HomeGovernmentफरीदाबाद-गुरुग्राम मार्ग पर मेट्रो की यात्रा दिखाएगा अरावली की हरियाली का नजारा

फरीदाबाद-गुरुग्राम मार्ग पर मेट्रो की यात्रा दिखाएगा अरावली की हरियाली का नजारा

Published on

फरीदाबाद में ऑक्सीजन फैक्ट्री के नाम से मशहूर अरावली पहाड़ियों का रोमांचक नजारा आज तक आपने वहां से गुजरने के दौरान ही देखा होगा। लेकिन अब फरीदाबाद गुरुग्राम से गुजरने वाली मेट्रो आपको मेट्रो यात्रा के दौरान इस रोमांचक नजारे का लुफ्त उठाने में मददगार साबित होगी।

इतना ही नहीं आपके जहन में भी यह सवाल उठते होंगे कि अवैध खनन से अरावली की पहाड़ियों की उजड़ी हरियाली से वन्य प्राणी किस तरह प्रभावित हुए होंगे? अब फरीदाबाद-गुरुग्राम मेट्रो ट्रेन सारी उत्‍सुकता काे शांत करेगा। इस मेट्रो का सफर अरावली के मनोरम नजारा कराएगा।

फरीदाबाद-गुरुग्राम मार्ग पर मेट्रो की यात्रा दिखाएगा अरावली की हरियाली का नजारा

20 किलोमीटर में दोनों तरफ दूर तक दिखेगी अरावली पहाड़ियों की सुंदरता

गौरतलब, वर्ष 2002 में सुप्रीम कोर्ट के आदेश खनन पर प्रतिबंध लगाए जाने के 18 वर्ष बाद अब इस पर्वतमाला की दूर-सुदूर तक स्थिति कैसी है? जिज्ञासा और मन के सवालों के जबाव अब आपको फरीदाबाद-गुरुग्राम मार्ग पर ऊपरगामी मेट्रो रेल लाइन के सफर के दौरान मिला करेंगे। इस मेट्रो लाइन के निर्माण की प्रक्रिया शुरू करने को हरियाणा सरकार अंतिम चरण में कार्य कर रही है।

यात्रा के दौरान यात्री औसतन 40 फीट ऊंचाई पर होता है।

असल में फरीदाबाद से गुरुग्राम तक के 36.1 किलोमीटर लंबी मेट्रो रेल लाइन में से 20 किलोमीटर के सफर के दौरान दोनों तरफ अरावली की पहाड़ियां और हरियाली दिखाई देगी। यात्रियों के लिए यह मनोहारी और रोमांचक नजारा रहेगा।

ऊपरगामी मेट्राे रेल लाइन औसतन 10 मीटर (32.8 फीट) ऊंचे पिलर्स पर तैयार होती है। इससे यात्रा के दौरान यात्री औसतन 40 फीट ऊंचाई पर होता है। इतनी ऊंचाई से अरावली के आंतरिक हिस्सों का दीदार आसानी से किया जा सकेगा।

फरीदाबाद-गुरुग्राम मार्ग पर मेट्रो की यात्रा दिखाएगा अरावली की हरियाली का नजारा

हरियाणा मास रेपिड ट्रांसपोर्ट कॉरपोरेशन लिमिटेड को राज्य की मुख्य सचिव के माध्यम से अब ऐसे प्रस्ताव भी मिलने लगे हैं कि यदि फरीदाबाद-गुरुग्राम मार्ग पर मेट्रो पिलर्स की औसत से कुछ मीटर और ऊंचाई पर बढ़ा दी जाए तो यह लाइन पर्यटन की दृष्टि से भी अहम हो जाएगी। पर्यावरणविद् से लेकर पर्यटक भी अरावली का मनमोहक नजारा देखने के लिए मेट्रो का सफर करेंगे।

इस मेट्रो लाइन की प्रक्रिया में तेजी लाने के उद्देश्य मुख्य सचिव केशनी आनंद अरोड़ा की अध्यक्षता में बैठक हुई। वरिष्ठ अधिकारियों का मानना था कि अरावली में के वन्य प्राणियों को देखने के लिए भी लोग परिवार सहित यहां मेट्रो से सफर कर सकते हैं। कांग्रेस विधायक नीरज शर्मा ने मेट्रो पिलर्स की ऊंचाई बढ़ाने के लिए मुख्य सचिव को पत्र लिखा है।

हरियाणा की विधायक एवं पूर्व मुख्य संसदीय सचिव सीमा त्रिखा ने इस संबंध में अपनी प्रतिक्रिया और खुशी जाहिर करते हुए कहा कि फरीदाबाद-गुरुग्राम मेट्रो रेल लाइन को पर्यटन की दृष्टि से अहम बनाने के लिए कई सुझाव राज्य सरकार के पास आ रहे हैं।

पिलर्स की ऊंचाई औसतन 10 मीटर से ज्यादा कितनी की जा सकती है और मेट्रो की कितनी स्पीड में कितनी ऊंचाई से कितनी दूर तक का नजारा देखा जा सकता है, इसके तकनीकी पहलुओं पर भी रिपोर्ट ली जा रही है। फिलहाल हमारा फोकस है कि फरीदाबाद-गुरुग्राम मेट्रो रेल के सफर के दौरान यात्रियों को अरावली की आंतरिक सुंदरता दिखाने के प्रस्ताव को सिरे चढ़ाया जाए।

Latest articles

श्री राम नाम से चली सरकार भूले तुलसी का विचार और जनता को मिला केवल अंधकार (#_बजट): भारत अशोक अरोड़ा

खट्टर सरकार ने आज राज्य के लिए आम बजट पेश किया इस दौरान सीएम...

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित हुआ दो दिवसीय बसंतोत्सव

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित दो दिवसीय बसंतोत्सव के शुभ अवसर पर...

आखिर क्यों बना Haryana के टीचर का फॉर्म हाउस पूरे प्रदेश में चर्चा का विषय, यहां पढ़ें पूरी ख़बर

आज के समय में फॉर्म हाउस बनाना कोई बड़ी बात नहीं है, लेकिन हरियाणा...

Faridabad का ये किसान थोड़ी सी समझदारी से आज कमा रहा लाखों, यहां जानें कैसे

आज के समय में देश के युवा शिक्षा, स्वास्थ आदि क्षेत्रों के साथ साथ...

More like this

श्री राम नाम से चली सरकार भूले तुलसी का विचार और जनता को मिला केवल अंधकार (#_बजट): भारत अशोक अरोड़ा

खट्टर सरकार ने आज राज्य के लिए आम बजट पेश किया इस दौरान सीएम...

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित हुआ दो दिवसीय बसंतोत्सव

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित दो दिवसीय बसंतोत्सव के शुभ अवसर पर...

आखिर क्यों बना Haryana के टीचर का फॉर्म हाउस पूरे प्रदेश में चर्चा का विषय, यहां पढ़ें पूरी ख़बर

आज के समय में फॉर्म हाउस बनाना कोई बड़ी बात नहीं है, लेकिन हरियाणा...