोजगार है।

जबकि उम्मीद थी कि अनलॉक होने के कारण रोजगार के अवसर बढ़ेंगे। बता दें कि जुलाई में शहरी क्षेत्रों में बेरोजगारी की दर 9.15 फीसद थी, जो अगस्त में बढ़कर 9.83 हो गयी है। अगस्त महीने के बेरोजगारी के आंकड़े श्रम बाजार में सुस्ती के संकेत देते हैं. मई, जून के मुकाबले जुलाई में स्थिति सुधरी थी, लेकिन अगस्त में फिर से भारी गिरावट देखने को मिली है

अगस्त माह के अंतिम तक बेरोजगारी की दर

हरियाणा में 33.5, त्रिपुरा में 27.9, राजस्थान में 17.5, गोवा में 16.2, हिमाचल प्रदेश में 15.8, वेस्ट बंगाल में 14.9, उत्तराखंड 14.3, दिल्ली में 13.8, बिहार में 13.4, सिक्किम में 12.5

औद्योगिक नगरी का बिगुल बजाने वाला हरियाणा राज्य बेरोजगारी के मामले में साबित हुआ नंबर वन फ्लॉप

जम्मू कश्मीर में 11.1, केरला में 11, पंजाब में 11, झारखंड मे 9.8, आंध्र प्रदेश 7, महाराष्ट्र 6.2, तेलंगना 5.8, उत्तर प्रदेश 5.8, छत्तीसगढ़5.6, आसाम 5.5, पुडुचेरी 5, मध्य प्रदेश 4.7, मेघालय 3.7, तमिलनाडु 2.6,,ल गुजरात 1.9, ओडिशा 1.4, कर्नाटका 0.5।

Latest articles

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है: कशीना

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है, इसका संबंध...

भाजपा के जुमले इस चुनाव में नहीं चल रहे हैं: NIT विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा

एनआईटी विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा ने बताया कि फरीदाबाद लोकसभा सीट से पूर्व...

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

More like this

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है: कशीना

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है, इसका संबंध...

भाजपा के जुमले इस चुनाव में नहीं चल रहे हैं: NIT विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा

एनआईटी विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा ने बताया कि फरीदाबाद लोकसभा सीट से पूर्व...