Online se Dil tak

मंत्री की सख्ती के बावजूद नहीं कसी जा रही अवैध वाहनों के संचालन की लगाम

प्रदेश के परिवहन मंत्री मूलचंद शर्मा के आदेशों के बावजूद प्रशासन अवैध वाहनों पर शिकंजा नही कस पाया है। बल्लभगढ़ बस अड्डे के सामने से रोज 60 से अधिक बस व वैन आगरा, मथुरा, कोसी, होडल, गरुग्राम व अलीगढ़ रुट पर चलती हैं।

सूत्रों की माने तो रोडवेज़ के समानांतर चलने वाली यह अवैध बसें और वैन रोजाना करीब 5 लाख रुपये से अधिक का चूना लगा रही हैं। बस अड्डे के आगे से प्रतिदिन 50 से 60 प्राइवेट बसों के अलावा अन्य वाहन भी अवैध रूप से सवारी भरकर ले जाते हैं।

मंत्री की सख्ती के बावजूद नहीं कसी जा रही अवैध वाहनों के संचालन की लगाम
मंत्री की सख्ती के बावजूद नहीं कसी जा रही अवैध वाहनों के संचालन की लगाम

इनमे ईको वैन और जीप भी शामिल है। ये वाहन अलीगढ़, आगरा, मथुरा, भरतपुर, गरुग्राम सहित अन्य रूटों पर चल रहे हैं। बस अड्डे के सामने प्रतिदिन खड़े होने वाले अवैध वाहन हरियाणा रोडवेज की बसों में सवारियां नहीं भरने देते। हरियाणा रोडवेज की बसों में सवारियों की संख्या कम हो रही है।

मंत्री की सख्ती के बावजूद नहीं कसी जा रही अवैध वाहनों के संचालन की लगाम
मंत्री की सख्ती के बावजूद नहीं कसी जा रही अवैध वाहनों के संचालन की लगाम

अवैध रूप से चलने वाले यह वाहन रोडवेज की बस आने से पहले ही सवारियां भरकर सफर पर निकल जाते हैं। इसी कारण से हरियाणा रोडवेज की बसें खाली जाती हैं। आपको बता दें कि बस अड्डे के एक किलोमीटर के दायरे में किसी भी अवैध वाहन को खड़ा करने की इजाज़त नही हैं।

मंत्री की सख्ती के बावजूद नहीं कसी जा रही अवैध वाहनों के संचालन की लगाम
मंत्री की सख्ती के बावजूद नहीं कसी जा रही अवैध वाहनों के संचालन की लगाम

परिवहन विभाग द्वारा किसी भी निजी वाहन को बस अड्डे में खड़ा करने पर प्रतिबंध लगाया गया है। परंतु सभी नियमों को तोड़ते हुए बस अड्डे के आस पास प्रतिबंधित वाहनों का संचालन हो रहा है। खास बात यह है कि अवैध रूप से चलने वाले संचालक यात्रियों को कम किराए का लालच देकर बैठाते हैं।

मंत्री की सख्ती के बावजूद नहीं कसी जा रही अवैध वाहनों के संचालन की लगाम
मंत्री की सख्ती के बावजूद नहीं कसी जा रही अवैध वाहनों के संचालन की लगाम

रोडवेज अधिकारियों ने बताया कि निजी बस चालक सवारियों को कम किराए का वास्ता देकर अपना मुनाफा कमाते हैं। रोडवेज़ बस चालकों ने बताया कि निजी बस संचालक यात्रियों को कम किराए का झांसा देते हैं पर यात्रा के बीच मे उनसे पूरा किराया वसूला जाता है।

जो भी यात्री कम किराया देने की मांग करते है उनके साथ गाली गलौच की जाती है और उन्हें परेशान किया जाता है।

Read More

Recent