Pehchan Faridabad
Know Your City

LAC पर बढ़ा तनाव, राजनाथ सिंह का चीन को कड़ा संदेश

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने संसद में चीन को कड़ा संदेश दिया। राजनाथ सिंह ने साफ कर दिया कि भारत की अखंडता और संप्रभुता से साथ कोई समझौता नहीं होगा। इधर राजनाथ सिंह के जवाब के बाद कांग्रेस ने पीएम मोदी पर बड़ा आरोप लगाया है। कांग्रेस का कहना है कि पीएम ने देश को गुमराह किया है।

लद्दाख में लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल पर इस वक्त भारी तनाव है। दोनों देशों की सेना आमने-सामने हैं। सीमा पर फाइटर प्लेन दहाड़ रहे हैं। भारत के खिलाफ चीन खतरनाक साजिश रच रहा है। LAC पर तनाव बढ़ा तो बीजिंग से लेकर नई दिल्ली तक तनाव बढ़ गया है।

LAC पर बढ़ा तनाव,  राजनाथ सिंह का चीन को कड़ा संदेश

जिसके बाद मंगलवार को रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने साफ कर दिया कि देश की संप्रभुता और अखंडता से कोई समझौता नहीं होगा। रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने वीर जवानों के शहादत की तारीफ करते हुए ड्रैगन को कड़ा संदेश दिया लेकिन मुख्य विपक्षी पार्टी कांग्रेस ने वॉकआउट करते हुए सरकार पर बड़ा आरोप मढ़ दिया।

चीन को कड़ा संदेश दिया

चीन की पोल खोलते हुए राजनाथ सिंह ने बताया कि चीन ने एलएसी और अंदरूनी क्षेत्रों में बड़ी संख्या में सैनिक टुकड़ियां और गोला बारूद जमा किया हुआ है। चीन के साथ गतिरोध पर रक्षा मंत्री के बयान के बाद कांग्रेस ने आरोप लगाया कि लोकसभा वो जवानों के सम्मान में अपनी बात रखना चाहते थे लेकिन सरकार ने ऐसा नहीं होने दिया।

LAC पर बढ़ा तनाव,  राजनाथ सिंह का चीन को कड़ा संदेश

यही नहीं विपक्ष ने पीएम मोदी पर भी बड़ा आरोप लगाया है। इधर चीनी मुद्दे पर सुलगते राजनीति के बीच कांग्रेस सांसद राहुल गांधी ने भी ट्विटर का सहारा लेकर मोदी सरकार को जमकर कोसा। राहुल गांधी ने कहा कि पीएम बोले कि कोई सीमा में नहीं घुसा। फिर चीन-स्थित बैंक से भारी क़र्ज़ा लिया।

फिर रक्षामंत्री ने कहा चीन ने देश में अतिक्रमण किया। अब गृह राज्य मंत्री ने कहा अतिक्रमण नहीं हुआ। मोदी सरकार भारतीय सेना के साथ है या चीन के साथ इतना डर किस बात का।

LAC पर बढ़ा तनाव,  राजनाथ सिंह का चीन को कड़ा संदेश

गलवान घाटी में हिंसक झड़प के बाद दोनों देशों के बीच तनाव और बढ़ गया है। कई दौर की वार्ता के बाद भी हालत जस के तस है। इधर भारत भी चीन को हर मोर्चे पर पटखनी देने के लिए तैयारी कर रखी है। लेकिन देश में सियासत भी चरम पर है।

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More