Pehchan Faridabad
Know Your City

फरीदाबाद की फैक्ट्री में लगी भीषण आग से मचा हड़कंप, जलकर राख लाखों की संपत्ति

एनआईटी 3 की पेरीफेरल रोड पर एक रबड़ फैक्ट्री में भीषण अग्निकांड हुआ है। फैक्ट्री पूरी तरह जलकर खाक हो गई। सिलेंडरों के कई विस्फोट सुनाई पड़े हैं। फैक्ट्री में घायलों की संख्या का अभी तक पता नहीं चल पाया है।

अगर कोई फैक्ट्री के अंदर होगा, तो उस व्यक्ति का बचना काफी मुश्किल है। एनआईटी 3 में पेरिफेरल रोड पर कल्याणपुरी झुग्गियों के सामने 3जी ब्लॉक में प्लॉट नंबर 192 से 4-5 प्लॉट आगे एक रबड़ फैक्ट्री है। यह रबड़ फैक्ट्री किसी गांधी नामक शख्स की बताई जा रही है।

इस रबड़ फैक्ट्री में लगभग 1:00 बजे भीषण आग लग गई। मौके पर हजारों की भीड़ इकट्ठी हो गई। सभी लोग फैक्ट्री के अंदर किसी के भी होने की संभावना से आशंकित है। फैक्ट्री में आग क्यों लगी, इसका अभी खुलासा नहीं हो पाया है।

धुएं के गुबार में दूर से देखकर यही अंदाजा लगाया जा सकता है कि किसी सिलेंडर से गैस निकल रही होगी और गैस तेज रफ्तार से पानी की बौछार की तरह आग की लपटों की शक्ल में ऊपर उठ रही हैं।

मौके पर तीन विस्फोट भी देखे, जो संभवतः किसी गैस सिलेंडरों के ही रहे होंगे, ऐसी संभावना है। जब सिलेंडरों के विस्फोट हो रहे थे, तो लपटें इस दो मंजिला भवन से ऊपर तक उठ रही थी। इस फैक्ट्री के पूर्वी बगल मैं भी एक फैक्ट्री हो सकती है, उसको मामूली नुकसान होने की संभावना है।

पश्चिम बंगाल वाला यह भवन पूरी तरह धुएं के कारण और आग के कारण काला पड़ गया है। यह भी समझ नहीं आ रहा है कि यह कोई मकान है या फिर कोई फैक्ट्री। इस भवन में भी भारी नुकसान की संभावना है।

लगभग 1:30 बजे 1 घंटे की देरी से दमकल गाड़ियां मौके पर पहुंची। उन्होंने 3 मिनट में ही अपनी कार्यवाही शुरू कर दी। पानी की बौछार से आग बुझाई। हालांकि तब तक फैक्ट्री और आसपास के इलाके में सब कुछ जलकर खाक हो चुका था। फैक्ट्री के मालिक के परिवार की महिलाएं मौके पर पहुंच गई और वह इस घटना से बुरी तरह स्तब्ध हैं और विलाप कर रही हैं।

कुछ अन्य महिलाएं भी वहां पहुंची हुई हैं, जो इस फैक्ट्री में काम करने वाले मजदूर युवाओं की माताएं हैं। वे अपने बच्चों को लेकर चिंतित हैं। मौके पर भारी पुलिस बल मौजूद है, जो भीड़ को नियंत्रित करने के लिए प्रयास कर रहा है। अग्नि कांड इतना भीषण था कि सेक्टर 24 में पीडी लखानी के प्लांट में लगी यादें ताजा हो गई।

इस फैक्ट्री के परिसर में जो भी लोग मौजूद रहे होंगे, उन्हें अब दुआएं ही बचा सकती हैं। बाद में पता चला है कि इस फैक्ट्री का नाम जी टेक है। यह फैक्ट्री इलेक्ट्रिकल पार्ट्स और बर्नर आदि बनाती है। इस फैक्ट्री के मालिक तिलक गांधी हैं। इस फैक्ट्री में एक फर्नेस लगी हुई है, संभवत उसी से ही यह आग लगी है। आग के मुख्य कारणों का विशेषज्ञों की जांच के बाद पता लग पाएगा। अब अग्निकांड का समय लगभग 12:30 बजे दोपहर को बताया जा रहा है।

फैक्ट्री में उस वक्त 50-60 मजदूरों की हाजिरी बताई जा रही थी है। भीड़ में खड़े लोगों का कहना है कि कुछ अंदर रह गए थे और कुछ बाहर निकल गए है। जिसे पश्चिमी बगल का अलग भवन समझा जा रहा था, वह इसी फैक्ट्री का दूसरा परिसर था। उसके दूसरे-तीसरे माले पर फंसे 15-20 लोगों को सुरक्षित वापस निकाल लिया गया है।

यह फैक्ट्री निश्चित ही एनआईटी 3 के आवासीय इलाके में चल रही है, यह भी जांच का विषय है, क्योंकि आवासीय इलाके में औद्योगिक गतिविधियों की अनुमति नहीं होती है। इस पूरी पट्टी में केवल यही फैक्ट्री नहीं, 4 दर्जन से ज्यादा व्यावसायिक और औद्योगिक प्रतिष्ठान हैं, जो नगर निगम की कार्यप्रणाली और बेतरतीब नगर नियोजन पर बड़ा सवाल है।

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More