HomeUncategorizedपेड़ पर चढ़कर पढ़ते है हरियाणा के इस गाँव के बच्चे जानिए...

पेड़ पर चढ़कर पढ़ते है हरियाणा के इस गाँव के बच्चे जानिए शिक्षा के कितनी मुसीबत झेल रहे है ।

Published on

पंचकूला के गांव मोरनी के बच्चे पढ़ने के लिए ले रहे है पेड़ का सहारा यह बच्चे कितनी तन्मययता से अपनी पढाई को पूरा कर रहे है यह इस लेख के जरिये हमने बताने की कोशिश की है

कहा जाता है की आज देश चाँद पर पहुंच गया है देश तकनीकी के मामले में भी बहुत आगे निकल गया है और यह ज़माना 4जी का है यानी की हर किसी के हाथ में मोबाइल और उसमे 4 जी डाटा जरूर मिलता है

पेड़ पर चढ़कर पढ़ते है हरियाणा के इस गाँव के बच्चे जानिए शिक्षा के कितनी मुसीबत झेल रहे है ।

वैसे महामारी के कारण स्कूली शिक्षा में बदलाब आये है स्टूडेंट्स की पढाई का नुकसान नहीं हो उसके लिए बच्चो को ऑनलाइन पढाई का प्रावधान सभी स्कूल में किया जा रहा है। .

लेकिन अभी भी कुछ ऐसे गांव है जो ऑनलाइन स्टडी से भी वंचित रह रहे है या फिर मुश्किलों के साथ पढ़ा जा रहा है। पंचकूला के मोरनी क्षेत्र ने कुछ ऐसे गांव है जहा मोबाइल नेटवर्क नहीं पहुँचता। हालाँकि यह बच्चे ऊँचे पहाड़ की चोटियों या फिर पेड पर चढ़ कर पढ़ाई करते है

पेड़ पर चढ़कर पढ़ते है हरियाणा के इस गाँव के बच्चे जानिए शिक्षा के कितनी मुसीबत झेल रहे है ।

यह गांव कोई किसी पिछड़े इलाके का नहीं बल्कि हरियाणा की राजधानी चण्डीग़ढ़ के पास के पंचकूला में ही है अब सोचिये की जहा से सरकार बैठकर पुरे देश की व्यवस्था को सँभालती है। अगर यह हाल है कि अगर व्यवस्था करने के वालो के क्षेत्र में यही हाल है

दरअसल यहां मोबाइल के जरिये ऑनलाइन स्टडी करने वाले स्ट्डेंस्ट एक विशेष क्षेत्र में इकठ्ठे होते है। जमींन पर नेटवर्क की समस्या होती है इस कारण किसी युवक या छात्र को पहले एक ऊँचे पेड़ की टहनी पर चढ़ता है

पेड़ पर चढ़कर पढ़ते है हरियाणा के इस गाँव के बच्चे जानिए शिक्षा के कितनी मुसीबत झेल रहे है ।

वहां पर पहुंचकर वह मोबाइल नेटवर्क के लिए हाथ को ऊपर उठता है और फिर जैसे नेटवर्क मिलता है व्हाट्सप्प पर जैसे ही उनके असाइनमेंट आता है फिर वो निचे उतरता है और फिर इसे बच्चे शेयर करते है बाद में इसके तरह ही होमवर्क सेंड किया जाता है

ग्रामीणों का कहना है की यह सिलसिला लम्बे समय तक चला आ रहा है वर्षो बाद भी मोबाइल नेटवर्क मोरनी में नहीं पहुचा है। मोरनी के गांव दापना के युवको ने बताया की पेड़ के निचे बैठकर अलग अलग क्लास के स्टडेंट वहां बैठते है और एक बच्चा पेड पर चढ़ कर उनको होमवर्क सुनाता है

Latest articles

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

More like this

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...