HomeGovernmentट्रैन की चपेट में आने से गवां रहे है लोग अपनी जान...

ट्रैन की चपेट में आने से गवां रहे है लोग अपनी जान ,जानिए जीआरपी की टीम ने क्या कहा…

Published on

यह साल 2020 पुरे विश्व के लिए संकटो का भरमार ले कर आया है।एक ऐसा बिन बुलाया मेहमान हमारे देश में आकर बैठ गया है जिसकी हमने कभी कल्पना भी नहीं की थी। एक ऐसा मेहमान जिसके आते ही परेशानियां एक काले साये की तरह अपना अड्डा जमाकर बैठ गयी।आये दिन शहर में कोई न कोई परेशानी आती रहती है। कभी बाढ़ की घटना कभी किसी के मरने की घटना सामने आती ही रहती है।

ट्रैन की चपेट में आने से गवां रहे है लोग अपनी जान ,जानिए जीआरपी की टीम ने क्या कहा...

लेकिन इसके किये केवल सरकार ज़िम्मेदार नहीं है,जनता भी उतनी ही जिम्मेदार है। कहते है की जब समय ख़राब होता है तो हर कदम फुक फुक कर रखना जाहिए लेकिन इस बात को जानने के बाद भी लोग अपनी सहयत का ख्याल नहीं रख रहे। अपनी जिंदगी को लेकर लापरवाही बरते हुए लोग कोरोना से बचाव के लिए कानून और नियमो का पालन नहीं कर रहे।

ट्रैन की चपेट में आने से गवां रहे है लोग अपनी जान ,जानिए जीआरपी की टीम ने क्या कहा...

इस साल हर वो घटना घट चुकी है जो नहीं जिसकी कभी किसी ने कल्पना भी नहीं की थी। कोरोना एक ऐसी वैश्विक महामारी है जिसकी चपेट में आने से हमारे देश के ग्रह मंत्री अमित शाह भी नहीं बच पाए। ऐसे और भी कई बड़े बड़े नेता है जो कोरोना जैसी वैश्विक महामारी की चपेट में आने से नहीं बच पाए। उसके बाबजूद भी आम जनता कोरोना जैसी वैश्विक महामारी को हलके में ले रही है। और इसके बचाव के लिए किसी भी नियमो का पालन नहीं कर रही है।

ट्रैन की चपेट में आने से गवां रहे है लोग अपनी जान ,जानिए जीआरपी की टीम ने क्या कहा...

कुछ ऐसा ही मंजर हमे बल्लभगढ़ रेलवे स्टेशन पर देखने को मिला जहा कोरोना जैसी वैश्विक महामारी से बचाव के लिए किसी भी नियमो का पालन नहीं किया जा रहा है। बल्लभगढ़ रेलवे स्टेशन पर लोग अपनी जान की परवाह न करते हुए सोशल डिस्टेंसिंग के नियमो की धज्जिया उड़ा रहे है।बल्ल्भगढ़ रिजर्वेशन टिकट घर में लोग ऐसे खड़े है जैसे उन्हें अपनी जान की कोई परवाह ही नहीं है।

और साथ रेलवे स्टेशन की पटरियों पर लोग बेखोफ होकर उनपर घूम रहे है । और अपनी जान गवाह रहे है।जीआरपी की टीम ने कहा की अपनी लापरवाही से लोग जान गवाह रहे है। कढ़े इंतजाम के बाद भी लोग कानून तोड़ कर पटरी पार करते है और अपनी जान गवा देते है।

Latest articles

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

More like this

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...