Pehchan Faridabad
Know Your City

महामारी के साथ साथ अपराधों से भी संक्रमित हो रहे है लोग

फरीदाबाद में अपराध के मामले थमने का नाम नहीं ले रहे है ।अनलॉक के बाद से जिले में अपराधों के मामले में बढ़ोतरी हुई है। अब शहर में चोरी ,आत्महत्या, मर्डर जैसे मामले आम होते जा रहे हैं।

अपराध इस हद तक बढ़ चुका है कि अपराधी इसे घरों में घुसकर अंजाम दे रहे हैं। हाल ही में एक खबर बहुत ज्यादा ट्रेंड कर रही थी, जिसमें फॉर्च्यूनर कार एवं टायरों की चोरी की खबर सामने आ रही थी। ऐसी कई वारदात है जो इस कोरोना काल के दौरान घटित हुई है। पुलिस भी कई अपराधियों को गिरफ्तार कर जेल भेज चुकी है, मगर अपराधों की संख्या कम नहीं हो रही है। बीते 1 जून 2020 से 7 दिसंबर 2020 तक चोरी के शहर में कुल 752 मामले दर्ज हो चुके हैं। वही 22 मार्च 2020 से 31 मई 2020 तक चोरी के कुल 90 मामले पुलिस ने दर्ज किए थे।

इन आंकड़ों से स्पष्ट है कि लॉकडाउन के बाद चोरी में वृद्धि हुई है। इन मामलों को पुलिस लॉकडाउन के कारण बेरोजगारी बढ़ने से भी जोड़कर देख रही है।

टायर चोरी के मामले
घरों के बाहर खड़ी कारों के टायर चोरी होने के मामले भी अभी तक अनसुलझे हैं। इस साल में अब तक 50 गाड़ियों के टायर चोरी हो चुके हैं मगर पुलिस इस गिरोह को पकड़ने में नाकाम साबित हो रही है ।हाल ही में डबुआ कालोनी स्थित त्यागी मार्केट में चोरों ने ईट लगा कर दो कारों के टायर चुरा लिए थे। इससे पहले भी nit-5 निवासी गुरमीत सिंह ने अपनी कार पार्किंग में खड़ी की थी। सुबह कार चेक पर खड़ी थी मैं चारों पहिए गायक थे। कोतवाली थाना क्षेत्र एनआईटी एक मार्केट सेट सरताज फर्नीचर वालों की वैगनआर कार घर के बाहर खड़ी थी। साथ में चोर चारों टायर खोलकर कार को ईटो पर खड़ा कर चले गए। ऐसी कई वारदातें हैं जो टायर चोरी एवं कार्ड चोरी के इन दिनों में सामने आई है।

आत्महत्या मामले
यह तो थी चोरी के मामलों की वारदाते , वहीं दूसरी और आत्महत्या के मामले भी बढ़ रहे हैं। आए दिन कोई ना कोई आत्महत्या का मामला सामने आ ही जाता है। और पाया यह भी गया है कि के दौरान ही लोग ज्यादा आत्महत्या जैसे संगीन मामले को अंजाम दे रहे हैं । कोई ना कोई नहर में कूदकर या फिर फांसी लगाकर अपना जीवन लीला समाप्त कर रहे हैं। हाल ही में नगला पार्ट 2 एनआईटी में रहने वाली पूजा नाम की एक व्यक्ति ने फांसी लगाकर अपनी जीवन लीला समाप्त कर ली। 14 सितंबर 2020 को नहर में कूदकर दो बहनों ने अपनी जान दी। ऐसी ही एक घटना सेक्टर 28 के पुल पर मिली जहां सरकारी नौकरी करने वाले 28 वर्षीय एक युवक ने अपनी जान दे दी। आत्महत्या के संगीन मामलों का सिलसिला यहीं खत्म नहीं होता यह लिस्ट अभी बहुत लंबी है।

वारदात इतने बढ़ चुके हैं कि यह थमने का नाम नहीं ले रहे हैं सरकार को अपराधों को रोकने के लिए जल्द से जल्द ठोस कदम उठाने होंगे वरना इन वारदातों की लिस्ट और भी लंबी हो सकती है।

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More