Pehchan Faridabad
Know Your City

सत्ता में ना होते भी जनता के दिलों में अपने लिए जगह बनाए रखने हेतु पूर्व एमएलए ललित नागर के अथक परिश्रम

राजनीति के दलदल में पांव रखना जितना आसान होता है उससे कहीं ज्यादा मुश्किल इस दलदल में आने के बाद अपनी जनता की सेवा भाव में तत्पर रहना। इतना ही नहीं सत्ता की कुर्सी ना होने के बावजूद भी जनता के लिए निस्वार्थ भाव से कार्य करते रहना और भविष्य में एक बार फिर अपने पद पर काबिज होने की उम्मीद रखने के अथक प्रयास किसी कर्मनिष्ठ और ईमानदार नेता के अंदर ही हो सकते हैं।

उक्त सारी बातें पूर्व तिगांव विधायक ललित नागर पर सटीक बैठती हैं। आज पूर्व विधायक ललित नागर का 49 वां जन्मदिन है तो चलिए जानते हैं उनके इस खास अवसर पर उनके जीवन से जुड़े कुछ महत्वपूर्ण और अभिप्रेरित करनी वाली जानकरियां।

पूर्व ललित नागर का जन्म सन 1971, 8 सितंबर को हुआ था। राजनीति में ललित नागर की भागीदारी दशकों को पुरानी है। ललित नागर इंडियन नेशनल लोक दल यानी कांग्रेस पार्टी के नेता के रूप में कार्यरत हैं। ललित नागर अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के सदस्य और पी.सी. के महासचिव (प्रदेश कांग्रेस कमेटी) के तौर पर भी अपनी भूमिका अदा कर चुके हैं।

पूर्व विधायक एक किसान परिवार से आते हैं, जबकि उनके चाचा स्वर्गीय श्री गजराज बहादुर नागर 1977 से 1982 तक के अपने मंत्री कार्यकाल के दौरान हरियाणा राज्य में अपने प्रगतिशील कार्यों के कारण एक प्रमुख नाम रहे थे, जिन्होंने लोगों की सेवा करने के लिए परिवार के समर्पण से प्रेरित होकर अपना करियर शुरू किया।

वहीं एनएसयूआई के सदस्य के रूप में उन्होंने एनएसयूआई के तहत कई अभियानों में भाग लिया और 1983-85 में एनएजीपीएचआर एडीवीएशन जैसे कार्यों में भी भाग लिया। उन्होंने पिछले 25 वर्षों के दौरान फरीदाबाद के सभी चुनाव अभियानों में भाग लिया

, जिस में वह एक वफादार सदस्य के रूप में चयनित हुए थे। पूर्व विधायक ललित नागर ने 2009 में तिगांव गांव से विधायक का चुनाव जीता था। चुनाव के पांच वर्ष तक उन्होने जनता के लिए विकास कार्यों की डोर बांधे रखी।

पूर्व विधायक ललित नागर कांग्रेस पार्टी की विचारधाराओं के सबसे समर्पित प्रचारकों में से एक रहे हैं, और पार्टी के कारण के रूप में कार्य किया है।


हरियाणा में कांस्टिट्यूशन वर्ष 2009 के दौरान कांग्रेस पार्टी से विधानसभा चुनाव हुए थे, जिसमें एक सुनियोजित चुनाव अभियान किया गया था, जिसके परिणामस्वरूप भाजपा हरियाणा प्रदेश अध्यक्ष के खिलाफ करीबी मुकाबला हुआ, चुनाव हारने का मार्जिन केवल 811 वोट (राज्य में दूसरा सबसे कम) के लिए था।

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More