HomeFaridabadफरीदाबाद में बढ़ कोरोना मरीजों का कारण, सरकारी अस्पताल बीके की लापरवाही...

फरीदाबाद में बढ़ कोरोना मरीजों का कारण, सरकारी अस्पताल बीके की लापरवाही तो नहीं ।

Published on

फरीदाबाद के सरकारी अस्पताल बी.के में पनप रहा है कोरोना वायरस के संक्रमण का खतरा। जहां रोजाना फरीदाबाद में ही 100 से उपर कोरोना केसेस निकल रहे है वहीं दूसरी ओर कानूनी नियमों की सरेआम धज्जियां उड़ाई जा रही हैं।

फरीदाबाद के बीके अस्पताल की ओपीडी में कार्ड बनवाने के लिए लाइन में किसी प्रकार की सामाजिक दुरी (सोशल डिस्टन्सिंग) का पालन हो नहीं हो रहा है। इमरजेंसी वार्ड के सामने खड़े इस शख्स को देख कर ऐसा लगता नहीं की इन जनाब को कोरोना से किसी प्रकार का खतरा लगता है।

फरीदाबाद में बढ़ कोरोना मरीजों का कारण, सरकारी अस्पताल बीके की लापरवाही तो नहीं ।

किनारे में बैठे नौजवान युवक जिन्हे देश का भविष्य समझा जाता है वे ही देश का भविष्य खतरे में धकेलते नज़र आ रहे हैं।

एक ओर देश में कोरोना के मामले बेतहाशा बढ़ते जा रहे हैं तो वहीं ओर ऐसे दिश्ये देखने को मिल रहे हैं जिससे सरकार की चिंता सातवें आसमान पर पहुँच गयी है। पूरे देश में कोरोना के कुल मामले 40 लाख के पार पहुँच गए हैं।

फरीदाबाद में बढ़ कोरोना मरीजों का कारण, सरकारी अस्पताल बीके की लापरवाही तो नहीं ।

जिसमे अकेले फरीदाबाद में 13 हजार 338 केस है। कोरोना के हैरान कर देने वाले इन आंकड़ों ने भारत को विश्व में कोरोना संक्रमण के मामले में तीसरे नंबर पर पहुंचा दिया है। और वो दिन दूर नहीं जब भारत कोरोना की इस रेस में ब्राज़ील को भी पीछे छोड़ देगा। ऐसे में भारत की सरकार के लिए चुनौतियों की लिस्ट लम्बी होती जा रही है।

जहां कोरोना का इलाज करवाने के लिए सरकारी अस्पतालों में भीड़ सी लगी हुई है उस बिच हैरानी की बात तो यह है कि सिर्फ फरीदाबाद के बीके ही नहीं बल्कि लगभग सभी सरकारी अस्पतालों का यही हाल है। बीके अस्पताल में रोज़ाना 800 से 1000 मरीज अपना इलाज करवाने आते है। जिसमे से औसतन अगर कुछ लोगो को कोरोना का खतरा हुआ तो कितने लोगो में संक्रमण फैल सकता है।

फरीदाबाद में बढ़ कोरोना मरीजों का कारण, सरकारी अस्पताल बीके की लापरवाही तो नहीं ।

ऐसे में जो लोग बिना मास्क अस्पताल में घूम रहे है उनके खिलाफ कार्रवाई करी जानी चाहिए। कोरोना के बढ़ते आंकड़ों को ध्यान में रखते हुए अवश्यम्भावी है कि जो भी लोग ऐसी मुश्किल और नाज़ुक परिस्थिति में भी लापरवाही बरात रहे हैं उनके ऊपर कठोर से कठोर कार्रवाई की जानी चाहिए। कार्रवाई के तहत इन पर मोटा जुर्माना लगाया जाये जिससे की ऐसे लोगों को नियमों का उलंघन करने का दंड मिले। और साथ ही अस्पताल प्रबंधक दी बिना मास्क घूमने वाले लोगों को फ्री में मास्क वितरित करें

Latest articles

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है: कशीना

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है, इसका संबंध...

भाजपा के जुमले इस चुनाव में नहीं चल रहे हैं: NIT विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा

एनआईटी विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा ने बताया कि फरीदाबाद लोकसभा सीट से पूर्व...

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

More like this

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है: कशीना

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है, इसका संबंध...

भाजपा के जुमले इस चुनाव में नहीं चल रहे हैं: NIT विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा

एनआईटी विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा ने बताया कि फरीदाबाद लोकसभा सीट से पूर्व...