Pehchan Faridabad
Know Your City

मुस्कुराइए आप स्मार्ट सिटी फरीदाबाद में है, देखिए शहर का विकास इन फोटो के माध्यम से ।

आपदा को कैसे अवसर में बनाया जाये इसकी बातें तो आपने बहुत सुनी होंगी पर फरीदाबाद शहर में इसका प्रत्यक्ष प्रमाण देखने को मिल जाएगा। यूं तो फरीदाबाद शहर और इसके निवासी अपने निपट निराले और अनोखे अंदाज़ के लिए जाने जाते हैं।

फिलहाल फरीदाबाद कुछ समय से सुर्ख़ियों में कुछ ज़्यादा ही छाया हुआ है पर यहाँ की प्रशासनिक व्यवस्था कुछ और ही बयां कर रही हैं। आपको दिखाते हैं कुछ तस्वीरें जिससे आपदा से लड़ने का और उसको अवसर में बदलने की तरकीब आप बखूबी समझ जाएंगे।

यह तस्वीर फरीदाबाद के अजरौंदा चौक की है जहाँ कुछ बच्चों ने एक गड्ढे को अपना आशियाना बना कर उसमे ख़ुशी का बहाना सा ढूंढ लिया है। यहाँ यह बच्चे रोज़ अपनी माँ के साथ आते हैं। पहले बच्चे नहाते हैं और फिर उसके बाद महिलायें इस पानी में अपने बर्तन कपड़े धोती हैं।

यह नज़ारा फरीदाबाद की संजय कॉलोनी का है जहाँ पुलिस प्रशासन ने बैरीगेटिंग का इस्तेमाल कुछ अलग ही अंदाज़ में किया है। जहाँ बैरीगेटिंग गाड़ियों को रोकने के लिए लगाई जाती है पर संजय कॉलोनी की इस सड़क पर गड्ढे इतने हैं जिनमे बारिश का पानी भरने की वजह से आये दिन हादसे होते ही रहते हैं। उन हादसों को काम करने के लिए जनता को सतर्क करते हुए यह तरकीब लगायी कि सड़क पर दो बैरीग लगा दिए।

झरझर हालत में देखिये इस बिजली के खम्बे की हालत जो किसी भी वक्त धरती पर आ गिरेगा। पर प्रशासन नींद में ऐसे सोई है कि विकास का ढोल पीटने के बाद विकास असल में लाना भूल ही गए।

यह ट्रैफिक लाइट का इस हाल में पड़ा होना अब यहाँ के रहने वालों के लिए जैसे आम बात हो गयी हो। ट्रैफिक लाइट लोगों को सिग्नल दिखाती है पर यहाँ की ट्रैफिक लाइट का तो उल्टा ही हिसाब है।

एनआईटी 5 की एक सड़क के बीचोंबीच पेड़ का यह तना ऐसे ही कितनी समय से पड़ा हुआ है। दरअसल जिस जगह ये तना रखा आया है वहां सीवर का एक बड़ा गहरा गड्ढा है, आने जाने वाले वाहन उस गड्ढे में फस न जाएँ यह सोच कर यह तना सड़क के बीच में रखा गया है। अब सोचने की बात यह है कि यह तना लोगों को गड्ढे में गिरने से बचता है या फिर एक्सीडेंट का कारण बनता है।

Written By- MITASHA BANGA

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More