Pehchan Faridabad
Know Your City

पहले पति और अब बेटे का भी छूट गया साथ, जानिए अनुराधा पौडवाल की दुःख भरी दास्ताँ

पहले पति और अब बेटे का भी छूट गया साथ, जानिए अनुराधा पौडवाल की दुःख भरी दास्ताँ :- 2020 ये साल भारतीय सिनेमा के लिए बुरा साल माना जा रहा है। क्योंकि इसमें कई बॉलीवुड जगत ने दुनिया को अलविदा कह दिया है।

ये साल अभी तक खत्म नहीं हुआ कि बॉलीवुड के महशूर कलाकार में से एक ऋषि कपूर, इरफान खान, वाजिद अली और सुशांत सिंह राजपूत को बॉलीवुड ने खो दिया। वहीं अब एक दुखद घटना सामने आई।

पहले पति और अब बेटे का भी छूट गया साथ, जानिए अनुराधा पौडवाल की दुःख भरी दास्ताँ

दरसअल देश की प्रशिद्ध गायक अनुराधा पोडवाल के बेटे आदित्य पौडवाल का निधन हो गया है। बताया जा रहा है कि वह किडनी की बीमारी से पीड़ित थे। वह 35 साल के थे और कई महीने से बीमार चल रहे थे।

अनुराधा पौडवाल की दुःख भरी दास्ताँ

बता दें, अनुराधा पौडवाल की शादी अरुण पौडवाल से हुई थी जो प्रसिद्ध संगीतकार एसडी बर्मन के सहायक थे। खुद अरुण भी एक संगीतकार थे। नब्बे के दशक में अनुराधा अपने करियर के शिखर पर थीं, उसी समय उनके पति अरुण की एक दुर्घटना में मृत्यु हो गई थी। अब बेटा भी साथ छोड़कर चला गया। उनकी एक बेटी कविता पौडवाल है।

पहले पति और अब बेटे का भी छूट गया साथ, जानिए अनुराधा पौडवाल की दुःख भरी दास्ताँ

देश में अनुराधा पौडवाल की आवाज के लोग कायल है। आज भी उनकी एक गीत सुनने के लिए लोग आतुर रहते है। उनकी आवाज़ में ऐसी मधुरता है कि लोग खुद कहते हैं कि इनके गले में माँ सरस्वती का वास है। आज अपने जीवन में इस हद तक कामयाबी पाने के बावजूद भी उनकी असल जिंदगी उतनी अच्छी नही है।

पहले पति और अब बेटे का भी छूट गया साथ, जानिए अनुराधा पौडवाल की दुःख भरी दास्ताँ

उनकी ज़िंदगी में बहुत सारे उतार चढ़ाव आये लेकिन फिर अनुराधा अपने कामयाबी से पीछे नहीं हटी और सबका डट के सामना किया। अनुराधा से पहले पति का साथ छुटा और अब बेटे ने साथ छोड़ दिया।

पहले पति अब बेटे ने छोड़ा साथ

चलिए आपको बताते है अनुराधा पौडवाल की बात करें तो वह 70 के दशक से बॉलीवुड इंडस्ट्री में सक्रिय हैं। उन्हें भक्ति गाना गाने के लिए भी जाना जाता है। अनुराधा नें साल 1969 में अरुण पौडवाल को अपना हमसफर चुना जो के एसडी बर्मन के असीस्टेंट और एक फेमस म्यूजिक भी थे।

इस शादी से इन्हें दो बच्चे हुए जिनके नाम आदित्य और कविता हैं लेकिन फिर अरुण पौडवाल नें साल 1991 में 1 नवम्बर को एक हादसे की वजह से दुनिया छोड़कर चले गये। इस सब से जूझते हुए इनके दोनों बच्चों की ज़िम्मेदारी भी अनुराधा पर ही आ गयी थी। तो इस तरह से गीतकार अनुराधा ने अपनी असल जिंदगी में कई संघर्ष देखे इसके बावजूद कामयाबी की ऊँचाई तक भी पहुंची।

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More